"प्रभु नाम जपने से" के अवतरणों में अंतर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('==<center><font color=green>प्रभु नाम जपने से </font></center>== तर्ज - ये शांत छव...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
(२ सदस्यों द्वारा किये गये बीच के २ अवतरण नहीं दर्शाए गए)
पंक्ति १: पंक्ति १:
==<center><font color=green>प्रभु नाम जपने से </font></center>==
+
<div class="side-border9">
तर्ज - ये शांत छवि तेरी ..........
+
==<center><font color=purple>'''प्रभु नाम जपने से''' </font></center>==
 +
<poem><center>
 +
''तर्ज - ये शांत छवि तेरी ..........''
 +
<font size="" color="green">
 
प्रभु नाम जपने से नवजीवन मिलता है ,
 
प्रभु नाम जपने से नवजीवन मिलता है ,
 
तन मन का मुरझाया ,उपवन खिलता है  
 
तन मन का मुरझाया ,उपवन खिलता है  
 
अंतर के कोने में ,एक दीपक जलता है |
 
अंतर के कोने में ,एक दीपक जलता है |
 
प्रभु नाम जपने ..............||
 
प्रभु नाम जपने ..............||
 +
 
श्री पाल प्रभु गुण गाकर ,हाँ  गाकर ...
 
श्री पाल प्रभु गुण गाकर ,हाँ  गाकर ...
 
तूफा में भी पार हुए वो सागर |
 
तूफा में भी पार हुए वो सागर |
पंक्ति ११: पंक्ति १५:
 
तन मन का मुरझाया .........  
 
तन मन का मुरझाया .........  
 
अंतर के कोने में ............||१||
 
अंतर के कोने में ............||१||
 +
 
हो सर्प अगर विषवाला , विषवाला ...
 
हो सर्प अगर विषवाला , विषवाला ...
 
कर दो मन तुम ध्यान बने जयमाला|
 
कर दो मन तुम ध्यान बने जयमाला|
पंक्ति १७: पंक्ति २२:
 
तन मन का मुरझाया .........  
 
तन मन का मुरझाया .........  
 
अंतर के कोने में ............||२||
 
अंतर के कोने में ............||२||
 +
 
प्रभु नाम जपने से नवजीवन मिलता है ,
 
प्रभु नाम जपने से नवजीवन मिलता है ,
 
तन मन का मुरझाया ,उपवन खिलता है  
 
तन मन का मुरझाया ,उपवन खिलता है  
पंक्ति २२: पंक्ति २८:
 
प्रभु नाम जपने .............
 
प्रभु नाम जपने .............
  
 
+
</font></center></poem>
 
+
</div>
 
[[श्रेणी:अन्य_भजन]]
 
[[श्रेणी:अन्य_भजन]]

११:१६, १२ जून २०२० के समय का अवतरण

प्रभु नाम जपने से


तर्ज - ये शांत छवि तेरी ..........

प्रभु नाम जपने से नवजीवन मिलता है ,
तन मन का मुरझाया ,उपवन खिलता है
अंतर के कोने में ,एक दीपक जलता है |
प्रभु नाम जपने ..............||

श्री पाल प्रभु गुण गाकर ,हाँ गाकर ...
तूफा में भी पार हुए वो सागर |
चंदनबाला दर्शन से , दर्शन से ..
देखो पल में मुक्त हुई बंधन से |
तन मन का मुरझाया .........
अंतर के कोने में ............||१||

हो सर्प अगर विषवाला , विषवाला ...
कर दो मन तुम ध्यान बने जयमाला|
भव ताप सभी गल जाये , गल जाये ...
दर्शन करके संताप सभी मिट जाये |
तन मन का मुरझाया .........
अंतर के कोने में ............||२||

प्रभु नाम जपने से नवजीवन मिलता है ,
तन मन का मुरझाया ,उपवन खिलता है
अंतर के कोने में ,एक दीपक जलता है |
प्रभु नाम जपने .............