01. अध्याय-१

ENCYCLOPEDIA से
Jainudai (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित १९:०३, ९ जुलाई २०१७ का अवतरण
(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

01.अध्याय

मंगलाचरण

सिद्धा: जयन्तु त्रैलोक्ये, जीयात् श्रीवृषभेश्वर:।
जीयात् श्रीवीरनाथोऽपि, जीयात् श्री जैनशासनम्।।१।।
कुन्दकुन्दगुरुर्जीयात्, जीयात् श्रीशांतिसागर:।
जीयात् पट्टाधिपस्तस्य, सूरि: श्रीवीरसागर:।।२।।
श्री ब्राह्मी गणिनी जीयात्, जीयादन्तिमचन्दना।
जीयात् ज्ञानमती माता, गणिन्यां प्रमुखा कलौ।।३।।
अनन्तानन्ताः सि(परमेष्ठिनो भगवन्तस्त्रिषु लोकेषु जयवन्तो भवेयुः। ड्डतयुगे प्रथम- तीर्थंकरो भगवान् )षभदेवो जयशीलो भवतु, अन्तिमतीर्थंकरो भगवान् महावीरस्वामी जयशीलो भवतु, अनादिनिधनं जैनशासनं सदैव जयशीलं स्यात्।
भगवतो महावीरस्य शासनानुवर्ती आचार्यश्रीकुन्दकुन्दो जयवान् तिष्ठतु, तस्यैव परम्परायां विंशतिशताब्द्याः प्रथमाचार्यश्चारित्रचक्रवर्ती श्रीशान्तिसागरो जयतु। तस्यैव प्रथमपट्टशिष्यः आचार्यवीरसागरोऽपि सदैव जयशीलो भवतु।
भगवतो )षभदेवस्य समवसरणस्य प्रमुखगणिनी आर्यिका माता ब्राह्मी अस्यां धरायां जयशीला भवतु, भगवतो महावीरस्य समवसरणस्य प्रमुखगणिनी आर्यिका चन्दनासती माता जयशीला भवतु, वर्तमानयुगे च आर्यिकाणां शिरोमणिः प्रमुखगणिनी आर्यिका माता ज्ञानमती सदा जयवती भवेत्।


अर्थ-

अनन्तानन्त सिद्ध परमेष्ठी भगवान तीनों लोकों में जयवन्त होवें, कृतयुग के प्रथम तीर्थंकर भगवान ऋषभदेव जयशील हों, अंतिम तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी जयशील हों तथा अनादिनिधन जैनशासन सदैव जयशील रहे।

भगवान महावीर के शासनानुवर्ती आचार्यश्री कुन्दकुन्द स्वामी जयवन्त रहें, उनकी परम्परा में बीसवीं सदी के प्रथमाचार्य चारित्रचक्रवर्ती श्री शांतिसागर मुनि महाराज जयवन्त होवें तथा उनके प्रथम पट्टशिष्य आचार्य श्री वीरसागर महाराज भी सदा-सर्वदा जयशील होवें।

भगवान ऋषभदेव के समवसरण की प्रमुख गणिनी आर्यिका श्री ब्राह्मी माता इस धरा पर जयशील होवें, भगवान महावीर के समवसरण की प्रमुख गणिनी आर्यिका श्री चन्दना महासती जयशील होें तथा वर्तमान युग में आर्यिकाओं की सिरमौर प्रमुख गणिनी आर्यिका श्री ज्ञानमती माताजी सदा जयवन्त रहें।

आर्यिका चर्याः

आधुनिकपरिवेशे, सः श्रावकः स्यान्मुनिर्वा, श्राविकास्यात् आर्यिका वा स्पष्टरूपेण तेषां, तासां चर्याणां ज्ञानमावश्यकं वर्तते। आचार्यः श्रीयतिवृषभः स्वामी अकथयत्-

पंचमकालस्यान्तपर्यन्तं मुन्यार्यिकाणां, श्रावकश्राविकाणां वा चतुर्विधसंघोऽनुवर्तनं करिष्यति। अधुनापर्यन्तं तु प´चमकालस्य 2536 वर्षाणि मात्रं व्यतीतानि अभवनद्ध शेषाणि 18464 वर्षाणि पर्यन्तं निरन्तर ईदृश्येवाक्षुण्णा परम्परा प्रवाहमाना भविष्यति। तस्याः फलस्वरूपेण वर्तमाने प्रायः एकादशशतसंख्यायां जैनसाधूनां साध्वीनां च दर्शनानि भवन्ति, एतच्च चारित्रचक्रवर्तिनः आचार्यस्य शान्तिसागरस्य ड्डपाप्रसादस्य फलमस्ति।
अस्यां चतुर्विधसंघश्रंृखलायां महिलाभ्यः त्यागस्य चरमसीमा आर्यिकाणां पदं मान्यमस्ति।

वस्तुतस्तु यदि दृश्यते धार्मिकसामाजिकराजनैतिकक्षेत्रेषु प्राचीनकालादेव नारीणां योगदानमुल्लेखनीयं वर्तते। येन प्रकारेण पुरुषाणां आत्मसाधनां कर्तुं जैनेश्वरीदीक्षां प्राप्य मोक्षं प्राप्तुमधिकारोऽस्ति तथैव महिलाभ्योऽपि। सा कुमारी, सौभाग्यवती विधवा वा स्यात्, सर्वाभ्यः आत्मकल्याणं कर्तुमधिकारो सदैव वर्तते।

