वीर निर्वाण संवत 2544 सभी के लिए मंगलमयी हो - इन्साइक्लोपीडिया टीम

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


22 अक्टूबर को मुंबई महानगर पोदनपुर से पू॰ गणिनी ज्ञानमती माताजी का मंगल विहार मांगीतुंगी की ओर हो रहा है|

मांगीतुंगी

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

१०८ फुट उत्तुंग भगवान ऋषभदेव मूर्ति निर्माण स्थली मांगीतुंगी सिद्धक्षेत्र

Manitungi.jpg

मांगीतुंगी सिद्धक्षेत्र ९९ करोड़ महामुनियों की निर्वाणस्थली के रूप में विश्व प्रसिद्ध है, जिसे दक्षिण के लघु सम्मेदशिखर पर्वत के रूप में भी जैन समाज में मान्यता प्राप्त है। यह तीर्थ ९ लाख वर्ष पूर्व भगवान मुनिसुव्रतनाथ के तीर्थ काल से पूज्यता को प्राप्त है क्योंकि ९९ करोड़ महामुनियों ने जैनेश्वरी दीक्षा धारण करके दक्षिण भारत के इस पर्वत से कठोर तपश्चरण के साथ मोक्षधाम प्राप्त किया था। अत: तभी से सिद्धक्षेत्र के रूप में आज तक मांगीतुंगी सिद्धक्षेत्र की महिमा जन-जन के द्वारा गाई जाती है। इस पर्वतराज पर २ चूलिकाएँ हैं, जिनमें एक मांगीगिरि और दूसरी तुंगीगिरि के नाम से प्रसिद्ध है। इस पर्वत पर हजारों वर्ष प्राचीन जिनप्रतिमाएँ, यक्ष-यक्षणियों की मूर्तियाँ, शुद्ध-बुद्ध मुनिराज के नाम से दो गुफाओं में भगवान मुनिसुव्रतनाथ एवं भगवान नेमिनाथ की प्रतिमाएँ आदि विराजमान हैं। साथ ही तलहटी में भी भगवान पार्श्वनाथ जिनमंदिर, मूलनायक भगवान आदिनाथ जिनमंदिर, भगवान मुनिसुव्रतनाथ जिनमंदिर, मानस्तंभ आदि निर्मित हैं।

विशेषरूप से मांगीतुंगी सिद्धक्षेत्र के साथ पूज्य गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी का अभिन्न नाता जुड़ा हुआ है। सर्वप्रथम सन् १९९६ में १९ मई से २३ मई तक इस तीर्थ पर भगवान मुनिसुव्रतनाथ की २१ फुट उत्तुंग काले पाषाण की खड्गासन प्रतिमा का पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव अत्यन्त ऐतिहासिक रूप में पूज्य माताजी के सान्निध्य में सम्पन्न हुआ। इतिहास के अनुसार सन् १९४० में चारित्रचक्रवर्ती आचार्य श्री शांतिसागर जी महाराज एवं आचार्यकल्प मुनि श्री वीरसागर जी महाराज के ससंघ सान्निध्य में यहाँ मानस्तंभ की विशाल पंचकल्याणक प्रतिष्ठा सम्पन्न हुई थी पश्चात् इस दीर्घ अवधि के उपरांत पूज्य माताजी के सान्निध्य में सन् १९९६ में यहाँ उपरोक्त ऐतिहासिक पंचकल्याणक प्रतिष्ठा सम्पन्न हुई। इस प्रतिष्ठा महोत्सव में ६-६ फुट की २४ तीर्थंकर भगवन्तों की प्रतिमाएँ भी मंदिर प्रांगण में विराजमान की गईं । विशेषरूप से इस सिद्धभूमि पर तलहटी में पूज्य माताजी की प्रेरणा से सहस्रकूट जिनमंदिर का निर्माण भी किया गया है, जिसमें सुन्दर बने कमल पर चारों ओर अष्टधातुमय १००८ जिनप्रतिमाएं विराजमान हैं।

इसी के साथ सन् १९९६ में पूज्य माताजी ससंघ का चातुर्मास मांगीतुंगी जी में हुआ और उन्होंने मांगीतुंगी पर्वत पर अखण्ड पाषाण में भगवान ऋषभदेव की १०८ फुट उत्तुंग विशालकाय जिनप्रतिमा निर्माण की प्रेरणा प्रदान की। पूज्य माताजी की प्रेरणा के उपरांत समस्त सरकारी कार्यवाही पूर्ण करके ३ मार्च २००२ में पर्वत पर मूर्ति निर्माण हेतु शिलापूजन समारोह का भव्य आयोजन सानंद सम्पन्न हुआ। आज समाज के समक्ष इस मूर्ति निर्माण का कार्य इस चरम लक्ष्य पर आ गया है, जब हमारे समक्ष भगवान का चेहरा निखरकर आ चुका है , मूर्तिनिर्माण का कार्य लगभग पूर्ण हो चुका है और ११ फरवरी २०१६ से १७ फरवरी २०१६ तक इस मूर्ति का अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव समाज के समक्ष भव्य आयोजन के साथ सम्पन्न होने जा रहा है और १८ फ़रवरी से महामस्तकाभिषेक प्रारम्भ होगा ।

इस प्रकार मांगीतुंगी सिद्धक्षेत्र पर भगवान ऋषभदेव मूर्ति निर्माण आदि समस्त कार्यकलापों में पूज्य गणिनी श्री ज्ञानमती माताजी के साथ ही पूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी का भी सदैव सुन्दर मार्गदर्शन प्राप्त हुआ एवं पीठाधीश कर्मयोगी स्वस्तिश्री रवीन्द्रकीर्ति स्वामी जी के अतुलनीय योगदान से आज मांगीतुंगी सिद्धक्षेत्र को विश्व के महान तीर्थ के रूप में अद्वितीय स्थान प्राप्त हो रहा है। तीर्थ पर सदैव ही यात्रियों के लिए भोजनशाला, आवासीय धर्मशाला आदि समस्त आवश्यक सुविधाएँ उपलब्ध रहती हैं।