Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


दिव्यशक्ति ब्राह्मी-सुंदरी स्वरूपा गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल चातुर्मास अवध की धरती जन्मभूमि टिकैतनगर में 15-7-19 से प्रारंभ हुआ |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

मुख्यपृष्ठ

ENCYCLOPEDIA से
Editor (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित १०:२८, ७ फ़रवरी २०१९ का अवतरण

यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


जैन इनसाइक्लोपीडिया
जैन विश्वकोश
जैनधर्म के ज्ञान का महासागर


Diya.gif
आचार्य श्री शांतिसागर दीक्षा शताब्दी वर्ष
प्रमुख विषय


जैन धर्म· चौबीस तीर्थंकर भगवान· णमोकार महामंत्र· स्वाध्याय करें· गैलरी· जिनेन्द्र भक्ति· जैन तीर्थ ·



ज्योतिष-वास्तु एवं मंत्र विद्या· जैन भूगोल· जैन इतिहास· श्रावक संस्कार· ग्रन्थ भण्डार

आचार्य श्री शान्तिसागर काव्य कथानक


आचार्य श्री शान्तिसागर काव्य कथानक भाग-१
आचार्य श्री शान्तिसागर काव्य कथानक भाग-२
आचार्य श्री शान्तिसागर काव्य कथानक भाग-३
आचार्य श्री शान्तिसागर काव्य कथानक भाग-४

और देखें...


Ahimsa sammelan 2018 (18).jpg
आर्यिका दीक्षा दिवस


Bhi4071.jpg
श्री स्वर्णमती माताजी

पूर्व नाम - कु. दीपा जैन

जन्म दिनाँक - २७ मार्च १९७०, चैत्र कृष्णा चतुर्थी

जन्मस्थान - नजीबाबाद (जि.-बिजनौर) उ.प्र.

माता-पिता - श्रीमती सरोज जैन एवं श्री शीतल प्रसाद जैन, नजीबाबाद

शैक्षणिक योग्यता

  1. एम्.एस.सी. (बायोसाइंसेज-बायोटेक्नोलॉजी) : रुड़की विश्वविद्यालय (वर्तमान I.I.T);विशेष योग्यता सहित उत्तीर्ण (७८³ से अधिक अंक)
  2. एन.सी.ई.आर.टी. (NCERT) -दिल्ली में रिसर्च एसोसिएट (दो वर्ष हेतु)
  3. CPMT (Combined Pre Medical Test-U.P.), GATE (Graduate Aptitude Test in Engineering), Prelims of UPPCS (Provincial Civil Services UP) आदि परीक्षाएँ उत्तीर्ण कीं।

आजीवन ब्रह्मचर्य व्रत - १९ जुलाई १९८७, पूज्य गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी से (ब्र. कु. माधुरी शास्त्री -सम्प्रति पूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी की प्रेरणा से)

संघ में प्रवेश एवं दो प्रतिमा के व्रत - १९ अक्टूबर, १९९९

पूरा परिचय पढे़

आर्यिका दीक्षा की झलकियांँ
भाग-1

अन्य भाग देखने हेतू क्लिक करें

कुन्दकुन्द मणिमाला


गाथा - 1

परमपूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिकारत्न श्री चंदनामती माताजी द्वारा पारस चैनल के माध्यम से श्री कुंदकुंद मणिमाला का अध्ययन कराया जा रहा है । अतः पूज्य माताजी द्वारा पढ़ाई गई अब तक की गाथा के ऑडियो सुनने लिए इस लिंक को खोलें।

पुस्तक पढने के लिए क्लिक करें...

विश्व शांति केंद्र स्थापना


VisvaShantiKendraAyodhya.jpg
चातुर्मास योजना


Varshayog2019.jpg
Sawan2019parvas.jpg
समाचार


गणिनी प्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी संघ की दैनिक चर्या