‘परन्तु-बाढं! मध्यकालस्यैकं युगमीदृशमासीत्, यदा नारीसु अत्याचाराः अभवन्, अनेक प्रकाराणां च प्रताडनाः ताः प्राप्नुवन्। परन्त्वाधुनिकपरिप्रेक्ष्ये नारीणां स्वमहत्त्वपूर्णं स्थानमस्ति। भारतीयसंविधानानुसारेणापि पुत्र-पुत्रीभ्यां द्वाभ्यामेव पित्रोः सम्पत्तौ समानाधिकारोऽस्ति।
अस्मिन् कर्मयुगे प्रारम्भे यथा तीर्थंकरः आदिनाथः दीक्षां गृहीत्वा मुनिपरम्परां प्रारभत, तथैव तस्य पुत्र्यौ ब्राह्मीसुन्दर्यौ दीक्षां गृहीत्वा आर्यिकापरम्परायाः शुभारम्भमकुरुताम्। किं- वदन्त्यां जनाः एवमपि कथयन्ति यत् भगवान् आदिनाथः स्वजामातारं प्रति मस्तकं नम्रीभूतं कर्तुं परवशं न कर्तुं तस्य द्वे कन्ये विवाहबन्धनं पादाहतं ड्डत्वा दीक्षामधारयताम्। किन्तु एतत् कथनं किंचित् युक्तिसंगतं न प्रतीयते। न च इतिहासः एतानि तथ्यानि स्वीकरोति। तीर्थंकरस्य तु प्रत्येकक्रिया अद्वितीयैव भवति। ते शैशवावस्थायाः एव स्वमातरं पितरं दिगम्बरमुनिं च न नमन्ति। एतेन तेषामहंकारो नैव, परन्तु तीर्थंकरपदव्याः महत्त्वं माहात्म्यं च प्रकटितं भवति। माता, पिता दिगम्बरमुनिराजस्तेषामेतस्याः क्रियायाः प्रतिरोधं न कुर्वन्ति परन्तु तीर्थंकरत्वस्य पुण्यस्य प्रशंसां कुर्वन्ति।

कथनस्य तात्पर्यमेतदस्ति य्ात् ब्राह्मीसुन्दर्यौ कन्ये उत्कटवैराग्यभावनया आर्यिकादीक्षाम- धारयताम्, सहस्रअर्यिकासु ब्राह्मीः माता प्रधानगणिनीपदं प्राप्नोत्। सार्वभौमो जैनधर्मः प्राणिमात्रस्य हितकारकोऽस्ति। एतद्विचिन्त्य हृदये संसारसमुद्रात् पारं गन्तुं भावनां गृहीत्वा तादृशी महिला प्रथमं साधुसंघं प्रविशति पुनः तस्याः वैराग्यभावेषु वृ(िः प्रारभ्यते, चतुर्विधसंघस्य नायकः आचार्यस्तस्यै समुचिताः शिक्षाः प्रदाय संघस्य प्रमुखाऽऽर्यिकायाः गणिन्याः वा उत्तरदायित्वे प्रददाति। प्रयत्नं करोति यत् आर्यिकाः एव महिलानां सुरक्षां पोषणं च विधातुं प्रभवन्ति।

यथा बालको मातरं पितरं च प्रति पूर्णरूपेण समर्पितो भवति, माता च तं भत्र्सयेत्, ताडयेत्, स्वात्मनश्च दू्ररीकर्तुं प्रयासं करोतु परन्तु बालको रोदनस्य पश्चादपि मातुरंकमागत्यैव शान्तिं प्राप्नोति। मातुर्हृदयं बहूदारं भवति तस्याः ममत्वस्य छायायागत्य तस्य दुःखभावो सुखरूपेण परिवर्तते। अतएव मातुर्महत्तां दर्शयितुं नीतिकारश्च शिक्षां ददाति-

‘‘भोजनं मात्रैव कर्तव्यं स्यादिदं विषं, मार्गोऽपि सरलं चलितुं योग्यः स्यात्तस्मिन् चक्रम्।’’

अतएव वैराग्यवती महिलाऽपि आर्यिकामातुः शिष्यत्वं गृहीत्वा आत्मानं तां प्रति समर्पयति। तां च निवेदनं करोति-मातः। अहं आत्मनः अनन्तं ससारं समाप्तं कर्तुं, स्त्रीलिंगस्य भेदनहेतवे दीक्षां गृहीतुमिच्छामि। अतएव भवती मह्यं हस्तावलम्बनं दत्वा ममात्मनः कल्याणं करोतु।
एतासामौपचारिकतानां समाप्तौ, पश्चात् गणिन्यार्यिका तां नववैराग्यशालिनीं महिलां कतिचित् दिनानि स्वसमीपेे रक्षति। तस्याश्चात्र मनसो दृढतां, शरीरिकक्षमतां तस्यां च आर्यिकादीक्षायाः योग्यतां निरीक्षते, तां धार्मिकाध्ययनं च कारयति। साधुसंघं प्रविश्यैव सा दीक्षाधारणमेव करोतु नैतदावश्यकम्। सर्वप्रथमं तु तस्यां साधूनां वैयावृत्तिं कतुं आहारदानस्य च भावना भवितव्या। भिन्न प्रदेशानां भिन्नप्रड्डतीनां च संघस्थाभिः आर्यिकाभिः ब्रह्मचारिणी- भिश्च, सह प्रेमपूर्वकं स्थातुं प्रवृत्तिर्भविष्यति। यथा संघे कस्यापि प्रकारस्य अशान्तेर्वातावरणं समुपस्थितं न भवेत्। अतः यथानुरूपेण आत्मानं कर्तुं तस्यां महिलायां प्रथमगुणो भवितव्यः।
कुमार्यः बालिकाः महिलाश्च ब्रह्मचर्यव्रतं स्वीड्डत्य आर्यिकाणां समीपे निवसन्ति। आहारदानादिके च भागं गृह्णन्ति। इयं वार्ता ‘‘अनन्तमत्या’’ उदाहरणेन साक्षात् सुस्पष्टं भवति।

यथा चोदाहरणमागच्छति-
अंगदेशस्य राज्ञः प्रियदत्तस्य, राज्ञ्याः अंगवत्याश्च ‘‘अनन्तमती’’ नाम्ना एका कन्याऽसीत्। सा बाल्ये कुतूहलवशात् पित्रा अष्टाह्निकापर्वणि अष्टदिनानां ब्रह्मचर्यव्रतमगृह्णात्। यस्य च फलस्वरूपेण सा आजन्मब्रह्मचर्यव्रतस्य पालनमकरोत्।

एकदा पूर्वजन्मवैरिणा शत्रुणा विद्याधरेण तस्याः हरणं ड्डत्वा तामेकस्मिन् भयानकवने अपातयत्। अनेकानि कष्टानि सोढ्वा यथा तथा तस्याः शीलस्य रक्षाऽभवत्, जिनेन्द्रभगवतः स्मरणं ड्डत्वा भ्रमन्त्येवकस्मिन्नपि समये ‘‘अयोध्यानगरीं’’ प्राप्ता। तत्र चैकस्मिन् जैनमन्दिरे पद्मश्रीनामिकायाः आर्यिकायाः दर्शनानि अभवन्। तदा सा तां माता मत्वा तस्याः समीपेऽतिष्ठत्।
 
