आदिनाथ भगवान

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आदिनाथ भगवान २४ तीर्थंकर में से प्रथम तीर्थंकर है|आदिनाथ भगवान ने 1 वर्ष 39 दिन का योग निरोध लिया था| 1 वर्ष 39 दिन के पश्चात हस्तिनापुर के श्रेयांस रानी सोमप्रभ के द्वारा विधि मिलने पर पड़गाहन हुवा| राजा श्रेयांस रानी सोमप्रभ ने प्रथम आहार इक्षु रस का दिया| तभी से यह अक्षय तृतीया पर्व मनाया जाता है|