Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


President२०१८.jpgमहामहिम राष्ट्रपति श्री रामनाथ जी कोविंद का विश्वशांति अहिंसा सम्मलेन के उद्घाटन हेतु मंगल आगमन 22 अक्टूबर 2018 को ऋषभदेवपुरम में होगा |President२०१८.jpg

Diya.gif24 अक्टूबर 2018 को परम पूज्य गणिनी आर्यिकाश्री ज्ञानमती माताजी का 85वां जन्मदिन एवं 66वां संयम दिवस मनाया जाएगा ।Diya.gif

"राजेंद्र जैन के भजन" के अवतरणों में अंतर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
छो
छो
 
पंक्ति ९: पंक्ति ९:
 
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/41_CHLO_SIKHAR.mp3</html5media><br /><center>चलो शिखर जी के शिखरों पर </center>
 
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/41_CHLO_SIKHAR.mp3</html5media><br /><center>चलो शिखर जी के शिखरों पर </center>
 
|-
 
|-
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/42_PARAS_KA_KHJANA.mp3</html5media><br /><center>पारस का खजाना</center>
+
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/42_PARAS_KA_KHJANA.mp3</html5media><br /><center>सिद्ध क्षेत्र सम्मेद शिखर का दृश्य बड़ा सुहाना </center>
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/43_SIKHHR_JI_KO_PARNAME.mp3</html5media><br /><center>शिखर जी को परनाम</center>
+
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/43_SIKHHR_JI_KO_PARNAME.mp3</html5media><br /><center>शिखर जी को प्रणाम-पार्श्वनाथ को प्रणाम </center>
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/44_KASHI_ME_MDURIM.mp3</html5media><br /><center>काशी में मदुरिम</center>
+
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/44_KASHI_ME_MDURIM.mp3</html5media><br /><center>काशी में मधुरिम बधाई बजे </center>
 
|-
 
|-
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/45_IS_DUNIYA_AND.mp3</html5media><br /><center>इस दुनिया एंड</center>
+
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/45_IS_DUNIYA_AND.mp3</html5media><br /><center>इस दुनिया में पारस जैसा</center>
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/47_SAMED_SHIKHR.mp3</html5media><br /><center>सम्मेद शिखर</center>
+
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/47_SAMED_SHIKHR.mp3</html5media><br /><center>सम्मेद शिखर के कण कण में </center>
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/48_TESSH_CHOBISHI_ME.mp3</html5media><br /><center>तेस्श चोबीशी में</center>
+
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/48_TESSH_CHOBISHI_ME.mp3</html5media><br /><center>तीस चौबीसी में बसे </center>
 
|-
 
|-
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/49_AAO_AAO_SHIKHARJI.mp3</html5media><br /><center>आओ आओ शिखरजी</center>
+
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/49_AAO_AAO_SHIKHARJI.mp3</html5media><br /><center>आओ आओ जी सांवलिया पारसनाथ </center>
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/51_BADE_BABA_MERE.mp3</html5media><br /><center>बड़े बाबा मेरे</center>
+
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/51_BADE_BABA_MERE.mp3</html5media><br /><center>श्री आदिनाथ भगवान बड़े बाबा मेरे</center>
 
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/53_GURUDEV_DAYA_KARKE.mp3</html5media><br /><center>गुरुदेव दया करके</center>
 
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/53_GURUDEV_DAYA_KARKE.mp3</html5media><br /><center>गुरुदेव दया करके</center>
 
|-
 
|-
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/54_BANDO_PARM_AADISVRA.mp3</html5media><br /><center>बन्दों परम आदीश्वरा</center>
+
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/54_BANDO_PARM_AADISVRA.mp3</html5media><br /><center>बन्दों परम पद आदीश्वरा</center>
 
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/55_SUMPORN_NMOKAR_MANTHR.mp3</html5media><br /><center>सम्पूर्ण णमोकार मंत्र</center>
 
| <html5media>http://encyclopediaofjainism.com/mp3/55_SUMPORN_NMOKAR_MANTHR.mp3</html5media><br /><center>सम्पूर्ण णमोकार मंत्र</center>
 
|  
 
|  

१४:१९, ४ मार्च २०१७ के समय का अवतरण


मधुवन के मंदिरों में

डोली ले चले रे कहार

रंग रंगीला फाल्गुन आया

तुमसे लागी लगन

पारस नाथ जी के जयकारों से

चलो शिखर जी के शिखरों पर

सिद्ध क्षेत्र सम्मेद शिखर का दृश्य बड़ा सुहाना

शिखर जी को प्रणाम-पार्श्वनाथ को प्रणाम

काशी में मधुरिम बधाई बजे

इस दुनिया में पारस जैसा

सम्मेद शिखर के कण कण में

तीस चौबीसी में बसे

आओ आओ जी सांवलिया पारसनाथ

श्री आदिनाथ भगवान बड़े बाबा मेरे

गुरुदेव दया करके

बन्दों परम पद आदीश्वरा

सम्पूर्ण णमोकार मंत्र