Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


डिप्लोमा इन जैनोलोजी कोर्स का अध्ययन परमपूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी द्वारा प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक प्रतिदिन पारस चैनल के माध्यम से कराया जा रहा है, अतः आप सभी अध्ययन हेतु सुबह 6 से 7 बजे तक पारस चैनल अवश्य देखें|

१८ अप्रैल से २३ अप्रैल तक मांगीतुंगी सिद्धक्ष्रेत्र ऋषभदेव पुरम में इन्द्रध्वज मंडल विधान आयोजित किया गया है |

२५ अप्रैल प्रातः ६:४० से पारस चैनल पर पूज्य श्री ज्ञानमती माताजी के द्वारा षट्खण्डागम ग्रंथ का सार प्रसारित होगा |

12. हस्तिनापुर तीर्थ पूजा

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हस्तिनापुर तीर्थ पूजा

रचयित्री-गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी
Shantinath.jpg
Kunth.jpg
Arah.jpg
स्थापना-गीता छंद
Cloves.jpg
Cloves.jpg

श्री शांति कुन्थु अर जिनेश्वर, जन्म ले पावन किया।
दीक्षा ग्रहण कर तीर्थ यह, मुनिवृन्द मन भावन किया।।
निज ज्ञान ज्योति प्रकट कर, शिवमार्ग को प्रकटित किया।
इस हस्तिनापुर क्षेत्र को, मैं पूजहूँ हर्षित हिया।।

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिनाथकुंथुनाथअरनाथजन्मभूमिहस्तिनापुर-तीर्थक्षेत्र! अत्र अवतर अवतर संवौषट् आह्वाननं।
ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिनाथकुंथुनाथअरनाथजन्मभूमिहस्तिनापुर-तीर्थक्षेत्र! अत्र तिष्ठ तिष्ठ ठः ठः स्थापनं।
ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिनाथकुंथुनाथअरनाथजन्मभूमिहस्तिनापुर-तीर्थक्षेत्र! अत्र मम सन्निहितो भव भव वषट् सन्निधीकरणं।

Jal.jpg
Jal.jpg

अष्टक (चामर छंद)
तीर्थ रूप शुद्ध स्वच्छ सिंधु नीर लाइये।
गर्भवास दुःखनाश तीर्थ को चढ़ाइये।।
हस्तिनापुरी पवित्र तीर्थ अर्चना करूँ।
तीर्थनाथ पाद की सदैव वंदना करूँ।।१।।

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिकुंथुअरनाथजन्मभूमिहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय जन्मजरामुत्युविनाशनाय जलं निर्वपामीति स्वाहा।

Chandan.jpg
Chandan.jpg

कुन्थुकुमादि अष्ट गंध लेय तीर्थ पूजिये।
राग आग दाह नाश पूर्ण शांत हूजिये।।हस्तिनापुरी०।।२।।

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिकुंथुअरनाथजन्मभूमिहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय संसारतापविनाशनाय चन्दनं निर्वपामीति स्वाहा।

चन्द्र तुल्य श्वेत शालि पुंज को रचाइये।
देह सौख्य छोड़ आत्म सौख्य पुंज पाइये।।
हस्तिनापुरी पवित्र तीर्थ अर्चना करूँ।
तीर्थनाथ पाद की सदैव वंदना करूँ।।३।।

Akshat 1.jpg
Akshat 1.jpg

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिकुंथुअरनाथजन्मभूमिहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय अक्षयपदप्राप्तये अक्षतं निर्वपामीति स्वाहा।

कुंद केतकी गुलाब वर्ण वर्ण के लिये।
मार मल्लहारि तीर्थक्षेत्र को चढ़ा दिये।।हस्तिनापुरी०।।४।।

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिकुंथुअरनाथजन्मभूमिहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय कामबाणविनाशनाय पुष्पं निर्वपामीति स्वाहा।

Pushp 1.jpg
Pushp 1.jpg

खीर पूरिका इमर्तियाँ भराय थाल में।
तीर्थ क्षेत्र पूजते क्षुधा महाव्यथा हने।।हस्तिनापुरी०।।५।।

