"भगवान विमलनाथ जन्मभूमि कम्पिलजी तीर्थक्षेत्र चालीसा" के अवतरणों में अंतर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति ३: पंक्ति ३:
 
==<CENTER>'''भगवान विमलनाथ जन्मभूमि कम्पिलजी तीर्थक्षेत्र चालीसा '''</CENTER>==
 
==<CENTER>'''भगवान विमलनाथ जन्मभूमि कम्पिलजी तीर्थक्षेत्र चालीसा '''</CENTER>==
 
<POEM> <CENTER> <FONT COLOR= green>
 
<POEM> <CENTER> <FONT COLOR= green>
 +
[[चित्र:Teerthankar_janmbhuumi_darshan037.jpg|250px|center]]
 
-दोहा-
 
-दोहा-
 
कम्पिलजी तीरथ नमूँ, नमूँ विमल पदपद्म |
 
कम्पिलजी तीरथ नमूँ, नमूँ विमल पदपद्म |

१८:०४, २ जुलाई २०२० के समय का अवतरण

भगवान विमलनाथ जन्मभूमि कम्पिलजी तीर्थक्षेत्र चालीसा

 

Teerthankar janmbhuumi darshan037.jpg

-दोहा-
कम्पिलजी तीरथ नमूँ, नमूँ विमल पदपद्म |
भक्ति सहित अर्चा करे, मिले निजातम सद्म ||१||
चालीसा श्री विमल का, कहूँ भक्ति कर जोड़ |
मनवांछित सब पूर्ण हों , आत्मशक्ति बेजोड ||२||
-चौपाई –
भारतदेश में यू. पी. आता , जिला फर्रुखाबाद कहाता ||१||
वहीं अवस्थित कम्पिल नगरी ,गंगा नदी किनारे बसती ||२||
वन्दनीय काम्पिल्यपुरी है, विमलप्रभू की जन्मथली है ||३||
कहीं-कहीं इस तीर्थभूमि का, नाम भोगवति, माकंदी है ||४||
तेरहवें तीर्थंकर जिनवर , हुए करोड़ों वर्ष पूर्व जब ||५||
इन्द्रों ने नगरी को सजाया, क्रम-क्रम से कल्याण मनाया ||६||
कृतवर्मा राजा के महल में, माता जयश्यामा आँगन में ||७||
पन्द्रह मास रतन की वर्षा, धनकुबेर हर्षित हो करता ||८||
ज्येष्ठ वदी दशमी तिथि आई, गर्भकल्याण हुआ सुखदाई ||९||
माघ सुदी जब आई चतुर्थी, जन्मे थे तब त्रिभुवनपति जी ||१०||
त्रिभुवन में गूंजी शहनाई , देव की सेना नगरी आई ||११||
गिरि सुमेरु पर न्ह्वन किया था, मात पिता को ला सौंपा था ||१२||
पलना सभी झुलाएं प्रभु को, इन्द्र करें तांडव हर्षित हो ||१३||
पुनः युवावस्था जब पाया, इन्द्र ने प्रभु का ब्याह रचाया ||१४||
दीर्घकाल तक राज्यसंचालन , पुनि वैराग्य जगा उनके मन ||१५||
जन्मतिथी में ही दीक्षा ली, माघ शुक्ल की आई चतुर्थी ||१६||
कम्पिलजी के ही उद्यान में, केवलज्ञान रमा को परणें ||१७||
दिव्यध्वनि से जग सम्बोधा, दृश्य बड़ा वह रोमांचक था ||१८||
कम्पिलजी में एक है टीला , है अघातिया नाम उसी का ||१९||
अनुश्रुति कहती यहीं प्रभू ने, कर्म नाश पाया कैवल्य था ||२०||
है ध्वंसावशेष मंदिर का, कभी-कभी मिलती हैं मूर्तियां ||२१||
आदिप्रभू ,पारस,महावीरा , प्रभु का समवसरण भी आया ||२२||
महासती द्रौपदि यहाँ जन्मीं, हुआ स्वयंवर हैं स्मृति भी ||२३||
द्रौपदि कुंड वहाँ स्थित है, और कथानक जुड़े कई हैं ||२४||
इक प्राचीन दिगंबर मंदिर , कहें देव के द्वारा निर्मित ||२५||
गंगा नदि से प्राप्त हुई है, चौथे काल की जिनमूर्ती है ||२६||
जिनसंस्कृति की शिल्पकला ये, दिखलाती प्राचीन रूप है ||२७||
तीन दिगंबर अतिथीगृह हैं, और आधुनिक कई बने हैं ||२८||
है पर्यटन क्षेत्र यह प्यारा, जिसका देखो बड़ा नजारा ||२९||
विमलनाथ खड्गासन प्रतिमा,जैन जगत की शान अनुपमा ||३०||
जैन नहीं बसते हैं यहाँ पर,किन्तु योजनाएं कुछ नूतन ||३१||
संस्कृति का भी केन्द्र है नगरी,कई एक घटनाएं और भी ||३२||
हरीषेण चक्री यहाँ जन्मे, उनके पिता मुनीदीक्षा ले ||३३||
तपकर केवलज्ञान को पाया, जीवन अपना सफल बनाया ||३४||
हरीषेण दसवें चक्री थे, राज्य किया और दीक्षा लेके ||३५||
सिद्धशिला को प्राप्त कर लिया, शिवलक्ष्मी का वरण कर लिया ||३६||
राज्य अवस्था में जब थे वे, जिनप्रतिमा पधराईं उनने ||३७||
ब्रम्हदत्त बारहवें चक्री, विषयलम्पटी हुए नारकी ||३८||
विमलनाथ जिननगरी प्यारी, इतिहासिक महिमामय न्यारी ||३९||
इसकी रज मस्तक पर धारो ,विमलप्रभू को शीश नमा लो ||४०||
-शम्भु छंद –
जिन जन्मभूमि का चालीसा, जो चालिस दिन तक पढ़ते हैं |
इस चार कल्याणक से पूजित, नगरी की यात्रा करते हैं ||
श्री विमलप्रभू की भक्ती से, मन विमल सदा हो जाता है |
आत्मा में तीर्थ प्रगट ‘इंदू’ हो, सिद्धशिला को पाता है ||१||

Vandana 2.jpg

तीर्थंकर जन्मभूमि चालीसा