भगवान नेमिनाथ जन्मभूमि शौरीपुर तीर्थक्षेत्र चालीसा

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भगवान नेमिनाथ जन्मभूमि शौरीपुर तीर्थक्षेत्र चालीसा

 

Teerthankar janmbhuumi darshan047.jpg

-दोहा-
तीर्थंकर प्रभु नेमि का, पावन जन्मस्थान |
शौरीपुर जी तीर्थ को, शत-शत करूं प्रणाम ||१||
चालीसा इस भूमि का, जग में हो सुखकार |
भक्ति भाव से तुम जजो, शौरीपुर गिरनार ||२||
-चौपाई-
शौरीपुर जी तीरथ प्यारा, यहाँ का सुन्दर अजब नजारा ||१||
बाइसवें तीर्थंकर स्वामी, नेमीनाथ जगत में नामी ||२||
जिला आगरा है यू. पी. में, यमुना के तट बसा तीर्थ ये ||३||
सिद्धक्षेत्र भी यह कहलाया, कई मुनी निर्वाण को पाया ||४||
कई करोड़ों वर्ष पूर्व में, नेमिनाथ जिनवर थे जन्मे ||५||
कार्तिक सुदि छठ गर्भकल्याणक,महका मात शिवा का आँगन ||६||
समुद्रविजय राजा के महल में , पन्द्रह मास रतन थे बरसे ||७||
इन्द्र सपरिकर स्वर्ग से आया, प्रभु का गर्भकल्याणक मनाया ||८||
श्रावण सुदि छठ जिनवर जन्मे, तब त्रैलोक्य समूचा हरषे ||९||
दो कल्याणक हुए यहाँ पर, दीक्षा ली प्रभु ऊर्जयन्तगिरि ||१०||
बाल ब्रह्मचारी कहलाए, उनके पद हम शीश झुकाएं ||११||
तीन कल्याणक श्री गिरनारा , तप अरु ज्ञान मोक्षकल्याणा ||१२||
शौरीपुर में है इक पर्वत, नाम गंधमादन है सुन्दर ||१३||
सुप्रतिष्ठ मुनिराज ध्यानरत ,घोरोपसर्ग परीषह सहकर ||१४||
अविचल ध्यानारूढ अवस्था , केवलज्ञान यहीं पर प्रगटा ||१५||
अन्धकवृष्टि व भोजकवृष्टी , इन्हीं केवली पद दीक्षा ली ||१६||
निष्ठसेन नृप के इक सुत थे, नाम ‘धन्य’ था मुनि दीक्षा ले ||१७||
ध्यानलीन यमुना के तट पर , उधर से निकला नृप शौरीपुर ||१८||
नहिं शिकार जब उसने पाया , मुनि को अपना लक्ष्य बनाया ||१९||
बाणों से मुनि को बींधा था, मुनि को शुक्लध्यान प्रगटा ||२०||
कर्म नाश शिवपद को पाया, इन्द्र ने मोक्ष्कल्याण मनाया ||२१||
अलसत नामा एक मुनी थे, यहीं से शिवपद प्राप्त किए थे ||२२||
प्रभु महावीर काल में यम मुनि ,अन्तःकृत बन गए केवली ||२३||
पुनः यहीं से मोक्ष गए हैं ,ऐसे कई इतिहास भरे हैं ||२४||
दानी कर्ण यहीं पर जन्में , लोकचन्द्र आचार्य यहीं के ||२५||
जैन न्याय का ग्रन्थ अनुपमा, प्रभाचन्द्र आचार्य यहीं के ||२६||
नाम प्रमेयकमलमार्तंड है , अति समृद्ध प्राचीन तीर्थ है ||२७||
अनुश्रुति से सुनने में आया, यहाँ हीरानग मुद्रा पाया ||२८||
कई दिगंबर मूर्ति मिली हैं, भट्टारक गद्दी भी रही है ||२९||
घटना उन्नीसवीं सदी की, उनकी सिद्धि से जनता खुश थी ||३०||
है ये दिगंबर तीर्थ पुराना, लोगों का रहता नित आना ||३१||
मुंडनादि संस्कार कराते, चमत्कार भी कई बताते ||३२||
श्री जिनेन्द्रभूषण भट्टारक, मन्त्र के वेत्ता सिद्ध पुरुष थे ||३३||
उनके चमत्कार की महिमा, अब भी प्रचलित हैं जन-जन मा ||३४||
शौरीपुर जी और बटेश्वर , वर्तमान में अलग दो तीरथ ||३५||
तीर्थ बटेश्वर में जिनमंदिर, कटने लगा था जब यमुना तट ||३६||
भट्टारक जी ने बनवाया, अजितनाथ प्रतिमा पधराया ||३७||
जल्हड़ प्राण प्रतिष्ठा करते , हम सब इस तीरथ को नमते ||३८||
ज्ञानमती माँ यहाँ पधारीं , दिया तीर्थ योजना जो न्यारी ||३९||
जन्मभूमि को मेरा वंदन, शुभ भावांजलि प्रभु को अर्पण ||४०||
-शम्भु छंद –
जिन जन्मभूमि का चालीसा, जो चालिस दिन तक पढते हैं|
श्री नेमिनाथ की पावन भू को, श्रद्धायुत हो जजते हैं ||
अतिशायी कार्य सफल ‘इंदू’ इच्छित फल सबको मिल जाता |
आत्मा परमात्म स्वरूप लहे, निज आत्म तीर्थ को प्रगटाता ||१||

Vandana 2.jpg

तीर्थंकर जन्मभूमि चालीसा