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिकुंथुअरनाथजन्मभूमिहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय क्षुधारोगविनाशनाय नैवेद्यं निर्वपामीति स्वाहा।

Sweets 1.jpg
Sweets 1.jpg

दीप में कपूर ज्योति अंधकार को हने।
आरती करंत अंतरंग ध्वांत को हने।।हस्तिनापुरी०।।६।।

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिकुंथुअरनाथजन्मभूमिहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय मोहांधकार- विनाशनाय दीपं निर्वपामीति स्वाहा।

Diya 3.jpg
Diya 3.jpg

धूप गंध लेय अग्नि पात्र में जलाइये।
मोह कर्म भस्म को उड़ाय सौख्य पाइये।।हस्तिनापुरी०।।७।।

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिकुंथुअरनाथजन्मभूमिहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय अष्टकर्मदहनाय धूपं निर्वपामीति स्वाहा।

Dhoop 1.jpg
Dhoop 1.jpg

मातुलिंग आम्र सेब संतरा मंगाइये।
तीर्थ पूजते हि सिद्धि संपदा सुपाइये।।हस्तिनापुरी०।।८।।

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिकुंथुअरनाथजन्मभूमिहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय मोक्ष-फलप्राप्तये फलं निर्वपामीति स्वाहा।

Almonds.jpg
Almonds.jpg

नीर गंध अक्षतादि अघ्र्य को बनाइये।
‘‘ज्ञानमति’’ सिद्धि हेतु तीर्थ को चढ़ाइये।।हस्तिनापुरी०।।९।।

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिकुंथुअरनाथजन्मभूमिहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय अनघ्र्यपदप्राप्तये अघ्र्यं निर्वपामति स्वाहा।

Arghya.jpg
Arghya.jpg

(इति मण्डलस्योपरि द्वादशमदले पुष्पांजल् क्षिपेत्)
प्रत्येक अघ्र्य (रोला छंद)

भादों कृष्णा पाख, सप्तमि तिथि शुभ आई।
गर्भ बसे प्रभु शांति, सब जन मन हरषाई।।
इन्द्र सुरासुर संग, उत्सव करते भारी।
हम पूजें धर प्रीति, तीरथ रज सुखकारी।।१।।

By795.jpg
By795.jpg

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिनाथगर्भकल्याणक पवित्रहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय अघ्र्यं निर्वपामीति स्वाहा।

जन्म लिया प्रभु शांति, ज्येष्ठ वदी चौदस में।
सुरगिरि पर अभिषेक, किया सभी सुरपति ने।।
शांतिनाथ यह नाम, रखा शांतिकर जग में।
हम नावें निजमाथ, जिनवर चरण कमल में।।२।।

By796.jpg
By796.jpg

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिनाथजन्मकल्याणक पवित्रहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय अघ्र्यं निर्वपामीति स्वाहा।

दीक्षा ली प्रभु शांति, ज्येष्ठ वदी चौदस के।
लौकांतिक सुर आय, बहु स्तवन उचरते।।
इंद्र सपरिकर आय, तपकल्याणक करते।
गजपुर अघ्र्य चढ़ाय, हम दुख संकट हर लें।।३।।

By798.jpg
By798.jpg

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिनाथदीक्षाकल्याणक पवित्रहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय अघ्र्यं निर्वपामीति स्वाहा।

केवलज्ञान विकास, पौष सुदी दशमी के।
समवसरण में नाथ, राजें अधर कमल पे।।
इन्द्र करें बहु भक्ति, बारह सभा बनी हैं।
अघ्र्य चढ़ावें भव्य, हस्तिनापुर नगरी है।।४।।

By797.jpg
By797.jpg

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिनाथकेवलज्ञानकल्याणक पवित्रहस्तिनापुर-तीर्थक्षेत्राय अघ्र्यं निर्वपामीति स्वाहा।

दोहा
श्रावण वदि दशमी तिथि, कुंथु गर्भकल्याण।
इन्द्र हस्तिनापुरि नमें, मैं पूजूँ वह थान।।५।।

By795.jpg
By795.jpg

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीकुंथुनाथगर्भकल्याणक पवित्रहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय अघ्र्यं निर्वपामीति स्वाहा।