अनन्तमत्याः पिता च पुत्रीमन्विष्यन् अयोध्यानगरी प्राप्तः तत्र चैकस्मिन् जैनमन्दिरे ‘‘पद्मश्री’’ नामिकायाः आर्यिकायाः दर्शनानि अभवन्। तत्र च एकस्य श्रावकस्य गृहस्याग्रे सुन्दरं प्रांगणपूर्तिं दृष्ट्वा अरुदत्। पुनश्च सः श्रावकमप्रच्छत्। सः अकथयत् मम पुत्रीदृशमेव आंगनपूर्णमकरोत्। अधुना न जानामि सा कुत्रास्ति? श्रावकः आर्यिकायाः समीपे स्थितायाः तस्याः कन्यायाः प्रियदत्तं परिचयमकारयत्। अकथयच्च मम पत्नी एनां प्रतिदिनं स्व भोजनस्थाने भोजनं कर्तुं निमंत्रयति। भोजनस्थाने सज्जां सैव कन्या करोति।

पितुः पुत्र्योश्चिरवियोगानन्तरं मिलनं भवति। परन्तु अनन्तमत्याः मनसि तु संसारं प्रति पूर्णो वैराग्योऽभवत्। अतएव सा पितुराज्ञां गृहीत्वा आर्यिकाया सान्निध्ये दीक्षामगृह्णात्। घोरातिघोरतपश्चरणं कुर्वन्ती सल्लेखनापूर्वकं मरणं ड्डत्वा सहस्रार स्वर्गे देवपदं प्राप्नोत्।

एवमुदाहरणानि वर्तमानेऽपि दृश्यन्ते। यो हि बालको बालिका वा, महिला स्यात् पुरुषो वा, सर्वेभ्यः द्वावेव मार्गौ प्रशस्तौ स्तः। ते साधुभ्यः नवधाभक्तिपूर्वकमाहारदानं कुर्वन्ति अन्यथा स्वयमेव साधुपरमेष्ठिनः पदं प्राप्य श्रावकेभ्यः आहारं गृह्णन्ति। एतदतिरिक्त आगमानुसारेण तृतीया श्रेणी न कापि भवति। यदि मनोभिः निर्मिता सा श्रेणी कल्प्यते तु ‘‘स्वयं विमानः पण्डितः यजमानामपि निमज्जित करोति’’, इति नीतिरेव चरितार्था भवति। यतो हि निम्नेपदे स्थित्वा यदि उच्चैः पदस्य अनधिड्डताः क्रियाःं क्रियन्ते तु नीच-गोत्रस्यारवो बध्यते। सोऽनेनैव प्रकारेण भ्रमितो भवति।

संघस्य मध्ये गुव्र्याः गणिन्याश्चानुशासने स्थित्वा विद्याभ्यासकरणेन ब्रह्मचारिणीनां जीवने एतासामनर्गलक्रियाणां भावनाः प्रायः नोद्भवन्ति। अतएव आर्यिकाणां प्रशस्तपरम्परा ताभिरेव चलति। यदा संघस्य संरक्षणे तिष्ठन्त्यस्ताः विद्याशिक्षानिपुणाः भवन्ति तदैव ताः दीक्षायोग्याः भवन्ति, व्यावहारिकज्ञानस्यानुभवं प्राप्नुवन्ति तदैव ताः दीक्षायोग्याः मताः सन्ति।

संघस्य आचार्यः गणिनी आर्यिका वा यदा तां वैराग्यशीलां महिलां पूर्णरूपेण परीक्षन्ते तदा तस्याः दीक्षायाः मंगलमुहूर्तं प्राप्य घोषणां कुर्वन्ति। औपचारिकरूपेण दीक्षार्थिकुटुम्बि- जनानामाज्ञा प्राप्यते, यतो दीक्षासदृशं पुनीतं कार्यं निर्विघ्नतया संपन्नं भवेत्।

दीक्षार्थिन्याः महिलायाः इच्छानुसारेण तीर्थयात्राःअपि कारिताः भवन्ति। पुनः जिनधर्मप्रभावनाहेतवे दीक्षार्थिन्याः शोभायात्राः अपि सम्पन्नतां प्राप्नुवन्ति। एतत् कार्यं गृहस्थश्रावकेषु दीक्षार्थिन्याः परिवारजनेषु च निर्भरमस्ति।

एताः सर्वाः क्रियाः वर्तमानकाले लोकव्यवहारस्य दृष्ट्या धार्मिक प्रभावनायाश्च दृष्ट्या एव सम्पाद्यन्ते। एताभिरात्मकल्याणस्य कोऽपि सम्बन्धो नास्ति। पूर्वकालस्य उदाहरणान्यापि अस्माकं समक्षं सन्ति। यत् वैराग्योत्पन्नतायाः पश्चात् कस्याः अपि घटिकायाः प्रतीक्षा न क्रियते। वस्तुतो वैराग्यमेव सर्वोत्तमं शुभमुहूर्तं मतमस्ति।

आदिपुराणस्य पृष्ठे 592 तमेऽपि जिनसेनाचार्योऽलिखत्-
भरतस्यानुजा ब्राह्मी दीक्षित्वा गुर्वनुग्रहात्।
गणिनीपदमार्यायां सा भेजे पूजितामरैः।

आर्यिका चर्या

आधुनिक परिवेश में चाहे श्रावक हो या मुनि, श्राविका हो या आर्यिका, स्पष्ट रूप में उनकी चर्या का ज्ञान होना आवश्यक है। आचार्यश्रीयतिवृषभस्वामी ने कहा है-

पंचमकाल के अंत तक मुनि-आर्यिका, श्रावक-श्राविका का चतुर्विध संघ वर्तन करेगा। अभी तो पंचमकाल के मात्र २५३६ वर्ष व्यतीत हुए हैं, शेष १८४६४ वर्षों तक निरन्तर ऐसी ही अक्षुण्ण परम्परा चलती रहेगी। इसके फलस्वरूप वर्तमान में लगभग ग्यारह सौ की संख्या में दिगम्बर जैन साधु-साध्वियों के दर्शन हो रहे हैं, यह चारित्र चक्रवर्ती आचार्यश्री शांतिसागर महाराज की कृपाप्रसाद का फल है।

उस चतुर्विध संघ शृंखला में महिलाओें के लिए त्याग की चरमसीमा आर्यिका का पद माना जाता है।