  • प्रातः 5:00 बजे - उषा वंदना
  • प्रातः 5:15 बजे - योग प्राणायाम एवं ध्यान की क्लास (पूज्य प्रज्ञा श्रमणी आर्यिकारत्न श्री चंदनामती माताजी द्वारा)
  • प्रातः 6:00 से 7:00 - पारस चैनल के सीधे प्रसारण में भगवान का पंचामृत अभिषेक व पूज्य माता जी के प्रवचन
  • प्रातः 7:00 बजे - गुरु वंदना
  • प्रातः 7:45 बजे - तत्वार्थ सूत्र क्लास
  • प्रातः 9:30 बजे - संघ की आहार चर्या
  • मध्यान्ह 12:00 से 3:00 तक - सामयिक, विश्राम एवं निजी अध्ययन - स्वाध्याय
  • मध्यान्ह 3:00 से 4:00 बजे तक - गौतम गणधर वाणी का स्वाध्याय एवं आप्तमीमांसा की क्लास
  • मध्यान्ह 4:00 बजे से - बालक एवं बालिकाओं के लिए शिक्षाप्रद क्लास (बेसिक शिक्षा क्लास)
  • सांय 6:00 से 6:30 तक - प्रतिक्रमण एवं गुरु वंदना
  • रात्रि 8:00 बजे - मंगल आरती (भगवान एवं पूज्य माता जी की )
  • रात्रि 8:30 बजे - द्रव्य संग्रह की कक्षा (पूज्य स्वामी जी द्वारा )
  • रात्रि 9:00 बजे - बाल संघ, बालिका संघ, महिला मंडल के द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम / प्रतियोगिता आदि

विशेष

प्रत्येक रविवार को मध्यान्ह 3:00 बजे से बालक बालिकाओं को इंटरनेट पर जैन इनसाइक्लोपीडिया सिखाया जाएगा |

पवार पॉइंट प्रजेंटेशन


कुछ नए प्रजेंटेशन्स

सम्यग्ज्ञान पत्रिका


वर्ष-४५ (सन् २०१८-२०१९)

विदेशी शोधार्थीगण : सीखा जैन भूगोल


*जम्बूद्वीप-हस्तिनापुर पधारे विदेशी शोधार्थीगण : सीखा जैन भूगोल*
VideshiInHastinapur209.jpg

विदेश के विभिन्न विश्वविद्यालयों से जैनधर्म का अध्ययन करने हेतु अनेक शोधार्थियों ने दिनाँक 16-17 जुलाई 2019 को जम्बूद्वीप-हस्तिनापुर तीर्थ पधारकर जैन भूगोल की अद्वितीय रचनाओं-जम्बूद्वीप, तेरहद्वीप, तीन लोक तथा तीर्थ के समस्त जिनमंदिरों का दर्शन करके अत्यन्त हर्ष का अनुभव किया। उन्होंने जैनधर्म के अनुसार *पृथ्वी की संरचना, तीनलोक में नरक-स्वर्ग, सिद्ध स्थान तथा मनुष्य लोक की प्रत्यक्ष रचना देखकर जैन भूगोल को समझा।*👆

इंटरनेशनल समर स्कूल फॉर जैन स्टडीज के माध्यम से *इस अवसर पर लॉस एंजिल्स, हवाई, शिकागो, कोलम्बिया, जापान, कनाडा, जर्मनी, फ्लोरिडा, यू.एस.ए. आदि युनिवर्सिटी से शोधार्थीगण उपस्थित हुए।*👆

विशेषरूप से 16 जुलाई को सायंकाल सभी शोधार्थियों ने कमल मंदिर में विराजमान *भगवान महावीर स्वामी की आरती करके महान खुशी का अनुभव किया।*

इस अवसर पर जम्बूद्वीप संस्थान के मंत्री पं. विजय जैन साथ में पं. नरेश जैन, पं. वीरेन्द्र जैन आदि द्वारा पधारे सभी विदेशी अतिथियों का भावभीना स्वागत सत्कार करके आतिथ्य प्रदान किया गया। सभी शोधार्थियों को *टिकैतनगर में विराजमान गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ने परोक्ष से ही अपना मंगल आशीर्वाद भी प्रेषित किया।*

  • -डा. जीवनप्रकाश जैन, जंबूद्वीप*
वर्षायोग २०१९


Itihasik chaturmas.jpg
Tikaitnagar22July2019.jpg
गुरु पूर्णिमा विशेष


आचार्य वीरसागर जी महाराज
काव्य कथानक भाग - १

अन्य भाग देखें

वर्षायोग स्थापना के विषय में


वर्षायोग स्थापना कवर पेज

पुस्तक पढने हेतु यहाँ क्लिक करें

भगवान ऋषभदेव विश्वशांति वर्ष मनाएँ


भगवान ऋषभदेव विश्वशांति वर्ष मनाएँ

(चैत्र कृ. नवमी-१० मार्च २०१८ से चैत्र कृ. नवमी-२९ मार्च २०१९)
प्रेरणा-भारतगौरव दिव्यशक्ति शारदे माँ गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी
        
