"भगवान संभवनाथ जन्मभूमि श्रावस्ती तीर्थक्षेत्र चालीसा" के अवतरणों में अंतर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति ३: पंक्ति ३:
 
==<CENTER>'''भगवान संभवनाथ जन्मभूमि श्रावस्ती तीर्थक्षेत्र चालीसा'''</CENTER>==
 
==<CENTER>'''भगवान संभवनाथ जन्मभूमि श्रावस्ती तीर्थक्षेत्र चालीसा'''</CENTER>==
 
<POEM> <CENTER> <FONT COLOR= RED>
 
<POEM> <CENTER> <FONT COLOR= RED>
 
+
[[चित्र:Teerthankar_janmbhuumi_darshan019.jpg|250px|center]]
 
-दोहा-
 
-दोहा-
 
संभव जिन के जन्म से,पूज्य सुपावन धाम |
 
संभव जिन के जन्म से,पूज्य सुपावन धाम |

१६:३७, ९ जुलाई २०२० के समय का अवतरण

भगवान संभवनाथ जन्मभूमि श्रावस्ती तीर्थक्षेत्र चालीसा

 

Teerthankar janmbhuumi darshan019.jpg

-दोहा-
संभव जिन के जन्म से,पूज्य सुपावन धाम |
उस श्रावस्ती तीर्थ को,शत-शत करूं प्रणाम ||१||
चालीसा जिनराज का,पढ़ो सुनो मन लाय |
\लौकिक सुख के संग में,मुक्ति सहज मिल जाय ||२||
-चौपाई-
भारतभूमी के अंचल में, यू.पी.है स्टेट धर्ममय ||१||
बहराइच के निकट तीर्थ है, श्रावस्ती तीरथ प्रसिद्ध है ||२||
हुए करोड़ों वर्ष वहाँ पर, धनद रत्नवृष्टी कर सुन्दर ||३||
गर्भकल्याणक उत्सव गाए, सुर,नर,मुनिगण हर्ष मनाएं ||४||
मात सुषेणा देखें सपने, दृढरथ पितु उत्तर दे हरषे ||५||
कार्तिक सुदि पूनो तिथि आई, तब त्रैलोक्य में खुशियाँ छाईं ||६||
इन्द्र सपरिकर उस भू पर आ, त्रय प्रदक्षिणा देकर हरषा ||७||
श्री ह्री आदि देवियों कों ले, माता की परिचर्या करने ||८||
जब तीर्थंकर बालक जन्में, तब श्रावस्ती के क्या कहने ||९||
सहस नेत्र से इन्द्र निरखता , देख-देखकर तृप्त न होता ||१०||
मेरु सुदर्शन पर ले जाकर , किया न्ह्वन तीर्थंकर शिशु पर ||११||
वह जन्मोत्सव था रोमांचक , देव,इन्द्र,मुनिगण पुलकित मन ||१२||
शैशव से फिर यौवन आया, ब्याह किया अरु राज्य चलाया ||१३||
मेघ विघटते जब देखा था ,प्रभु के मन वैराग्य जगा था ||१४||
मगशिर सुदि पूनो तिथि पावन, लौकंतिक सुर आये वहाँ पर ||१५||
सिद्धार्था पालकि में जाकर, सहस नृपति सह दीक्षा लेकर ||१६||
घोर तपश्चर्या करते थे, केवलज्ञान प्रगट हुआ उनके ||१७||
मगशिर वदी चतुर्थी तिथि में, धनद समवसृति रचना करते ||१८||
दिव्यध्वनी का पान करें सब, आत्मा का उत्थान करें सब ||१९||
अश्व चिन्ह से सब जग जाने, साठ लाख वर्षायू बखानें ||२०||
चार कल्याणक से पावन है, वह श्रावस्ती मनभावन है ||२१||
गिरि सम्मेद से मोक्ष पधारे, श्री संभव जिनराज हमारे ||२२||
करो कल्पना हर उस क्षण की,जब वह नगरी संभवमय थी ||२३||
स्वर्ग से सुन्दर दिव्य अनुपमा, शास्त्रों में मुनि गायें महिमा ||२४||
आज भी उसका कण-कण पावन, बना वहाँ मंदिर मनभावन ||२५||
पुरातत्व के अवशेषों से, साक्ष्य पुरानी घटना कहते ||२६||
उस पावन तीरथ को नम लो,निज आत्मा को पावन कर लो ||२७||
हे संभव जिन ! अंतर्यामी ,वीतराग प्रभु त्रिभुवन स्वामी ||२८||
तीरथयात्रा सब सुख देगी , आत्मा को भी तीर्थ करेगी ||२९||
दो मंदिर हैं श्रावस्ती में,सहेट महेट तीरथ को कहते ||३०||
जो प्राचीन जिनालय उसमें , श्वेतवर्ण मनहर प्रभु तिष्ठे ||३१||
यक्ष-यक्षिणी वहाँ पे राजित, तीर्थ सुरक्षा हेतु विराजित ||३२||
दूजा मंदिर चौबीसी का, बाहुबली भगवान भी वहाँ ||३३||
कुछ क्षण शान्ति धार कर रुकना , मन में प्रभु का सुमिरन करना ||३४||
हर मनवांछा पूरी होगी , प्रभुभक्ती तुमको सब देगी ||३५||
जो प्रभु का स्तवन उचारें , भरें सौख्य भंडार वे सारे ||३६||
जो प्रभुवर का पूजन करते, नवनिधि का वे सार समझते ||३७||
रोग,शोक,भय,पीड़ा नाशे,मानस आधि व्याधि सब भागे ||३८||
जन्म मरण का चक्र मिटा दो, अपने जैसा हमें बना दो ||३९||
यही आश ले ‘इंदू’ आया, भवदुख से प्रभु मैं अकुलाया ||४०||
-शम्भु छंद –
संभव जिन जन्मभूमि वंदन,कर्मों का बंधन छुडवावे |
उस तीरथ से प्रार्थना मेरी, आत्मा भी तीरथ बन जावे ||
चालीसा चालिस दिन करके, तीरथ का यजन करूं स्वामी |
है भाव यही संसार के पुनरागमन से छूटूँ जगनामी ||१||

Vandana 2.jpg

तीर्थंकर जन्मभूमि चालीसा