वैसे देखा जाए तो धार्मिक, सामाजिक तथा राजनीतिक आदि समस्त क्षेत्रों में प्राचीन काल से नारियों का योगदान रहा है। जिस प्रकार से पुरुषों को आत्मसाधना करने का एवं जैनेश्वरी दीक्षा लेकर मोक्ष प्राप्त करने का अधिकार है, उसी प्रकार से प्रत्येक महिला को, चाहे वह कुंवारी हो, सौभाग्यवती हो या विधवा हो, सभी को आत्म कल्याण करने का अधिकार सदैव से प्राप्त है।

हाँ! मध्यकाल का एक युग ऐसा आया था, जब नारियों पर अत्याचार होते थे एवं अनेकों प्रकार की प्रताड़नाएं उन्हें प्राप्त होती थीं परन्तु आधुनिक परिप्रेक्ष्य में नारियों का अपना महत्वपूर्ण स्थान है। भारतीय संविधान के अनुसार भी पुत्र और पुत्री दोनों को माता-पिता की संपत्ति में बराबर का अधिकार बताया गया है।

इस कर्मयुग के प्रारंभ में जिस प्रकार से तीर्थंकर आदिनाथ ने दीक्षा लेकर मुनि परम्परा को प्रारंभ किया, उसी प्रकार उनकी पुत्री ब्राह्मी-सुन्दरी ने दीक्षा लेकर आर्यिका परम्परा का शुभारंभ किया है। किंवदन्ती में ऐसा लोग कह देते हैं कि भगवान् आदिनाथ को अपने दामाद के समक्ष मस्तक झुकाना पड़ता इसीलिए उनकी कन्याओं ने विवाह बंधन ठुकरा कर दीक्षा धारण की थी किन्तु यह बात कुछ युक्तिसंगत नहीं प्रतीत होती है, न ही इतिहास इस तथ्य को स्वीकार करता है। तीर्थंकर की तो प्रत्येक क्रिया ही अद्वितीय होती हैै। वे शैशव अवस्था से ही अपने माता-पिता एवं दिगम्बर मुनि कोे भी नमस्कार नहीं करते हैं, इसमें उनका अहंकार नहीं, बल्कि तीर्थंकर पदवी का माहात्म्य प्रगट होता है। माता-पिता या दिगम्बर मुनिराज उनकी इस क्रिया का प्रतिरोध भी नहीं करते हैं प्रत्युत् तीर्थंकर के पुण्य की सराहना करते हैं।

कहने का तात्पर्य यह है कि ब्राह्मी-सुन्दरी कन्याओं ने उत्कट वैराग्य भावना से आर्यिका दीक्षा धारण की थी तथा हजारों आर्यिकाओं में ब्राह्मी माता ने प्रधान ‘गणिनी’ पद को प्राप्त किया था। ‘सार्वभौम जैनधर्म प्राणिमात्र का हित करने वाला है’ यह सोचकर हृदय में संसार समुद्र से पार होने की भावना को लेकर कोई महिला पहले साधु संघ में प्रवेश करती है पुन: उसके वैराग्य भावों में वृद्धि प्रारंभ होती है। चतुर्विध संघ के नायक आचार्य उसे समुचित शिक्षाएँ प्रदान कर संघ की प्रमुख आर्यिका या गणिनी के सुपुर्द कर देते हैं क्योंकि आर्यिकाएँ ही महिलाओं की सुरक्षा एवं पोषण कर सकती हैं।

जिस प्रकार से बालक माता के प्रति पूर्ण समर्पित होता है। चाहे माँ उसे डांटे, मारे और कितना भी अपने से दूर भगावे, किन्तु बालक रोने-धोने के पश्चात् भी माँ की गोद में ही आकर शांति प्राप्त करता है। माता का हृदय बहुत ही उदार होता है, उसकी ममता के आंचल तले जाकर बड़े से बड़ा दु:ख भी सुख रूप में परिवर्तित हो जाता है। इसीलिए माँ की महानता बतलाते हुए नीतिकारों ने शिक्षा दी है-

‘‘भोजन करना माँ से चाहे जहर हो,

रास्ता चलना सीधा चाहे फेर हो।’’

उसी प्रकार वैराग्य भावयुक्त महिला भी आर्यिका माता के शिष्यत्व को स्वीकार करके स्वयं को उनके प्रति समर्पित कर देती है और उनसे निवेदन करती है कि हे मात:! मैं अपने अनंत संसार को समाप्त करने हेतु, स्त्रीलिंग के छेदन हेतु दीक्षा ग्रहण करना चाहती हूँ अत: आप मुझे हस्तावलंबन देकर मेरी आत्मा का कल्याण कीजिए।

इन औपचारिकताओं के पश्चात् गणिनी आर्यिका उस नववैराग्यशालिनी महिला को कुछ दिन अपने पास रखती हैं और उसके मन की दृढ़ता को, शारीरिक क्षमता को एवं उसमें आर्यिका दीक्षा की योग्यता देखती हैं तथा धार्मिक अध्ययन भी कराती हैं। साधु संघ में प्रवेश करते ही वह दीक्षा धारण ही कर लेवे, यह कोई आवश्यक नहीं है। सर्वप्रथम तो उसमें साधुओं की वैयावृत्ति करने की एवं आहारदान की भावना होनी चाहिए तथा भिन्न-भिन्न प्रदेशों की, भिन्न-भिन्न प्रकृति वाली संघस्थ आर्यिकाओं व ब्रह्मचारिणियों के साथ प्रेमपूर्वक रहने की प्रवृत्ति होनी चाहिए ताकि संघ में किसी प्रकार की अशांति का वातावरण न उपस्थित होने पावे। यह यथानुरूप ढल जाना उस महिला में सबसे बड़ा गुण होना चाहिए।

कुमारी बालिकाएं तथा महिलाएँ ब्रह्मचर्य व्रत लेकर आर्यिकाओं के पास रहती हैं और आहार-दानादिक में भाग लेती हैं, यह बात ‘‘अनंतमती’’ के उदाहरण से साक्षात् स्पष्ट होती है। जैसा कि कथानक में आता है-

अंग देश के राजा प्रियदत्त और रानी अंगवती के ‘‘अनंतमती’’ नाम की एक कन्या थी। उसने बचपन में कुतूहलवश पिताजी से अष्टान्हिका पर्व में आठ दिनों का ब्रह्मचर्य व्रत ग्रहण किया था, जिसके फलस्वरूप उसने आजन्म ब्रह्मचर्यव्रत का पालन किया।

