04. भारतीय शादियों की रोचक रस्में

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


भारतीय शादियों की रोचक रस्में

Scan Pi56++5+564.jpg

१. विवाह के समय दूल्हे के जूते, उसकी सालियों द्वारा छिपाए जाते हैं और वापस देने पर शगुन के रूप में दूल्हा उपहार देता है। यह सर्वाधिक रोचक रस्म है।

२. कई जातियों में पाणिग्रहण के समय, वर एवं वधू के हाथ को एक पवित्र वस्त्र से आवृत्त कर दिया जाता है, ताकि नव—दम्पत्ति बुरी नजर से हमेशा बचे रहें।

३. पारसी समुदाय में, हाथ बोरावनु रस्म के दौरान, दूल्हे की सालियां, दूल्हे के हाथ के पवित्र जल में से, तब तक नहीं निकालने देतीं, जब तक उन्हें, शगुन के रूप में रुपये नहीं मिल जाते।

४. पारसी समुदाय में ही पग धोवान् रस्म के समय दूल्हे के जूतों पर दूध डालने का भय दिखाया जाता है और शगुन के रुपयों की प्राप्ति के अनन्तर ही दूल्हा जूते प्राप्त कर पाता है।

Scan Pic0089+252.jpg

५. गुजराती समाज में बारात के आगमन पर, दूल्हे की सासू मां दूल्हे की नाक पकड़ती हैं, जो इस बात का परिचायक है कि उनकी बिटिया, विवाहोपरांत दूल्हे के घर जा रही है एवं उसकी सारी जिम्मेदारियों का निर्वाह, दूल्हे को भली—भाँति करना है।

६. गुजराती समाज में एकी—बेकी रस्म के अन्तर्गत, सिन्दूर मिश्रित डूबे दूध में पड़े सात सिक्कों को, दूल्हा—दुल्हन मिलकर खोजते हैं। जीत की घोषणा इंगित करती है कि किसका पलड़ा जीवन में भारी रहेगा। यह रस्म अन्य समुदायों में भी दृष्टिगोचर होती है।

७. पंजाबी समुदाय में दुल्हन अपने मामा द्वारा लाये गये चूड़े को अपने हाथों में धारण करती है। चूड़े में लाल रंग की एवं हाथी दांत की चूड़ियां होती हैं, जिन्हें दुल्हन के लिये अत्यन्त शुभ और मांगलिक माना जाता है। साथ ही यह भी माना जाता है कि यह चूड़ा दुल्हन को नये घर में सौभाग्य से विभूषित भी करेगा।

Scan Pic++55++66.jpg

८. पंजाबी समाज में ही, चूड़े के साथ दुल्हन, स्वर्ण निर्मित कलीर धारण करती है। कलीर में पत्तियों की संख्या उतनी होती है जितनी कि दुल्हन की सखियाँ।

९. लगभग सभी भारतीय समाजों में दूल्हा जब अपनी दुल्हन के साथ घर आता है,तब दूल्हे की बहन, उसका प्रवेश अवरुद्ध करती है। वह द्वार का अवरोध, तब तक नहीं हटाती है, जब तक कि उसे शगुन का उपहार न मिल जाय।

१०. दुल्हन के माथे पर लगायी जाने वाली बिंदी प्राय: गोल होती है जो शांत प्रकृति के चंद्रमा का प्रतीक है। दूल्हे के भाल का लंबा तिलक सूर्य का प्रतीक है, जो प्रकृति के ऊर्जा के सतत् संचार को प्ररूपित करता है।

Scan Pic0001++5566.jpg