"भगवान सुपार्श्वनाथ-पार्श्वनाथ जन्मभूमि वाराणसी तीर्थक्षेत्र चालीसा" के अवतरणों में अंतर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति २: पंक्ति २:
 
==<CENTER>'''भगवान सुपार्श्वनाथ,पार्श्वनाथ जन्मभूमि वाराणसी तीर्थक्षेत्र चालीसा '''</CENTER>==
 
==<CENTER>'''भगवान सुपार्श्वनाथ,पार्श्वनाथ जन्मभूमि वाराणसी तीर्थक्षेत्र चालीसा '''</CENTER>==
 
<POEM> <CENTER> <FONT COLOR= green>
 
<POEM> <CENTER> <FONT COLOR= green>
 +
[[चित्र:Teerthankar_janmbhuumi_darshan080.jpg|250px|center]]
 
-दोहा-
 
-दोहा-
 
वाराणसि जी तीर्थ को, नमन करूं शत बार |
 
वाराणसि जी तीर्थ को, नमन करूं शत बार |

१७:५८, २ जुलाई २०२० के समय का अवतरण

भगवान सुपार्श्वनाथ,पार्श्वनाथ जन्मभूमि वाराणसी तीर्थक्षेत्र चालीसा

 

Teerthankar janmbhuumi darshan080.jpg

-दोहा-
वाराणसि जी तीर्थ को, नमन करूं शत बार |
चालीसा उस भूमि का , जग में मंगलकार ||१||
द्वय तीर्थंकर जन्मभू ,का वर्णन सुखकार |
पढ़ो सुनो सब भव्यजन , मिलती शान्ति अपार ||२||
-चौपाई –
तीर्थराज वाराणसि पावन, यहाँ का कण-कण है मनभावन ||१||
वर्ष करोड़ों पूर्व की घटना , ग्रन्थ पुराण कहें जिनमहिमा ||२||
कर्मभूमि प्रारम्भ हुई जब, सौधर्मेंद्र पधारे उस क्षण ||३||
श्री वृषभेश्वर की आज्ञा से , बावन जनपद इन्द्र ने रचके ||४||
इक का वाराणसी नाम कर, चला इन्द्र प्रभु को वंदन कर ||५||
सप्तम तीर्थंकर सुपार्श्वजी , जन्में यहीं बनारस नगरी ||६||
श्री सुप्रतिष्ठ पिता अरु पृथ्वीषेणा माता धन्य-धन्य थीं ||७||
भादों सुदी षष्ठी थी पावन, मात गर्भ में हुआ आगमन ||८||
ज्येष्ठ सुदी द्वादशि को जन्में,लोकालोक सभी प्रमुदित थे ||९||
जन्मतिथी में ही दीक्षा ली, फाल्गुन शुक्ला आई षष्ठी ||१०||
केवलज्ञान प्रभू ने पाया, इन्द्र ने समवसरण रचवाया ||११||
गिरि सम्मेद से मोक्ष पधारे ,श्री सुपार्श्व जिनराज हमारे ||१२||
पुनः करोड़ों वर्ष बाद में , जन्मे श्री जिन पारस स्वामी ||१३||
पौष कृष्ण ग्यारस शुभ तिथि थी,वामा माता धन्य-धन्य थीं ||१४||
अश्वसेन नृप के घर खुशियाँ , तीनों लोकों में आनंद था ||१५||
बालब्रह्मचारी वे प्रभुवर , वीतराग सर्वज्ञ हितंकर ||१६||
प्रभु वृषभेष चरित्र सुना जब, मन वैराग्य समाया तत्क्षण ||१७||
लिया अश्ववन में जा दीक्षा , पौष कृष्ण ग्यारस का दिन था ||१८||
पूर्व भवों का वैरी संवर , दारुण कर उपसर्ग प्रभू पर ||१९||
पद्मावति धरणेन्द्र पधारे, छत्र तान स्तवन उचारें ||२०||
केवलज्ञान रमा परणाई , चैत्र कृष्ण सुचतुर्थी आई ||२१||
द्वय तीर्थंकर से है पावन, तीर्थ बनारस है मनभावन ||२२||
दोनों प्रभु सम्मेदशिखर से , सिद्धशिला पर जाकर तिष्ठे ||२३||
जैनधर्म की प्रभावना के , कई कथानक शास्त्र हैं कहते ||२४||
अपनी पुत्री सुलोचना का, नृप थे अकम्पन स्वयंवर रचा ||२५||
प्रथा स्वयंवर शुरू हुई थी, काशी नगरी जगप्रसिद्ध थी ||२६||
मल्लिप्रभू के तीर्थकाल में, पद्म चक्रवर्ती यहाँ जन्में ||२७||
चक्ररत्न से छह खंड पाया, काशी को रजधानी बनाया ||२८||
और अधिक रोमांचक घटना , कहती है जिनधर्म की महिमा ||२९||
मुनी समंतभद्र को व्याधी , भस्मक थी नहिं थी उपशान्ती ||३०||
मुनीवेष का त्याग कर दिया , शिवमंदिर की शरण ले लिया ||३१||
ज्ञात हुआ जब नृप क्रोधित था , शिवपिंडी सम्मुख झुकना था ||३२||
व्याधि शांत हो चुकी थी उनकी, रच दी चौबिस जिनवर स्तुति ||३३||
जब चन्द्रप्रभु स्तुति पढ़ते ,पिंडी फटी चन्द्रप्रभु प्रगटे ||३४||
सब जय-जय जिनधर्म की गाते,पुनि दीक्षा ले मुनि हरषाते ||३५||
कवि बनारसीदास जी आए ,अर्धकथानक यहाँ रचायें ||३६||
पुरातत्व अवशेष कई हैं, और भदैनी घाट यहीं है ||३७||
जन्मस्थली सुपार्श्व प्रभू की, जनता आ नित वंदन करती ||३८||
श्री सुपार्श्व अरु पारस स्वामी, दुःख हरो सब अंतर्यामी ||३९||
हे जिनराज कृपा अब कर दो, ‘इंदु’ की वांछा पूरण कर दो ||४०||
-शम्भु छंद –
वाराणसि तीर्थ की पावन भूमी श्रद्धायुत हो जो वंदें |
वे शिवपद के साम्राज्य हेतु मानो कर्मारि सभी खण्डें ||
भगवन सुपार्श्व अरु पार्श्व प्रभू की भक्ति उन्हें इच्छित वर दे |
संसार भ्रमण के कष्ट मिटें आत्मा परमात्म स्वरूप लहे ||१||

Vandana 2.jpg

तीर्थंकर जन्मभूमि चालीसा