एकम सित वैशाख की, जन्मे कुंथु जिनेश।
मैं पूजूं वह जन्म भू, नमन करूँ सिर टेक।।६।।

By796.jpg
By796.jpg

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीकुंथुनाथजन्मकल्याणक पवित्रहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय अघ्र्यं निर्वपामीति स्वाहा।

सित एकम वैशाख की, दीक्षा ली जिनदेव।
वही हस्तिनापुर जजूँ, करूँ कुंथु प्रभु सेव।।७।।

By798.jpg
By798.jpg

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीकुंथुनाथदीक्षाकल्याणक पवित्रहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय अघ्र्यं निर्वपामीति स्वाहा।


चैत्र शुक्ल तिथि तीज में, प्रगट हुआ जहाँ ज्ञान।
हस्तिनापुर की वह धरा, पूजूँ हो कल्याण।।८।।

By797.jpg
By797.jpg

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीकुंथुनाथकेवलज्ञानकल्याणक पवित्रहस्तिनापुर-तीर्थक्षेत्राय अघ्र्यं निर्वपामीति स्वाहा।

सखी छन्द
फाल्गुन कृष्णा तृतीया में, अर जिनवर गर्भ बसे थे।
जहाँ सुरपति उत्सव कीना, हम पूजें भवदुख हीना।।९।।

By795.jpg
By795.jpg

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीअरनाथगर्भकल्याणक पवित्रहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय अघ्र्यं निर्वपामीति स्वाहा।

मगशिर शुक्ला चौदश के, जहाँ जन्में प्रभु सुर हर्षे।
उस हस्तिनापुर की अर्चा, हम करें सदा प्रभु चर्चा।।१०।।

By796.jpg
By796.jpg

ॐ ह्रीं तीर्थकरश्रीअरनाथजन्मकल्याणक पवित्रहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय अघ्र्यं निर्वपामीति स्वाहा।

मगशिर सुदि दशमी तिथि में, दीक्षा धारी प्रभु वन में।
इन्द्रों से पूजा पाई, वह तीर्थ जजूँ सुखदाई।।११।।

By798.jpg
By798.jpg

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीअरनाथदीक्षाकल्याणक पवित्रहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय अघ्र्यं निर्वपामीति स्वाहा।

कार्तिक सुदि बारस तिथि में, केवल रवि पाया प्रभु ने।
बारह गण को उपदेशा, हम पूजें भक्ति समेता।।१२।।

By797.jpg
By797.jpg

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीअरनाथकेवलज्ञानकल्याणक पवित्रहस्तिनापुरतीर्थ-क्षेत्राय अघ्र्यं निर्वपामीति स्वाहा।

पूर्णाघ्र्य (शंभु छंद)
जहाँ तीर्थंकरत्रय कामदेव, चक्री पद के धारी जन्मे।
छहखण्ड जीत कर हस्तिनापुर, है नगरी के राजा वे बने।।
उस भू पर उनके चार-चार, कल्याणक इन्द्र मनाते थे।
वह तीर्थ जजूँ पूर्णाघ्र्य चढ़ा, जिसकी महिमा सुर गाते थे।।१३।।

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिनाथकुंथुनाथअरनाथजिनेन्द्र गर्भजन्मदीक्षाकेवलज्ञान-चतुःचतुःकल्याणकपवित्रहस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय पूर्णाघ्र्यं निर्वपामीति स्वाहा।
शांतये शांतिधारा, दिव्य पुष्पांजलिः।
जाप्य मंत्र-ॐ ह्रीं हस्तिनापुरजन्मभूमिपवित्रीकृत श्रीशांतिकुंथुअर-जिनेन्द्रेभ्यो नमः।

Jaap.JPG
Jaap.JPG
जयमाला

दोहा
समवसरण में राजते, ज्ञान ज्योति से पूर्ण।
शांति कुंथु अर नाथ को, पूजत ही दुःख चूर्ण।।१।।

