दर्शन विशुद्धि व्रत

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दर्शन विशुद्धि व्रत
A Jaina vow (fasting) with particular procedure. औपशमिकादि तीनों सम्यत्तवों के आठ अंगों की अपेक्षा 24 अंग के एक उपवास एक पारणा के क्रम से 24 उपवास करना एंव णमोकार मंत्र का जाप करना।