गणधरवलय मंत्र

ENCYCLOPEDIA से
(1. गणधरवलय मंत्र से पुनर्निर्देशित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गणधरवलय मंत्र (प्राकृत)

श्री गौतम स्वामी विरचित


णमो जिणाणं।
णमो ओहिजिणाणं।
णमो परमोहिजिणाणं।
णमो सव्वोहिजिणाणं।
णमो अणंतोहिजिणाणं।
णमो कोट्ठबुद्धीणं।
णमो बीजबुद्धीणं।
णमो पादाणुसारीणं।
णमो संभिण्णसोदाराणं।
णमो सयंबुद्धाणं।
णमो पत्तेयबुद्धाणं।
णमो बोहियबुद्धाणं।
णमो उजुमदीणं।
णमो विउलमदीणं।
णमो दसपुव्वीणं।
णमो चउदसपुव्वीणं।
णमो अट्ठंग-महा-णिमित्त-कुसलाणं।
णमो विउव्व-इड्ढि-पत्ताणं।
णमो विज्जाहराणं।
णमो चारणाणं।
णमो पण्णसमणाणं।
णमो आगासगामीणं।
णमो आसीविसाणं।
णमो दिट्ठिविसाणं।
णमो उग्गतवाणं।
णमो दित्ततवाणं।
णमो तत्ततवाणं।
णमो महातवाणं।
णमो घोरतवाणं।
णमो घोरगुणाणं।
णमो घोर परक्कमाणं।
णमो घोरगुण-बंभयारीणं।
णमो आमोसहिपत्ताणं।
णमो खेल्लोसहिपत्ताणं।
णमो जल्लोसहि पत्ताणं।
णमो विप्पोसहिपत्ताणं।
णमो सव्वोसहिपत्ताणं।
णमो मणबलीणं।
णमो वचिबलीणं।
णमो कायबलीणं।
णमो खीरसवीणं।
णमो सप्पिसवीणं।
णमो महुरसवीणं।
णमो अमियसवीणं।
णमो अक्खीणमहाणसाणं।
णमो वड्ढमाणाणं।
णमो सिद्धायदणाणं।
णमो भयवदो महदिमहावीर-
वड्ढमाण-बुद्धरिसीणो चेदि।

जस्संतियं धम्मपहं णियच्छे, तस्संतियं वेणइयं पउंजे।

काएण वाचा मणसा वि णिच्चं, सक्कारए तं सिरपंचमेण।।१।।