Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


डिप्लोमा इन जैनोलोजी कोर्स का अध्ययन परमपूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी द्वारा प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक प्रतिदिन पारस चैनल के माध्यम से कराया जा रहा है, अतः आप सभी अध्ययन हेतु सुबह 6 से 7 बजे तक पारस चैनल अवश्य देखें|

१८ अप्रैल से २३ अप्रैल तक मांगीतुंगी सिद्धक्ष्रेत्र ऋषभदेव पुरम में इन्द्रध्वज मंडल विधान आयोजित किया गया है |

२५ अप्रैल प्रातः ६:४० से पारस चैनल पर पूज्य श्री ज्ञानमती माताजी के द्वारा षट्खण्डागम ग्रंथ का सार प्रसारित होगा |

14. चक्रवर्ती सुभौम का संक्षिप्त परिचय

ENCYCLOPEDIA से
Jainudai (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित २१:१६, ८ जुलाई २०१७ का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चक्रवर्ती सुभौम का संक्षिप्त परिचय

जन्मभूमि - हस्तिनापुर

पिता - राजा कार्तवीर्य

माता - तारादेवी

नाम - सुभौम कुमार

पोषण स्थल - कौशिक ऋषि के आश्रम के तल घर में पालनपोषण।

चक्र उत्पत्ति - थाली द्वारा चक्ररत्न का प्रादुर्भाव।

लौकिकपद - अष्टम चक्रवर्ती

कार्य - जमदग्नि के पुत्र परशुराम का वध, इक्कीस बार पृथ्वी को ब्राह्मण रहित करना

आयु - साठ हजार वर्ष ऊँचाई-२८ धनुष (११२ हाथ)

मरण निमित्त - णमोकार मंत्र के अपमान से ज्योतिष्क देव द्वारा मरण

परलोक गमन - सप्तम नरक प्राप्ति

अन्तराल - अरनाथ तीर्थंकर के बाद दो सौ करोड़ वर्ष के अनंतर