"बुधग्रहारिष्टनिवारक श्री मल्लिनाथ चालीसा" के अवतरणों में अंतर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(बुधग्रहारिष्टनिवारक श्री मल्लिनाथ चालीसा)
(बुधग्रहारिष्टनिवारक श्री मल्लिनाथ चालीसा)
पंक्ति १: पंक्ति १:
 
==<center><font color=blue>'''बुधग्रहारिष्टनिवारक श्री मल्लिनाथ चालीसा'''</font></center>==
 
==<center><font color=blue>'''बुधग्रहारिष्टनिवारक श्री मल्लिनाथ चालीसा'''</font></center>==
 +
<div class="side-border15">
 
<poem><center>
 
<poem><center>
 
-दोहा-
 
-दोहा-
वन्दूं श्री जिन मल्लिप्रभु , वीतराग सुखकार |
+
वन्दूं श्री [[जिन]] [[मल्लिप्रभु]] , [[वीतराग]] सुखकार |
काममल्ल को जीतकर , पद पाया अविकार ||१||
+
[[काममल्ल]] को जीतकर , पद पाया अविकार ||१||
उन्निसवें तीर्थेश के, पद वंदन शत बार |
+
उन्निसवें [[तीर्थेश]] के, पद वंदन शत बार |
चालीसा पढकर लहूँ , स्वात्मधाम सुखकार ||२||
+
चालीसा पढकर लहूँ , [[स्वात्मधाम]] सुखकार ||२||
 
-चौपाई-
 
-चौपाई-
मल्लिप्रभु यम मल्ल विजेता , मोक्षमार्ग के बन गए नेता ||१||
+
[[मल्लिप्रभु]] यम मल्ल विजेता , [[मोक्षमार्ग]] के बन गए नेता ||१||
आत्मा में जब रमण कार लिया , शिवलक्ष्मी का वरण कार लिया ||२||
+
[[आत्मा]] में जब रमण कर लिया , [[शिवलक्ष्मी]] का वरण कर लिया ||२||
चैत्र सुदी एकम शुभ तिथि में ,गर्भकल्याणक सुरगण करते ||३||
+
चैत्र सुदी एकम शुभ तिथि में ,[[गर्भकल्याणक]] सुरगण करते ||३||
मग्शिर सुदी ग्यारस में प्रभु का,जन्म हुआ तब त्रिभुवन हरषा ||४||
+
मगशिर सुदि ग्यारस में प्रभु का,जन्म हुआ तब [[त्रिभुवन]] हरषा ||४||
इन्द्र शची संग हर्ष मनाता, मेरु शिखर अभिषेक रचाता ||५||
+
इन्द्र शची संग हर्ष मनाता, [[मेरु]] शिखर [[अभिषेक]] रचाता ||५||
 
देव-देवियाँ प्रभु गुण गाते , प्रभुवर जन-जन के मन भाते ||६||
 
देव-देवियाँ प्रभु गुण गाते , प्रभुवर जन-जन के मन भाते ||६||
मिथिला नगरी धन्य हो गई , कुम्भराज पितु मात प्रजावति ||७||
+
[[मिथिला]] नगरी धन्य हो गई , कुम्भराज पितु मात प्रजावति ||७||
 
बालपने से यौवन आया, फिर भी ब्याह नहीं रचवाया ||८||
 
बालपने से यौवन आया, फिर भी ब्याह नहीं रचवाया ||८||
जातिस्मरण हुआ जब प्रभु को, दीक्षा हेतु चले तब वन को ||९||
+
[[जातिस्मरण]] हुआ जब [[प्रभु]] को, [[दीक्षा]] हेतु चले तब वन को ||९||
 