SAMYAKGYAN-20166 60.jpg
आज हम सभी वर्तमान विश्व में उपस्थित आतंकवाद, हिंसा, विनाश, अशांति, परस्पर शत्रुता, विद्वेष, बदला लेने की भावना आदि विकृतियों से ग्रसित हो रही मानवता को दृष्टिगत कर रहे हैं। ‘अहिंसामयी शाश्वत धर्म’ का शीतल जल ही इन अग्नि ज्वालाओं के उपशमन में सहयोगी हो सकता है, यही तीर्थंकर भगवन्तों की सदाकाल से देशना रही है। व्यक्तिगत एवं सामाजिक रूप से की गई धर्माराधना, मंत्रानुष्ठान, विधि-विधान भी सम्पूर्ण वातावरण को प्रभावित करके क्षेम-सुभिक्ष-शांति-सौहार्द की स्थापना करने में अत्यन्त कार्यकारी होते हैं, यह परम सत्य है।

      इन्हीं विश्वकल्याणकारी भावनाओं से ओतप्रोत होकर भारतगौरव, दिव्यशक्ति, परम उपकारी परमपूज्य गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ने ऋषभगिरि-मांगीतुंगी में विराजमान विश्व के सर्वाधिक उत्तुंग १०८ फुट भगवान ऋषभदेव के श्रीचरणों में स्थित होकर भगवान ऋषभदेव जन्मजयंती, चैत्र कृ. नवमी, १० मार्च २०१८ के पावन अवसर पर ‘भगवान ऋषभदेव विश्वशांति वर्ष’ मनाने की प्रेरणा प्रदान की है, जो आने वाली ऋषभ जयंती, चैत्र कृ. नवमी, २९ मार्च २०१९ तक हम सबको व्यक्तिगत शांति, सामाजिक शांति, राष्ट्रीय शांति एवं विश्वशांति हेतु जागृत होकर अपना-अपना योगदान प्रदान करने हेतु कटिबद्ध कर रहा है। आइये हम भी विश्वशांति के इस महा आयोजन में किसी न किसी रूप में अपना सहयोग प्रदान कर पुण्यलाभ प्राप्त करें।

विश्वशांति वर्ष मनाने की रूपरेखा-

(१) विश्वशांति हेतु जाप्य (मंत्र-ॐ ह्रीं विश्वशांतिकराय श्री ऋषभदेवाय नम:)
(२) भगवान ऋषभदेव मण्डल विधान
(३) णमोकार महामंत्र अथवा भक्तामर महास्तोत्र का अखण्ड पाठ (अपने समयानुसार)
(४) भगवान ऋषभदेव पर संगोष्ठी

पूरा पढ़ें...

आषाढ़ आष्टान्हिका पर विशेष प्रवचन


भजन


वीरा वीरा, श्री महावीरा

2457oo.jpg
वीरा वीरा, श्री महावीरा, मेरे अतिवीरा, सन्मति शुभ नाम है।

सारे जग का सितारा वर्धमान है।। टेक.।।
हिंसा की तांडव लीला जब, सारे जग में छाई थी।
कुण्डलपुर नगरी में त्रिशला, के घर बजी बधाई थी।।
सिद्धारथ का, मनसिज हरषा, हुई रतन की वर्षा।
वीरा वीरा, श्री महावीरा, मेरे अतिवीरा, सन्मति तेरा नाम है।
सारे जग का सितारा वर्धमान है।।१।।
चैत्र सुदी तेरस के दिन जब, जन्मकल्याणक आया था।
स्वर्गों से इन्द्रों ने आकर, उत्सव खूब मनाया था।।
ऐरावत पर, तुमको लाकर, चला इन्द्र सह परिकर।
वीरा तुमको, सुमेरू पर्वत, की पांडुशिला पर, किया विराजमान है।
जन्म अभिषव कर पुकारा तेरा नाम है।।२।।

पूरा पढ़े...

