दर्शनविशुद्धि

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दर्शनविशुद्धि
Purity of right faith. 16 कारण भावना में पहली भावना सम्यग्दर्शन को अत्यन्त निर्मल व दृढ़ हो जाना। इसके होने पर ही तीर्थंकर प्रकृति का बंध संभव है।