एक बार कोई पूर्व जन्म के वैरी शत्रु विद्याधर ने उसका हरण कर उसे एक घनघोर जंगल में डाल दिया। अनेकों कष्टों को सहन कर जैसे-तैसे उसके शील की रक्षा हुई, तब वह जिनेन्द्र भगवान का स्मरण कर भटकती हुई किसी समय ‘अयोध्या’ नगरी पहुँच गई। वहाँ एक जिनमंदिर में ‘‘पद्मश्री’’ नाम की आर्यिका के दर्शन हुए, तब वह उन्हें माता समझ कर उनके पास रहने लगी।

अनंतमती के पिता उसे ढूंढते-ढूंढते जब अयोध्या पहुँचे, वहाँ एक श्रावक के घर के आगे सुन्दर चौक पूरा हुआ देखकर रोने लगे। श्रावक के द्वारा पूछने पर उसने बताया-मेरी पुत्री ऐसा चौक पूरा करती थी, अब वह पता नहीं कहाँ है? श्रावक ने आर्यिका के पास रहने वाली उस कन्या का प्रियदत्त से परिचय कराया और कहने लगा कि मेरी पत्नी इसे प्रतिदिन अपने चौके में भोजन करने के लिए बुलाती है और चौक भी यही कन्या बनाती है। पिता पुत्री का चिरवियोग के पश्चात् मिलन होता है किन्तु अनंतमती के मन में तो संसार के प्रति पूर्ण वैराग्य हो चुका था अत: उसने पिता की आज्ञा लेकर आर्यिकाश्री के पास दीक्षा धारण कर ली और घोरातिघोर तपश्चरण करती हुई सल्लेखनापूर्वक मरण करके सहस्रार स्वर्ग में देवपद को प्राप्त कर लिया।

इसी प्रकार के अनेकों उदाहरण वर्तमान में भी देखे जाते हैं क्योंकि चाहे बालक हो या बालिका, महिलाएँ हों या पुरुष, सभी के लिए दो ही मार्ग प्रशस्त होते हैं या तो वे साधुओं को नवधाभक्तिपूर्वक आहारदान देते हैं अन्यथा स्वयं साधु परमेष्ठी के पद को धारण कर श्रावकों से आहार लेते हैं। इसके अतिरिक्त आगमानुसार तीसरी श्रेणी कोई नहीं होती। यदि मनगढ़न्त अभिप्रायों से वह श्रेणी बना ली जाती है, तो ‘आप डूबे पांड्या ले डूबे जजमान’ वाली नीति ही सार्थक होती है क्योंकि नीचे पद में रहकर यदि उच्च पद की अनधिकृत क्रियाएँ की जाती हैं तो नीच गोत्र का आस्रव होता है एवं समाज भी भ्रमित हो जाती है।

संघ के बीच में एवं गणिनी गुर्वानी के अनुशासन में रहकर विद्याभ्यास करने से ब्रह्मचारिणियों के जीवन में इन अनर्गल क्रियाओं की संभावना प्राय: नहीं रहती है अत: ओं की प्रशस्त परम्परा इन्हीं से चलती है। जब संघ संरक्षण में रहती हुर्इं वे विद्या-शिक्षा में निपुण हो जाती हैं एवं व्यवहारिक ज्ञान आदि का अनुभव भी प्राप्त कर लेती हैं, तभी वे दीक्षा के योग्य मानी जाती हैं।

संघ के आचार्य अथवा गणिनी आर्यिका जी जब उस वैराग्यशील महिला का पूर्ण रूप से परीक्षण कर लेते हैं, तब उसकी दीक्षा का मंगल मुहूर्त निकालकर घोषणा करते हैं। औपचारिकता के नाते दीक्षार्थी के कुटुम्बियों से भी आज्ञा मंगानी होती है ताकि दीक्षा जैसा पुनीत कार्य निर्विघ्नरूप से सम्पन्न हो सके।

दीक्षार्थी महिला की इच्छानुसार तीर्थयात्राएँ भी उसे करवा दी जाती हैं पुन: जिनधर्म प्रभावना हेतु दीक्षार्थी की शोभायात्राएँ भी सम्पन्न होती हैं। यह कार्य गृहस्थ श्रावकों एवं दीक्षार्थी के परिवार वालों पर निर्भर रहता है।

यह क्रियाएँ वर्तमानकाल में लोक व्यवहार की दृष्टि से और धार्मिक प्रभावना के लक्ष्य से ही की जाती हैं। इसमें आत्मकल्याण का कोई विशेष संबंध नहीं है। पूर्वकाल के उदाहरण भी अपने समक्ष हैं कि वैराग्य होने के बाद पुन: किसी घड़ी की प्रतीक्षा नहीं की जाती क्योंकि असली वैराग्य ही सर्वोत्तम शुभ मुहूर्त माना जाता है।

