Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


ॐ ह्रीं केवलज्ञान कल्याणक प्राप्ताय श्री विमलनाथ जिनेन्द्राय नमः |

द्वादशांग

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

द्वादशांग -

ग्यारह अंग एवं चौदह पूर्वरूप श्रुत को द्वादशांग कहते हैं ।