शंभु छंद

श्री आदिनाथ को सर्व प्रथम, इक्षुरस का आहार दिया।
श्रेयांस नृपति ने यहाँ तभी से, दान तीर्थ यह मान्य हुआ।।
देवों ने पंचाश्चर्य किया, रत्नों की वर्षा खूब हुई।
वैशाख सुदी अक्षय तृतिया, यह तिथि भी सब जग पूज्य हुई।।२।।

श्री शांति कुंथु अर तीर्थंकर, इन तीनों के इस तीरथ पर।
हुए गर्भ जन्म तप ज्ञान चार, कल्याणक इस ही भूतल पर।।
अगणित देवी-देवों के संग, सौधर्म इन्द्र तब आये थे।
अतिशय कल्याणक पूजा कर, भव भव के पाप नशाये थे।।३।।

आचार्य अवंपन के संघ में, मुनि सात शतक जब आये थे।
उन पर बलि ने उपसर्ग किया, तब जन जन मन अकुलाये थे।।
श्री विष्णुकुमार मुनीश्वर ने, उपसर्ग दूर कर रक्षा की।
रक्षाबंधन का पर्व चला, श्रावण सुदि पूनम की तिथि थी।।४।।

Vandana 1.jpg
Vandana 1.jpg

गंगा में गज को ग्राह ग्रसा, तब सुलोचना ने मंत्र जपा।
द्रौपदी सती का चीर बढ़ा, सतियों की प्रभु ने लाज रखा।।
श्रेयांस सोमप्रभ जयकुमार, आदीश्वर के गणधर होकर।
शिव गये अन्य नरपुंगव भी, पांडव भी हुए इसी भू पर।।५।।

राजा श्रेयांस ने स्वप्ने में, देखा था मेरु सुदर्शन को।
सो आज यहाँ तेरानवे फुट, उत्तुंग सुमेरु बना अहो।।
यह जंबूद्वीप बना सुन्दर, इसमें अठत्तर जिन मंदिर।
इक सौ तेईस हैं देवभवन, उसमें भी जिन प्रतिमा मनहर।।६।।

जो भक्त भक्ति में हो विभोर, इस जम्बूद्वीप में आते हैं।
उत्तुंग सुमेरु पर चढ़कर, जिन वंदन कर हर्षाते हैं।।
फिर सब जिनगृह को अर्घ चढ़ा, गुण गाते गद्गद हो जाते।
वे कर्म धूलि को दूर भगा, अतिशायी पुण्य कमा जाते।।७।।

श्री आदिनाथ, भरतेश और, बाहुबलि तीन मूर्ति अनुपम।
श्री शांति कुंथु अर चक्रीश्वर, तीर्थंकर की मूर्ति निरुपम।।
वर कल्पवृक्ष महावीर प्रभू का, जिनमंदिर अतिशोभित है।
यह कमलाकार बना सुन्दर, इसमें जिनप्रतिमा राजित है।।८।।

जय शांति कुंथु अर तीर्थेश्वर, जय इनके पंचकल्याणक की।
जय जय हस्तिनापुर तीर्थक्षेत्र, जय जय हो सम्मेदाचल की।।
जय जंबूद्वीप तेरहों द्वीप, नंदीश्वर के जिन भवनों की।
जय भीम, युधिष्ठिर, अर्जुन और, सहदेव नकुल पांडव मुनि की।।९।।

दोहा
तीर्थक्षेत्र की अर्चना, हरे सकल दुख दोष।
‘‘ज्ञानमती’’ सम्पत्ति दे, भरे आत्म सुखकोष।।१०।।

ॐ ह्रीं तीर्थंकरश्रीशांतिकुंथुअरनाथजन्मभूमि हस्तिनापुरतीर्थक्षेत्राय जयमाला पूर्णाघ्र्यम् निर्वपामीति स्वाहा।
शान्तये शांतिधारा, दिव्य पुष्पांजलिः।

गीता छन्द-जो भव्य प्राणी जिनवरों की, जन्मभूमि को नमें।
  तीर्थंकरों की चरणरज से, शीश उन पावन बनें।।
  कर पुण्य का अर्जन कभी तो, जन्म ऐसा पाएंगे।
 तीर्थंकरों की शृँखला में, चन्दना वे आएंगे।।
इत्याशीर्वादः पुष्पांजलिः।

Vandana 2.jpg