सिद्ध

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सिद्ध-जिन्होंने आठों कर्म का नाश कर दिया है और आठ गुणों से सहित हैं, लोक के अग्रभाग पर विराजमान हैं, वे सिद्ध परमेष्ठी कहलाते हैं।