आदिपुराण के पृष्ठ ५९२ पर श्री जिनसेन आचार्य ने लिखा है-

भरतस्यानुजा ब्राह्मी दीक्षित्वा गुर्वनुग्रहात्।

गणिनी पदमार्यायां सा भेजे पूजितामरै:।।


हरिवंशपुराणेऽपि पृष्ठे 183 तमेऽपि प्रकरणमस्ति-

ब्राह्मी च सुन्दरी चोभे कुमार्यौ धैर्यसंगते।

प्रव्रज्य बहुनारीभिरार्याणां प्रभुतां गते।।
अर्थात् ब्राह्मी सुन्दरी च द्वे कन्ये प्रभोरादिनाथस्य समवसरणे आर्यिकादीक्षामधारयताम्। ब्राह्मी चार्यिका संघस्य आर्यिकासु गणिनीः स्वामिन्यासीत्।
अस्य युगस्य प्रथमार्यिका भगवतः समवसरणे दीक्षामगृह्णात्। तत्पश्चाच्च महिलाभ्यः गणिन्या दीक्षाधारणस्यानेकोदाहरणानि विद्यन्ते। आदिपुराणस्य द्वितीये भागे-
‘‘भरतस्य सेनापतेर्जयकुमारस्य दीक्षायाः पश्चात् सुलोचनापि ब्राह्मीआर्यिकायाः सान्निध्ये दीक्षामधारयत्।’’
अन्यत्र हरिवंशपुराणेऽप्युक्तम्-
‘‘दुष्टस्य संसारस्य स्वभावं ज्ञात्वा सुलोचना स्वसपत्नीभिः सार्र्धं श्वेतां शाटिकां धृत्वा ब्राह्मीसुन्दर्योः सविधे दीक्षामगृह्णात्।’’ एतस्य पश्चात् हरिवंशपुराणे आर्यिका सुलोचना एकादशांगानां धारिणी च मता।
कुबेरमित्रस्य पत्नी धनवती संघस्य स्वामिन्याः आर्यिकाजिनमत्याः समीपे दीक्षामधारयत्। तस्याश्च यशस्वत्याः गुणवत्याश्च समीपे आर्यिकाणां माता कुबेरसेनाऽपि स्वपुत्र्या समीपे दीक्षामगृह्णात्।
पद्मपुराणेऽपि वर्णनं प्राप्यते-
‘‘रावणस्य मरणानन्तरं मन्दोदरी शशिकान्ताऽऽर्यिकायाः मनोहरैर्वचनैः प्रबोधं प्राप्य उत्ड्डष्टसंवेगं गुणान् च प्राप्तवती भूत्वा गृहस्थस्य वेशभूषां त्यक्त्वा श्वेतशाटिकया आवृताऽभवत् आर्यिका च संजाता। तस्मिन् समये च अष्टचत्वारिंशत्सहस्रसंख्यायां स्त्रियः संयममधारयन्। एतास्वेव रावणस्य भगिनी या खरदूषणस्य पत्न्यासीत् सा चन्द्रनखा-शूर्पणखाऽपि दीक्षामगृह्णात्।’’
माता कैकेयी भरतस्य दीक्षानन्तरं विरक्तमनसा श्वेतशाटिकया युक्ता भूत्वा त्रिंशत्शतस्त्रीभिः सह ‘‘पृथ्वीमत्याःआर्यिकायाः’’ समीपे दीक्षामगृह्णात्।
अग्नेः परीक्षानन्तरं रामचन्द्रः सीतां गृहं प्राप्तुमकथयत्। तदा सीता अकथयत्- अधुनाऽहं ‘‘जैनेश्वरीमार्यिकादीक्षां गृहीस्यामि।’’ तथैव केशानां लुंचनं ड्डत्वा पुनः शीघ्रं गत्वा पृथ्वीमत्याः आर्यिकायाः समीपे गत्वा दीक्षिताऽभवत्।
तस्याः विषये लिखितं यत् सीता वस्त्रमात्रपरिग्रहधारिणी महाव्रतैः पवित्रांगा महासंवेगं प्राप्ताऽऽसीत्।
अनेनैव प्रकारेण पद्मपुराणेऽपि रविषेणाचार्यः कथयति-
हनुमतो दीक्षानन्तरं अस्मिन्नेव समये शीलाभूषणधराः राजस्त्रियः ‘‘बन्धुमत्याः’’ आर्यिकायाः समीपे दीक्षामगृह्णन्।
श्रीरामस्य मुनेरवस्थाप्राप्तेरनन्तरं सप्तविंशतिसहस्रस्त्रियः ‘‘श्रीमत्याः’’ आर्यिकायाः समीपे दीक्षिताः अभवन्।
हरिवंशपुराणे राजुलमत्याः विषये उक्तम्-
षटसहस्रराज्ञीभिः सह राजमती सदा।
प्रव्रज्याग्रेसरी जाता सार्यिकाणां गणस्य तु।।
षट सहस्रराज्ञीभिः सह राजीमती भगवतो नेमिनाथस्य समवसरणे आर्यिकादीक्षां गृहीत्वा आर्यिकासु प्रधाना गणिनी जाता।
हरिवंशपुराणेऽप्यग्रे-
राज्ञश्चेटकस्य पुत्री चन्दनाकुमारी श्वेतसाटिकां धृत्वा भगवतो महावीरस्य समवसरणे आर्यिकासु प्रमुखतां प्राप्ताऽभवत्।
राज्ञः श्रेणिकस्य मृत्योः पश्चात् राज्ञी चेलना गणिन्याः आर्यिकायाः चन्दनायाः समीपं प्राप्य दीक्षिताऽभवत्। या च चन्दनायाः ज्येष्ठभगिन्यासीत् एवं उत्तरपुराणे कथनमस्ति, तथा
गुणानां भूषणधारिण्यः कुन्तीसुभद्राद्रौपदी च।। राजीमत्या गणिन्याः सविधे उत्ड्डष्टां दीक्षामगृह्णन्। अन्यान्यपि पुराणेषुकतिचिद् उदाहरणानि सन्ति यैः स्पष्टी भवति यत् एका प्रमुखा गणिनी आर्यिका समवसरणे तीर्थंकरस्य साक्षीपूर्वकं दीक्षिता भूत्वा अन्याभ्यः आर्यिकाभ्यः दीक्षाः प्रदत्ताः अकरोत्।
अद्यापि गणिनीभिरार्यिकाभिः आर्यिकाक्षुल्लिकाभ्यो दीक्षा प्रदीयते, एषा प्रसन्नतायाः वार्ताऽस्ति यदस्यामेव श्रृंखलायां वर्तमानस्य सर्वाधिका प्राचीनायाः दीक्षितायाः परमपूज्यायाः गणिन्याः आर्यिकारत्नस्य श्रीज्ञानमत्याः मातुः करकमलाभ्यामहमपि आर्यिका चन्दनामती भवितुं सौभाग्यं प्राप्नवम्।
