रत्नवृश्टि

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रत्नवृश्टि - रत्नवर्शा तीर्थकरों के गर्भावस्था में आने के 6 महीने पहले से जन्म पर्यन्त 15 मास तक जो कुबेर माता के आंगन मे रत्नो की वर्शा करते है। Ratnavrsti-Divinely rain of jewels (an auspicious event pertaining to the birth of Jaina lord)