देव जयंता पालकि लाए , जय जय करते स्तुति गाएं ||१०||
 
देव जयंता पालकि लाए , जय जय करते स्तुति गाएं ||१०||
स्वयं प्रभू ने दीक्षा ली थी , मगशिर शुक्ला एकं तिथि थी ||११||
+
स्वयं प्रभू ने [[दीक्षा]] ली थी , मगशिर शुक्ला एकम्  तिथि थी ||११||
बाल ब्रम्हचारी पद पाया , आत्मज्ञान में मन को रमाया ||१२||
+
[[बाल ब्रम्हचारी]] पद पाया , [[आत्मज्ञान]] में मन को रमाया ||१२||
घोर तपश्चर्या थे करते , केवलज्ञान प्रगट हुआ उनके ||१३||
+
घोर [[तपश्चर्या]] थे करते , [[केवलज्ञान]] प्रगट हुआ उनके ||१३||
चार घातिया कर्म विनाशे , लोकालोक सभी परकाशे ||१४||
+
चार [[घातिया]] [[कर्म]] विनाशे , लोकालोक सभी परकाशे ||१४||
समवसरण की दिव्य सभा थी, ऊंकारमय ध्वनी खिरी थी ||१५||  
+
[[समवसरण]] की [[दिव्य सभा]] थी, ऊंकारमय ध्वनी खिरी थी ||१५||  
  जिन भव्यों ने पान किया था , आत्मा का उत्थान किया था ||१६||
+
  जिन भव्यों ने पान किया था , [[आत्मा]] का उत्थान किया था ||१६||
बीस हजार हाथ ऊपर था , समवसरण वह बना अधर था ||१७||
+
बीस हजार हाथ ऊपर था , [[समवसरण]] वह बना अधर था ||१७||
 
उसमें ही प्रभु अधर विराजे , भव्यों को हितमार्ग बताते ||१८||
 
उसमें ही प्रभु अधर विराजे , भव्यों को हितमार्ग बताते ||१८||
आयु रही जब एक मास तब , पहुंचे गिरि सम्मेदशिखर पर ||१९||
+
आयु रही जब एक मास तब , पहुंचे गिरि [[सम्मेदशिखर]] पर ||१९||
योग निरोधा कर्म नशाया, तत्क्षण सिद्धशिला को पाया ||२०||
+
योग निरोधा कर्म नशाया, तत्क्षण [[सिद्धशिला]] को पाया ||२०||
वीतराग सर्वज्ञ कहाए , इन्द्र मोक्षकल्याण मनाएं ||२१||
+
[[वीतराग]] [[सर्वज्ञ]] कहाए , इन्द्र [[मोक्षकल्याण]] मनाएं ||२१||
 
चिन्ह कलश से सब जन जानें , स्वर्ण वर्णयुत आभा मानें ||२२||
 
चिन्ह कलश से सब जन जानें , स्वर्ण वर्णयुत आभा मानें ||२२||
 
जय जय जय जिनदेव हमारे , स्वामी हमको भव से तारें ||२३||
 
जय जय जय जिनदेव हमारे , स्वामी हमको भव से तारें ||२३||
पंक्ति ३८: पंक्ति ३९:
 
जो भवि तुमको शीश नवावें,शिरोरोग आदिक नाश जावें ||३०||
 
जो भवि तुमको शीश नवावें,शिरोरोग आदिक नाश जावें ||३०||
 
निरखें,वाणि सुनें,स्तुति से,नेत्र कर्ण मुख रोग विनशते ||३१||
 
निरखें,वाणि सुनें,स्तुति से,नेत्र कर्ण मुख रोग विनशते ||३१||
ध्यान करे जो नित्य तुम्हारा , हृदय उदार व्याधी को टारा||३२||
+
ध्यान करे जो नित्य तुम्हारा , हृदय उदर व्याधी को टारा||३२||
करते जो पंचांग प्रणाम , नीरोगी अरु हों निष्काम ||३३||
+
करते जो पंचांग प्रणाम , नीरोगी अरु हों [[निष्काम]] ||३३||
 