ज्ञानमती माताजी के चातुर्मास


भारत गौरव गणिनी प्रमुख आर्यिका शिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी के

दीक्षित जीवन के 67 चातुर्मास (1953-2019)

*वर्ष 1953 टिकैत नगर (उत्तर प्रदेश)

*वर्ष 1954 जयपुर (राजस्थान)

*वर्ष 1955 महेश्वर (महाराष्ट्र)

*वर्ष 1956 जयपुर (खानिया)

*वर्ष 1957 जयपुर (खानिया)

*वर्ष 1958 ब्यावर (राजस्थान)

*वर्ष 1959 अजमेर (राजस्थान)

*वर्ष 1960 सुजानगढ़ (राजस्थान)

*वर्ष 1961 सीकर (राजस्थान)

*वर्ष 1962 लाडनूं (राजस्थान)

*वर्ष 1963 कोलकाता (पश्चिम बंगाल)

*वर्ष 1964 हैदराबाद (आंध्र प्रदेश)

*वर्ष 1965 श्रवणबेलगोला (कर्नाटक)

*वर्ष 1966 सोलापुर (महाराष्ट्र)

*वर्ष 1967 सनावद (मध्य प्रदेश)

*वर्ष 1968 प्रतापगढ़ (राजस्थान)

*वर्ष 1969 जयपुर (राजस्थान)

*वर्ष 1970 टोंक (राजस्थान)

*वर्ष 1971 अजमेर (राजस्थान)

*वर्ष 1972 दिल्ली (पहाड़ी धीरज)

*वर्ष 1973 दिल्ली (नजफगढ़)

*वर्ष 1974 दिल्ली (लाल मंदिर)

*वर्ष 1975 हस्तिनापुर (प्राचीन मंदिर)

*वर्ष 1976 खतौली (उत्तर प्रदेश)

*वर्ष 1977 हस्तिनापुर (प्राचीन मंदिर)

*वर्ष 1978 हस्तिनापुर (प्राचीन मंदिर)

*वर्ष 1979 दिल्ली (मोरी गेट)

*वर्ष 1980 दिल्ली (कूचा सेठ)

*वर्ष 1981 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 1982 दिल्ली (मोदी धर्मशाला)

*वर्ष 1983 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 1984 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 1985 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 1986 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 1987 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 1988 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 1989 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 1990 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 1991 सरधना (उत्तर प्रदेश)

*वर्ष 1992 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 1993 अयोध्या (उत्तर प्रदेश)

*वर्ष 1994 टिकैतनगर (उत्तर प्रदेश)

*वर्ष 1995 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 1996 मांगी तुंगी (महाराष्ट्र)

*वर्ष 1997 दिल्ली (लाल मंदिर)

*वर्ष 1998 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 1999 दिल्ली (कनॉट प्लेस)

*वर्ष 2000 दिल्ली (प्रीत विहार)

*वर्ष 2001 दिल्ली (अशोक विहार)

*वर्ष 2002 प्रयाग इलाहाबाद (उत्तर प्रदेश)

*वर्ष 2003 कुंडलपुर-नालंदा (बिहार)

*वर्ष 2004 कुंडलपुर-नालंदा (बिहार)

*वर्ष 2005 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 2006 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 2007 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 2008 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 2009 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 2010 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 2011 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 2012 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 2013 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 2014 हस्तिनापुर (जंबूद्वीप)

*वर्ष 2015 मांगीतुंगी (महाराष्ट्र)

*वर्ष 2016 मांगीतुंगी (महाराष्ट्र)

*वर्ष 2017 मुंबई (महाराष्ट्र)

*वर्ष 2018 मांगीतुंगी (महाराष्ट्र)

*वर्ष 2019 टिकैतनगर (उ.प्र.)

चातुर्मास के विषय में पढ़ें

आज का दिन - २३ जुलाई २०१९ (भारतीय समयानुसार)


Icon.jpg तिथीदर्पण Icon.jpg

दिनाँक २३ जुलाई,२०१९
तिथी- श्रावण कृष्ण ६
दिन- मंगलवार
वीर निर्वाण संवत- २५४५
विक्रम संवत- २०७६

सूर्योदय ०५.५७
सूर्यास्त १९.०९


अथ श्रावण मास फल विचार


Calender.jpg



यदि दिनांक सूचना सही नहीं दिख रही हो तो कॅश मेमोरी समाप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें

अयोध्या विहार 2018


विहार की सभी फोटोज देखें
०-९ अं
परिमार्जित क्ष त्र ज्ञ श्र अः


कुल पृष्ठ- २८,३३८   •   देखे गये पृष्ठ- ९९,७१,६९९   •   कुल लेख- ८९०   •   कुल चित्र- 16,428




"http://hi.encyclopediaofjainism.com/index.php?title=मुख्यपृष्ठ&oldid=108904" से लिया गया