केवलज्ञान

ENCYCLOPEDIA से
Editor (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित २२:४७, ३१ मई २०१३ का अवतरण (''''केवलज्ञान'''<br /> चार घातिया कर्मों के नाश से उत्पन्न ...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

केवलज्ञान
चार घातिया कर्मों के नाश से उत्पन्न होने वाले पूर्ण ज्ञान को केवलज्ञान कहते हैं ।