व्यथा मानसिक सब ही नशती ,आर्थिक संकट से भी मुक्ती ||३४||
 
व्यथा मानसिक सब ही नशती ,आर्थिक संकट से भी मुक्ती ||३४||
 
तव भक्ती सब कार्य करेगी , कौन सी वस्तु जिसे नहिं देगी ||३५||
 
तव भक्ती सब कार्य करेगी , कौन सी वस्तु जिसे नहिं देगी ||३५||
व्यथा मेट दो अर्ज किया है , मल्लिप्रभू तुम्हें नमन किया है ||३६||
+
व्यथा मेट दो अर्ज किया है , [[मल्लिप्रभू]] तुम्हें नमन किया है ||३६||
 
हे बुध ग्रह के कष्टनिवारक , तुम ही तरण और हो तारक ||३७||
 
हे बुध ग्रह के कष्टनिवारक , तुम ही तरण और हो तारक ||३७||
इस ग्रह की सब पीड़ा हर लो , पूर्ण सुखी मुझको तुम कार दो ||३८||
+
इस ग्रह की सब पीड़ा हर लो , पूर्ण सुखी मुझको तुम कर दो ||३८||
स्वामी तुम बिन कौन खिवैया , बीच भंवर में फंसी है नैया ||३९||
+
स्वामी तुम बिन कौन [[खिवैया]] , बीच भंवर में फंसी है नैया ||३९||
 
एक यही अरदास हमारी , जीवन में भर दो उजियारी ||४०||
 
एक यही अरदास हमारी , जीवन में भर दो उजियारी ||४०||
 
-शंभु छंद –
 
-शंभु छंद –
प्रभु मल्लिनाथ का चालीसा , जो चालीस दिन तक पढते हैं |
+
प्रभु [[मल्लिनाथ]] का चालीसा , जो चालीस दिन तक पढते हैं |
विधिवत जाप्यानुष्ठान करें ,बुध ग्रह की बाधा हरते हैं ||
+
विधिवत [[जाप्यानुष्ठान]] करें ,[[बुधग्रह]] की बाधा हरते हैं ||
लौकिक वैभव के साथ ‘इंदु’ आध्यात्मिक वैभव मिल जाता |
+
लौकिक वैभव के साथ ‘इंदु’ [[आध्यात्मिक]] वैभव मिल जाता |
 
