07.जल और उसकी मर्यादा

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जल और उसकी मर्यादा

प्रश्न-३३८ जैनाचार्यों के मतानुसार पानी की एक बूंद में कितने जीव हैं?

उत्तर-३३८ जैनाचार्यों के मतानुसार पानी की एक बूंद में असंख्यात जीव हैं।

प्रश्न-३३९ वैज्ञानिक मतानुसार पानी की एक बूंद में कितने जीव हैं?

उत्तर-३३९ वैज्ञानिक मतानुसार पानी की एक बूंद में ३६४५० जीव बताये हैं।

प्रश्न-३४० बिना छने पानी से क्या हानियाँ हैं?

उत्तर-३४० बिना छने पानी से जीवों का घात है और स्वास्थ्य भी बिगड़ता है।

प्रश्न-३४१ पानी किस प्रकार छानना चाहिए?

उत्तर-३४१ पानी मोटे कपड़े के दोहरे छन्ने से छानना चाहिए।

प्रश्न-३४२ पानी को प्रासुक किस-किस प्रकार से किया जाता है?

उत्तर-३४२ पानी को छानकर, सौंफ, लौंग, इलायची डालकर व गर्म करके प्रासुक किया जाता है।

प्रश्न-३४३ जल में त्रस जीव रहते हैं या स्थावर?

उत्तर-३४३ जल में त्रस जीव रहते हैं।

प्रश्न-३४४ छने हुए पानी की मर्यादा कितनी है?

उत्तर-३४४ छने हुए पानी की मर्यादा ४८ मिनट की है।

प्रश्न-३४५ सौंफ आदि पड़े हुए पानी की मर्यादा कितनी है?

उत्तर-३४५ सौंफ आदि पड़े हुए पानी की मर्यादा छह घण्टे की है।

प्रश्न-३४६ गर्म जल की मर्यादा कितनी है?

उत्तर-३४६ गर्म जल की मर्यादा चौबीस घण्टे की होती है।

प्रश्न-३४७ दूध की मर्यादा बतावें?

उत्तर-३४७ दूध की मर्यादा भी छने पानी के समान ४८ मिनिट की है।