दिगम्बराचार्य गुरु सबसे बड़े वैद्य हैं

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


दिगम्बराचार्य गुरु सबसे बड़े वैद्य हैं

वेज्जादुरभेसज्जापरिचारय संपदा जहारोग्गं।

गुरुसिस्सरयण साहण संपत्तीए तहा मोक्खो।।
आइरिओ वि य वेज्जो सिस्सो रोगी दु भेसजं चरिया।

खेत्त बल काल पुरिसं पाऊण सणिं दढं कुज्जा।।

अर्थ -जैसे वैद्य, रोगी, औषधि और परिचारक के संयोग से आरोग्य होता है वैसे ही गुरु, शिष्य, रत्नत्रय और साधन के संयोग से मोक्ष होता है। आचार्य वैद्य हैं, शिष्य रोगी है, औषधि चर्या है। इन्हें तथा क्षेत्र, बल, काल और पुरुष को जानकर धीरे-धीरे इनमें दृढ़ करे। आचार्य देव वैद्य हैं, शिष्य रोगी हैं, औषधि निर्दोष भिक्षा चर्या है, शीत, उष्ण आदि सहित प्रदेश क्षेत्र हैं, शरीर की सामथ्र्य आदि बल है, वर्षा आदि काल हैं एवं जघन्य, मध्यम तथा उत्कृष्ट भेद रूप पुरुष होते हैं। इन सभी को जानकर आकुलता के बिना आचार्य शिष्य को चर्यारूपी औषधि का प्रयोग कराये ठीक उसी प्रकार जिस प्रकार वैद्य रोगी को आरोग्य हेतु औषधि प्रयोग कराकर स्वस्थ कर देता है|


-मूलाचार-श्री वट्टकेराचार्य