अंतर में ज्ञान उदित होता, संसार जलधि से तिर जाता ||१||  
 
अंतर में ज्ञान उदित होता, संसार जलधि से तिर जाता ||१||  
  

१३:२१, २२ जनवरी २०२० का अवतरण

बुधग्रहारिष्टनिवारक श्री मल्लिनाथ चालीसा


-दोहा-
वन्दूं श्री जिन मल्लिप्रभु , वीतराग सुखकार |
काममल्ल को जीतकर , पद पाया अविकार ||१||
उन्निसवें तीर्थेश के, पद वंदन शत बार |
चालीसा पढकर लहूँ , स्वात्मधाम सुखकार ||२||
-चौपाई-
मल्लिप्रभु यम मल्ल विजेता , मोक्षमार्ग के बन गए नेता ||१||
आत्मा में जब रमण कर लिया , शिवलक्ष्मी का वरण कर लिया ||२||
चैत्र सुदी एकम शुभ तिथि में ,गर्भकल्याणक सुरगण करते ||३||
मगशिर सुदि ग्यारस में प्रभु का,जन्म हुआ तब त्रिभुवन हरषा ||४||
इन्द्र शची संग हर्ष मनाता, मेरु शिखर अभिषेक रचाता ||५||
देव-देवियाँ प्रभु गुण गाते , प्रभुवर जन-जन के मन भाते ||६||
मिथिला नगरी धन्य हो गई , कुम्भराज पितु मात प्रजावति ||७||
बालपने से यौवन आया, फिर भी ब्याह नहीं रचवाया ||८||
जातिस्मरण हुआ जब प्रभु को, दीक्षा हेतु चले तब वन को ||९||
देव जयंता पालकि लाए , जय जय करते स्तुति गाएं ||१०||
स्वयं प्रभू ने दीक्षा ली थी , मगशिर शुक्ला एकम् तिथि थी ||११||
बाल ब्रम्हचारी पद पाया , आत्मज्ञान में मन को रमाया ||१२||
घोर तपश्चर्या थे करते , केवलज्ञान प्रगट हुआ उनके ||१३||
चार घातिया कर्म विनाशे , लोकालोक सभी परकाशे ||१४||
समवसरण की दिव्य सभा थी, ऊंकारमय ध्वनी खिरी थी ||१५||
 जिन भव्यों ने पान किया था , आत्मा का उत्थान किया था ||१६||
बीस हजार हाथ ऊपर था , समवसरण वह बना अधर था ||१७||
उसमें ही प्रभु अधर विराजे , भव्यों को हितमार्ग बताते ||१८||
आयु रही जब एक मास तब , पहुंचे गिरि सम्मेदशिखर पर ||१९||
योग निरोधा कर्म नशाया, तत्क्षण सिद्धशिला को पाया ||२०||
वीतराग सर्वज्ञ कहाए , इन्द्र मोक्षकल्याण मनाएं ||२१||
चिन्ह कलश से सब जन जानें , स्वर्ण वर्णयुत आभा मानें ||२२||
जय जय जय जिनदेव हमारे , स्वामी हमको भव से तारें ||२३||
अब मेरे भी कष्ट निवारो , मुझको भी भवदधि से तारो |||२४||
सुना बहुत लाखों को तारा , कितनों को भव पार उतारा||२५||
इसी हेतु तव शरणा आया , दुखों से मन बहु अकुलाया ||२६||
शारीरिक, मानस, आगंतुक और आर्थिक कष्ट बहुत हैं ||२७||
विह्वल है संसारी प्राणी, सुख खोजे बनता अज्ञानी ||२८||
किन्तु भक्ति जो तेरी करता , इन सब दुखों को है हरता||२९||
जो भवि तुमको शीश नवावें,शिरोरोग आदिक नाश जावें ||३०||
निरखें,वाणि सुनें,स्तुति से,नेत्र कर्ण मुख रोग विनशते ||३१||
ध्यान करे जो नित्य तुम्हारा , हृदय उदर व्याधी को टारा||३२||
करते जो पंचांग प्रणाम , नीरोगी अरु हों निष्काम ||३३||
व्यथा मानसिक सब ही नशती ,आर्थिक संकट से भी मुक्ती ||३४||
तव भक्ती सब कार्य करेगी , कौन सी वस्तु जिसे नहिं देगी ||३५||
व्यथा मेट दो अर्ज किया है , मल्लिप्रभू तुम्हें नमन किया है ||३६||
हे बुध ग्रह के कष्टनिवारक , तुम ही तरण और हो तारक ||३७||
इस ग्रह की सब पीड़ा हर लो , पूर्ण सुखी मुझको तुम कर दो ||३८||
स्वामी तुम बिन कौन खिवैया , बीच भंवर में फंसी है नैया ||३९||
एक यही अरदास हमारी , जीवन में भर दो उजियारी ||४०||
-शंभु छंद –
प्रभु मल्लिनाथ का चालीसा , जो चालीस दिन तक पढते हैं |
विधिवत जाप्यानुष्ठान करें ,बुधग्रह की बाधा हरते हैं ||
लौकिक वैभव के साथ ‘इंदु’ आध्यात्मिक वैभव मिल जाता |
अंतर में ज्ञान उदित होता, संसार जलधि से तिर जाता ||१||



 

 

 



   




नवग्रह सम्बंधित अन्य चालीसा पढें

अन्य सभी चालीसा पढ़ें