वर्तमानयुगे आचार्यगणिनीभ्यां द्वाभ्यामेव महिलाभ्यः आर्यिका क्षुल्लिकादीक्षायाः परम्परा संचाल्यमाना विद्यते। अतएव स्वेच्छया वैराग्यशालिन्यः महिलाः यासां चरणेषु दीक्षायाः याचनां कुर्वन्ति, ताः उत्तरदायित्वपूर्वकं दीक्षाः प्रदाय अनुग्रहादिकानि ड्डत्वा ताः नवजीवने प्रवेशं कारयन्ति।
दीक्षादिवसात्पूर्वं सा श्राविकाया समस्तड्डत्यानि पूरयति। यथा जिनेन्द्रपूजाविधानं, उत्तमपात्रेभ्यः शक्त्यनुसारेण चतुर्विधं दानं दत्त्वा स्वमनः पवित्रं करोति।
दीक्षायाः शुभमुहूर्तस्यावसरे दीक्षार्थिन्याः, शोभायात्राऽऽयोज्यते। यया तस्याः परिवारजनाः स्वकामनाः पूरयितुं सौभाग्यं लभन्ते। यदि दीक्षार्थिनी कुमारी वा सौभाग्यवत्यस्ति तदा मेंहदी रचनादिः क्रियते। अयमप्येको मंगलावसरोऽिस्त यतः सा पूर्णरूपेण नवजीवने प्रवेशं करोति।
दीक्षायाः दृश्यं स्वत एव रोमांचकं भवति। भवतः पुत्र्याः विवाहः त्वेकस्मिन् लघुमण्डपे संपद्यते दीक्षायाश्च विशालकार्यं विशालमण्डपे सम्पद्यते। यत्रैकं परिवारं त्यक्त्वा ‘वसुधैव कुटुम्बुकम्’ अर्थात् समस्त एव संसारः स्व कुटुम्बोऽवगम्यते। परन्तु वास्तुविकता त्वियमस्ति न त्वेकः परिवारः स्वकीयोऽस्ति न च समस्तः संसारः स्वीकीयो भवितुमर्हति। स्वकीयं तु केवलं आत्मद्रव्यमस्ति, तस्यैव प्राप्तुं दीक्षा प्रधाना अस्ति। यथा स्वामी कुन्दकुन्दो दर्शितवान्-
‘‘आदहिदं कादव्वं जइ सक्कइ परहिदं च कादव्वं।’’.....इत्यादि।
आत्महितस्य प्रमुखतयैव दीक्षाग्रहणं सर्वोत्तमं कार्यमस्ति। यदि परहितोऽपि तेन सह स्यात्तु सम्यगस्ति परन्तु परहितभावो लक्ष्ये स्यात् तु आत्महिते बाधको भवितुमर्हति।
शोभायात्रायाः पश्चात् सभामण्डपे पूर्वमुखीमुत्तरमुखीं वा तामुपवेश्य गणिन्यार्यिका सर्वप्रथम केशलुंचनं प्रतिष्ठापनं सि(भक्तिं योगभक्तिं च पठित्वा दीक्षार्थिन्या केशलुंचनं प्रारभते।
पश्यन्-पश्यन्नेव सभामण्डपे असीमवैराग्यवातावरणं दृश्यं च समुपस्थीयते। इदमपि दृश्यते यत् सा दीक्षार्थिनी स्वयमपि वीरतापूर्वकं स्वकेशलुंचनं विदधाति।
तन्ममत्वं, येन बालिकायै दुग्धपानेन समं स्व शाटिकाया छायां प्रदत्तम्, तौ बाहुमूलौ यौ सदा भगिन्याः रक्षासूत्रं स्वीड्डतमकुुरुतां, स उत्संगः, यः कन्यारत्नमान्दोलनमिव आन्दोलितवान्, सः स्नेहिलपरिवारः, यः सदैव तस्याः सुखदुःखयोः हस्तं व्यतरत्, सर्वे तत्क्षणं वैराग्यस्य मोहिनीमुद्रां प्रति नतमस्तकाः भवन्ति। केचिच्च चिरकालीनमोहवशात् अश्रुधाराभिः स्वमलिन हृदयमपि निर्मलं कुर्वन्ति। कथितम्-
‘‘बधूं गृहीत्वा या वरयात्रा गता, सा न प्रत्यागच्छति। यः प्रातकालो गतः सः प्रातः पुनर्न प्रत्यागच्छति।।’’
मानवजीवनस्य प्रतिक्षणममूल्यं भवति अत तेषां क्षणानां सदुपयोगः कार्यः। दृश्यते एव बाल्यकालं, युवाकालं, वृ(ावस्थां च एतान् त्रिसमयान् यापयित्वा जनः कालकवलितो भवति। आत्मानं प्रति च तस्य दृष्टिर्न गच्छत्येव।
राजकुमारस्य गजसुकुमारस्य विषये सर्वैः श्रुतम्। सोऽपि स्वयौवनं रागं प्रति नेतुं समर्थः आसीत्। फलस्वरूपेण वरयात्रया सह वरो भूत्वा चलितुमारब्धवान्। विवाहोऽपि संपन्नोऽभवत्। परन्तु वरयात्रा गृहं प्रति न प्रत्यागच्छति, मार्गे एव सः एकं दिगम्बरमुनिराजं दृष्टवान्। सः मुनि अवधिज्ञान्यासीत्। अतो गजसुकुमारस्य अल्पवयो ज्ञात्वा तं संबोधितवान्। आत्मकल्याणाय तं प्रेरितवान्।
आत्मार्थिने तु एतावत् सम्बोधनमेव पर्याप्तमासीत्। गजसुकुमारो नवां बधूं मार्गे त्यक्त्वा तपोवनं गत्वा गुरुदेवेन मुनि-दीक्षां गृह्णाति। वरयात्रिणश्च स्वगृहाणि प्रापुः। वधूश्चान्दोलिकया स्वपितुर्गृहम्।
तस्याः कन्यायाः पितुः क्रोधः आकाशं स्पृशति। आश्चर्यं! मम पुत्र्या सार्धं एतावान् महान् अत्याचारः। सः क्रोधावेशात् ध्यानस्थं मुनिं गजसुकुमारं गच्छति-कथयति च-रे पापिन्! यदि तव ईदृशमेव कर्तुमिच्छासीत्, तु एकया कन्यया सह विवाहस्य नाटकं कथमरचयः। अधुना तु त्वमवश्यमेव गृहं गन्तुं परवशो भविष्यसि। यदा मुनिराट् किंचिन्नाभाषत। श्वसुरः अत्यधिकक्रु(ऽभवत्। अतः सः गजसुकुमारस्य मस्तकेऽङारिकामदहत्।
भयंकरोपसर्गं ज्ञात्वा सः मुनिराट् संसारस्य शरीरस्य भोगानां च अनित्यतां चिन्तयितुमारभत। शरीराच्चात्मानं पृथक्कर्तुमुपायेष्वेकाग्रचित्तोऽभवत्। इतश्च मस्तके अंगारिका ज्वलिताऽऽसीत् तत्र चात्मनः कर्माणि ज्वालितान्यासन्। अन्ते चोपसर्गे विजयं प्राप्य सः अन्तड्डत्-केवल्यभवत्।
