Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


पूज्य गणिनी प्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ जम्बूद्वीप हस्तिनापुर में विराजमान हैं, दर्शन कर लाभ लेवें ।

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

०४९.भगवान महावीर का प्रथम आहार स्थान

ENCYCLOPEDIA से
ALKA JAIN (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित २१:४५, ३० जून २०१४ का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


भगवान महावीर का प्रथम आहार स्थान

अथ भट्टारकोप्यस्मादगात्कायस्थितिं प्रति।

कूलग्रामपुरीं श्रीमान् व्योमगामिपुरोपमम्।।३१८।।'

अथानन्तर पारणा के दिन वे भट्टारक महावीरस्वामी आहार के लिए वन से निकले और विद्याधरों के नगर के समान सुशोभित कूलग्राम नाम की नगरी में पहॅुंचे। (उत्तरपुराण,पर्व-७४,पृ॰ ४६४)