"भगवान पद्मप्रभु जन्मभूमि कौशाम्बी तीर्थक्षेत्र चालीसा" के अवतरणों में अंतर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
पंक्ति २: पंक्ति २:
 
==<CENTER>'''भगवान पद्मप्रभु जन्मभूमि कौशाम्बी तीर्थक्षेत्र चालीसा '''</CENTER>==
 
==<CENTER>'''भगवान पद्मप्रभु जन्मभूमि कौशाम्बी तीर्थक्षेत्र चालीसा '''</CENTER>==
 
<POEM> <CENTER> <FONT COLOR= majenta>
 
<POEM> <CENTER> <FONT COLOR= majenta>
 +
[[चित्र:Teerthankar_janmbhuumi_darshan035.jpg|250px|center]]
 
-दोहा –
 
-दोहा –
 
वन्दूं श्री जिन पद्मप्रभु, वीतराग सुखकार |
 
वन्दूं श्री जिन पद्मप्रभु, वीतराग सुखकार |

१७:०७, ९ जुलाई २०२० का अवतरण

भगवान पद्मप्रभु जन्मभूमि कौशाम्बी तीर्थक्षेत्र चालीसा

 

Teerthankar janmbhuumi darshan035.jpg

-दोहा –
वन्दूं श्री जिन पद्मप्रभु, वीतराग सुखकार |
कौशाम्बी जी तीर्थ को, मन मंदिर में धार ||१||
चालीसा जिन जन्मभू, का मैं वर्णूं आज |
श्री जिनवर की भक्ति है, आत्मशुद्धि के काज ||२||
-चौपाई –
जन्मभूमि श्री पद्मप्रभू की,पुण्यमयी कौशाम्बी नगरी ||१||
यमुना तट पर बसा ये तीरथ, जिनसंस्कृति की कहता तीरथ ||२||
इन्द्रों द्वारा पूज्य कहाई , सुर नर मुनिगण महिमा गाई ||३||
चौथे काल की है ये घटना, यह नगरी थी दिव्य अनुपमा ||४||
राजा धरणराज की रानी, हुईं सुसीमा जग में नामी ||५||
माँ ने सोलह सपने देखे, माघ कृष्ण छठ की शुभ तिथि में ||६||
गर्भकल्याणक इन्द्र मनाएं, धनद रत्न की वृष्टि कराएं ||७||
कार्तिक वदि तेरस की तिथि थी,जन्मकल्याणक की बेला थी ||८||
प्रथम दर्श जब शचि ने पाया, तत्क्षण स्त्रीलिंग नशाया ||९||
ब्याह किया अरु राज्य चलाया, जातिस्मरण उन्हें हो आया ||१०||
कौशाम्बी में है प्रभाषगिरि , वहाँ प्रभू ने दीक्षा ले ली ||११||
घोर तपश्चर्या कर-करके, कर्म घातिया नाशे प्रभु ने ||१२||
चैत्र सुदी पूनम तिथि आई, श्री कैवल्यरमा परणाई ||१३||
समवसरण की दिव्य सभा में, भव्य असंख्यों प्रभु ध्वनि सुनते ||१४||
चार कल्याणक से यह पावन , जन्मभूमि सचमुच मनभावन ||१५||
इसी धरा पर वीर प्रभूजी , आये इतिहासिक घटना थी ||१६||
महासती चंदनबाला थी , सेठानी द्वारा पीड़ित थी ||१७||
शंकावश बहु कष्ट थे पाए , वीरप्रभू नगरी में आये ||१८||
कोलाहल सुन आगे आई, झड़ी बेडियाँ हुई बडाई ||१९||
कंचन सम काया पा करके , लगी प्रभू को वह पडगाने ||२०||
कोदो भात सुगन्धित शाली, बना सकोरा स्वर्णपात्र भी ||२१||
प्रभुवर को आहार कराया, जनसमूह तब उमड़ा आया ||२२||
पंचाश्चर्य की वृष्टि हुई थी, सेठानी मन में लज्जित थी ||२३||
किया क्षमा चंदनबाला ने, चली पुनः प्रभु समवसरण में ||२४||
दीक्षा ले गणिनी कहलाईं , सुन्दर वह इतिहास है भाई ||२५||
पौराणिक रोमांचक घटना , शास्त्र ग्रन्थ गाते गुणगरिमा ||२६||
वीर्रभू के छ्ब्बिससौवें , जन्मकल्याणक वर्ष तीर्थ पे ||२७||
ब्राम्ही माँ सम गणिनी माता, आईं पंचकल्याण वहाँ था ||२८||
पद्मप्रभू मूरत पधराई, तब नगरी द्रष्टी में आई ||२९||
तीर्थ प्रभाषगिरी पर आगे, वीरप्रभू मूरत पधरा के ||३०||
उस अहार की स्मृति आई, जन-जन ने जिनमहिमा गाई ||३१||
उस तीरथ को शीश नमाओ , ज्ञानमती माँ को भी ध्याओ ||३२||
सरस्वती की प्रतिमूरत हैं ,जिनशासन की वह कीरत हैं ||३३||
जहाँ दृष्टि उनकी पड़ती है, वह धूली चन्दन बनती है ||३४||
नौका सम जो भवि प्राणी को, इस भवदधि से पार लगाते ||३५||
इस धरती पर वह ही स्थल , पावन तीर्थ बताए जाते ||३६||
इस जीवंत तीर्थ को प्रणमूँ , निज आत्मा के कल्मष धुल लूँ ||३७||
पुनः नमूँ गणिनी श्री माता, बालसती पहली विख्याता ||३८||
हे पद्मप्रभु ! इच्छित वर दो, मम आत्मा को पावन कर दो ||३९||
बार-बार मैं जन्म धरूँ ना , ‘इंदु’ कृपा हो बनूँ अजन्मा ||४०||
-शम्भु छंद –
श्री पद्मप्रभू का चालीसा, जो चालिस दिन तक पढ़ते हैं |
उनकी पावन इस जन्मभूमि की, यात्रा जो भवि करते हैं ||
सब रोग,शोक, संकट हरकर, सांसारिक सुख पा जाते हैं |
आध्यात्मिक सुख स्वयमेव मिले, आत्मा को तीर्थ बनाते हैं ||१||

Vandana 2.jpg

तीर्थंकर जन्मभूमि चालीसा