दवाइयां देख भालकर ही लें

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


दवाइयां देख भालकर ही लें

कई बार रखी हुई दवाइयां महीनों और वर्षों तक पड़ी रहती हैं और उनके कवर पर उनकी एक्सपायरी डेट भी न होने से या किसी कारण से नहीं पड़ी जा सकती है। यदि इन गोलियों का रंग पीला हो गया है या उन में से सिरके जैसी बदबू आ रही हो तो कदापि न लें। यह आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकता है। जो कैप्सूल बाहर से मुलायम पड़ गए हों और जो गोलियां चटक गयी हों या उन पर पपड़ी सी जम गई हो, उन्हें कदापि न लें। जो सीरप या पीने की दवाई की बोतल ज्यादा समय से पड़ी हो या कम से कम दो महीने तक पड़ी हो तो उन्हें भी न लें। आंख या कान में डालने वाली दवाई ढक्कन खोलने के बाद एक महीने की बची हो तो उसे भी न लें। यह थोड़ी सी कंजूसी शायद ज्यादा रूपए भी खर्च करवा सकती है।