४. दशवें से चौदहवें गुणस्थान तथा सिद्ध अवस्था तक प्ररूपणाओं का वर्णन ( चार्ट सहित )

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज