"चौबीस तीर्थंकर जन्मभूमि चालीसा" के अवतरणों में अंतर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति २: पंक्ति २:
 
==<CENTER>'''चौबिस तीर्थंकर जन्मभूमि चालीसा'''</CENTER>==
 
==<CENTER>'''चौबिस तीर्थंकर जन्मभूमि चालीसा'''</CENTER>==
 
<POEM> <CENTER> <FONT COLOR= RED>
 
<POEM> <CENTER> <FONT COLOR= RED>
 +
[[चित्र:Teerthankar_janmbhuumi_darshan004.jpg|250px|center]]
 +
 
-दोहा-
 
-दोहा-
 
वीतराग सर्वज्ञ, जिन हित उपदेशी नाथ ,
 
वीतराग सर्वज्ञ, जिन हित उपदेशी नाथ ,

१७:०५, ९ जुलाई २०२० के समय का अवतरण

चौबिस तीर्थंकर जन्मभूमि चालीसा

 

Teerthankar janmbhuumi darshan004.jpg


-दोहा-
वीतराग सर्वज्ञ, जिन हित उपदेशी नाथ ,
चौबीसों तीर्थेश हैं ,तारणतरण जिहाज ||१||
भक्तिभाव से उन सभी ,प्रभु को प्रणमूँ आज |
जन्मभूमि उनकी नमूँ,आत्मशुद्धि के काज ||२||
चौबीस जिन की जन्मभू , मनमंदिर में ध्याय
चालीसा उनका कहूँ , मनवांछित मिल जाय ||३|||
-चौपाई –
भारतभूमी गौरवशाली, महापुरुष को जनने वाली ||१||
जन्में यहाँ अनंतों जिनवर, पूज्य धरा यह सर्वहितंकर ||२||
गर्भ,जन्म,तप,ज्ञान जहाँ पर, मोक्ष से भू कहलाए तीरथ ||३||
हर उत्सर्पिणि,अवसर्पिणि में, चौबिस तीर्थंकर जिन जन्में ||४||
शाश्वत जन्मभूमि है अयोध्या, गिरि सम्मेद मोक्षथल होता ||५||
कालदोषवश वर्तमान में, अलग-अलग तीर्थंकर जन्मे ||६||
सोलह जन्मभूमि कहलाईं , गुणगाथा शास्त्रों में आई ||७||
वह स्थल कहलाए धन्य-धन, सुर नर मुनिगण करते वंदन ||८||
पांच जिनेश्वर नगरि अयोध्या, में जन्में अतिशय उत्सव था ||९||
वृषभ अजित अभिनन्दनस्वामी, सुमति अनंत पूज्य जगनामी||१०||
संभव प्रभु जन्मे श्रावस्ती, कौशाम्बी में पद्मप्रभूजी ||११||
श्री सुपार्श्व अरु पार्श्वप्रभू से,वाराणसी नगरी प्रमुदित थी ||१२||
चन्द्रप्रभू जी चंद्रपुरी में, पुष्पदंत काकंदी जन्मे ||१३||
शीतलप्रभु की जन्मभूमि है,भद्दिलपुर तीरथ प्रसिद्ध है ||१४||
सिंहपुरी जो सारनाथ है, प्रभु श्रेयांस से हुई ख्यात है ||१५||
चम्पापुर में वासुपूज्य जी, जन्मे विमलप्रभू कम्पिलजी ||१६||
रौनाही जो रत्नपुरी है, धर्मनाथ प्रभु जन्मभूमि है ||१७||
मल्लि व नमिप्रभु मिथिलापुर में, जन्मे तब त्रैलोक्य थे हरषे||१८||
शान्ति, कुन्थु, अरनाथ प्रभूजी, चक्री कामदेव की पदवी ||१९||
हस्तिनागपुर की पावन भू , इंद्र मनाएं मंगल उत्सव ||२०||
प्रभु नेमी शौरीपुर जन्में, महावीर प्रभु कुण्डलपुर में ||२१||
चौबिस जिनवर जन्मभूमि ये, इनका वंदन अघमल धोवे ||२२||
सौधर्मेंद्र सपरिकर आया, कल्याणक करके हरषाया ||२३||
बार-बार इन भू को वन्दूं ,अपना जन्म सफल मैं कर लूँ ||२४||
प्रथम बालसति युग की माता, ज्ञानमती गणिनी विख्याता ||२५||
मिली प्रेरणा ज्योति जल गयी, जन्मभूमियां अब विकसित थीं ||२६||
नया स्वरूप तीर्थ ने पाया,विश्व के मानसपटल पे छाया ||२७||
तन,मन किया समर्पित सबने, अर्थांजलि दे श्रावक हरषे ||२८||
प्रभु महिमा से हो निज महिमा, जिनशासन की कीर्ति अनुपमा ||२९||
इन तीर्थों की करे वंदना, शीघ्र भवोदधि भव्य तिरेगा ||३०||
धर्म अहिंसा जगप्रधान है, जैनधर्म की बना शान है ||३१||
सर्वोदय सिद्धांत हैं इसके ,जिससे प्राणी सुखी हो जग में ||३२||
विधिवत जो करते परिपालन, पापों का करते हैं क्षालन ||३३||
मुक्तिरमा उनको वरती है ,सिद्धशिला उनको मिलती है ||३४||
हे प्रभु! ऐसा वर मैं चाहूँ ,जन्म मरण का दुःख ना पाऊं ||३५||
शीघ्र बनूँ जिनराज अजन्मा, भाव पवित्र यही है मन मा ||३६||
जन्मभूमि को शत-शत प्रणमूँ ,भावतीर्थ की प्राप्ती कर लूँ ||३७||
भक्तिसुमन इस हेतू लाया, अर्पण कर मन अति हरषाया ||३८||
हे जिनराज! दया के सागर, करुणासिंधो ! गुणरत्नाकर ||३९||
हे स्वामी! भवदधि से तारो ,मम आत्मा को तीर्थ बना दो ||४०||
-शम्भु छंद –
यह जन्मभूमि का चालीसा, जो श्रद्धायुत हो पढ़ते हैं |
चौबिस तीर्थंकर भगवन्तों को, भक्तिभाव से नमते हैं ||
विघ्नों का शीघ्र विलय होकर, ’इंदू ‘आत्मिक सुख मिल जाता|
तीर्थों का वन्दन प्राणी की, आत्मा में तीर्थ को प्रगटाता ||

Vandana 2.jpg

तीर्थंकर जन्मभूमि चालीसा