यूजर के दिमाग पर बहुत बुरा प्रभाव डाल रहा है फेसबुक

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यूजर के दिमाग पर बहुत बुरा प्रभाव डाल रहा है फेसबुक

आज के समय में यदि कोई इंटरनेट इस्तेमाल करना जानता है तो उसका सोशल नेटवकिग साइट फेसबुक पर यूजर अकाउंट होना आम बात है। लोग आमतौर पर इस साइट का इस्तेमाल करते हैं, और कुछ तो घंटों तक लगे रहते हैं। फेसबुक का इस्तेमाल ना सिर्फ मनोरंजन बल्कि जानकारी पाने व बांटने के लिए भी किया जाता है, जिसके फलस्वरूप लोग अनचाही चीजें भी शेयर करते हैं। हाल ही में इटली में एक शोध किया गया है जिसके मुताबिक यह साबित किया गया है कि फेसबुक पर डाली गई दुखद जानकारी लोगों के दिमांग पर बुरा असर करती है। बलात्का, शोषण, हिंसा इत्यादि जैसी चीजों को आए दिन फेसबुक पर देखने से हमारे मस्तिष्क पर गहरा प्रभाव पड़ता है।

इटली में शोधकर्ताओं ने कुल ५०,००० लोगों को अपने शोध का हिस्सा बनाया। ये वो लोग हैं जो फेसबुक का इस्तेमाल करते हैं। इस शोध के बाद यह साबित किया गया कि फेसबुक इस्तेमाल करने वाले यूजर्स को ऑनलाइन पर कई ऐसी चीजें मिलती हैं जो उनके व्यवहार में बदलाव लाती हैं व कई बार इससे उनका स्वभाव दुखी व गुस्सैल भी हो जाता है। इतना ही नहीं, लोग अपने दोस्तों पर भी विश्वास करना कम कर देते हैं। शोधकर्ताओं का कहना है कि यदि ऐसा ही चलता रहा तो इसे यूजर्स के स्वभाव व आत्मविश्वास पर गहरा असर पड़ता है। उन्होंने यह सुझाव दिया कि ऐसे में सोशल नेटवकिग साइट्स को इस तरह के कंटेंट का विरोध करना चाहिए व इस पर कुछ सख्त नियम लागू करने चाहिए ।

इटली में किया गया सोशल नेटवकिग साइट्स पर यह पहला शोध नहीं है बल्कि इससे पहले भी कई शोध हो चुके हैं। जिससे साबित हुआ है कि इन वेबसाइट की वजह से लोगों की जिंदगी से खुशी भी कम होती जा रही है।


युगराज जैन
युग प्रवाह, पाक्षिक
१६ से ३१ अक्टुबर, २०१४