पश्य! संसारस्य स्थितिं, यत्रैको जनस्त्यागस्यचरमे स्थितआसीत्, तत्रैवान्यः रागद्वेष्योश्चरमसीमनि स्थितो हिताहितस्य विवेकं लोपयन् मत्तः आसीत्। एकस्तु अमूल्यक्षणानां सदुपयोगमकरोत् गजसुकुमारः। या घटिका हस्तात् निष्क्राम्यति, लक्षाधिकप्रयत्नैरपि न प्रतिनिवर्तते। यथा हस्तात् क्षिप्तो वाणः मुखाच्च निर्गतावाणी न प्रतिनिवर्तते। तथैव व्यतीतोऽपि प्रातः प्रतिवर्तितुं न प्रभवति।
मानवजीवनस्य दुर्लभतायाश्चिन्तनेनैव संसारात् वैराग्यो जायते दीक्षायाश्च शुभपरिणामाः उत्पन्नाः भवन्ति। महता पुण्योदयेन यदा काऽपि महिला दीक्षायै अग्रेसरा भवति तु तस्याः प्रथमा परीक्षा केशलुंचनप्रक्रियामेव प्रारब्धा भवति।
तस्मिन् मण्डपे च गणिन्यार्यिकया अन्यार्यिकाभिश्च केशलुंचनस्य क्रिया सम्पाद्यते। तदा तस्याः अग्रे दीक्षायाः क्रियाः प्रारब्धाः भवन्ति।
केशलुंचनस्य पश्चात् सौभाग्यवत्यः स्त्रियः तां श्राविकां मंगलस्नानाय नयन्ति। तत्र च तैलउबटनआदीन् लिप्त्वा मंगलस्नानं कारयन्ति मात्रं एकां शाटिकां यतो हि अधुना जीवनपर्यन्तं एकैव शाटिका तव धारयितव्यास्ति, तां धारयित्वा मंगलगानं कुर्वन्त्यः महिलास्तां श्राविकां पुनः म´चमानयन्ति।
चारित्रचक्रवर्तिनः आचार्यशान्तिसागरस्य संघस्य परम्परानुसारेण दीक्षायाः पूर्वं मंचे सा श्राविका जिनेन्द्रभगवतः पंचामृतगभिषेकं पूजनं च करोति। पुनः श्रीफलं गृहीत्वा गुरोश्चरणयोः समस्तानां जनानां साक्षीपूर्वकं दीक्षायै निवेदनं करोति। याश्च भाषणप्रदान- स्याभ्यासवत्यः सन्ति, ताः मंचमवस्थाय दीक्षाया प्रार्थनाहेतववैराग्यभावयुक्तं किंचित् भाषणमपि कुर्वन्ति। स्वपरिवारजनान् प्राणिमात्रं च क्षमायाचनां कुर्वन्ति। सर्वान् प्रति आत्मनः क्षमाभावं प्रकटयन्ति।
गुरोः पुनः पुनः स्वीड्डतेरनन्तरं आचार्यो गणिनी वा सौभाग्यवतीभि महिलाभि पूरिते मंगलस्थाने दीक्षार्थिनीं महिलां पूर्वामुत्तरां वा दिशोन्मुखीं ड्डत्वोपवेशयन्ति। दीक्षप्रदाता आचार्यो गणिनी वा पूर्वं तां महिलां कथयति यत् त्वयाऽअस्माकं संघस्य मर्यादां पालयित्वा अनुशासने निवासः कर्तव्यः। एकाकिन्या विहारः न कर्तव्यः ख्यातिलाभपूजां च विचार्य स्वगुरोः परम्परा भंगा न कार्या इत्यादिविषयाणां स्वीड्डतिं प्राप्य दीक्षार्थिन्याः संस्काराः प्रारभ्यन्ते।
यदा च सा दीक्षार्थिनी महिला गुरोः सर्वां वार्तां स्वीकरोति तदा गुरुवर्यः स्वसंघस्थान् सर्वानेव साधून् दीक्षार्थिन्याश्च कुटुम्बिजनान्, तत्र च उपस्थितान् सर्वान् जनसमूहान् पृच्छति यत् किमस्यै दीक्षा प्रदातव्या? तदा सर्वे साधवोऽपि धर्मवृ(्या हर्षिताःभूत्वा सहर्षं स्वीड्डतिं प्रददति। श्रावकगणाः दीक्षार्थिन्याः कुटुम्बिनश्च दुःख मिश्रितेन हर्षपूर्वकं जय-जयकारध्वनिना सभां गुंजरितां ड्डत्वा स्वीड्डति प्रददति।
पुनः तत्र शास्त्रेषु वर्णितायाः दीक्षाया विधेरनुसारेण गणिन्या मात्रा दीक्षार्थिन्याः मस्तकं उष्णप्रासुकजलेन प्रक्षालितं भवति, पुनः मस्तके बीजाक्षराणि विलिख्य पीततन्दुलैः लवंगैश्च मंत्राणामारोपणं क्रियते। तस्याः हस्ते च बीजाक्षरं विलिख्य द्वयोश्च हस्तयोः अंजुल्यां तन्दुलानि पूरयित्वा तयोश्च श्रीफलादीनि मंगलद्रव्याणि निक्षिप्य पुनस्तस्यै अष्टाविंशतिर्मूलगुणाः प्रदीयन्ते।
कुत्रचित् व्यवस्थापकगणः नवीनायै दीक्षितायै प्रदानहेतवे पिच्छिकाकमण्डलुशास्त्रादीनां विशेषविधिना व्यक्तिचयनं करोति। स्वगुरुपरम्परानुसारेण मंत्रान् पठित्वा गणिनी स्वयं संयमस्योपकरणं मयूरस्य पक्षाणां पिच्छिकां शौचाय चोपकरणभूतं नारिकेलस्य कमण्डलुं ज्ञानस्य चोपकरणं शास्त्रं प्रददाति। शिष्यापि विनयपूर्वकं द्वाभ्यां हस्ताभ्यां पिच्छिकां प्राप्नोति, वामेन हस्तेन च कमण्डलुं द्वाभ्यां हस्ताभ्यां च शास्त्रं गृह्णाति।
एतैः संस्कारै सह गुरुणा तस्याः नवदीक्षितायाः नवीनं नामकरणं क्रियते। तदैव नवीननामधारिण्याः आर्यिकामातुः जयकारैः मण्डपं गुंजायमानं भवति। समस्तैः वेशभूषाणां क्रियाणां च परिवर्तनेन सह नाम्ना अपि परिवर्तनेन अधुना सा पूर्णरुपेण नवीनजीवने प्रवेशं करोति।
नवदीक्षिता आर्यिका सर्वप्रथमं भक्तिपूर्वकं दीक्षागुरुं नमोऽस्तु-वन्दामि ड्डत्वा अन्यसाधु- साध्वीभ्यो नमोऽस्तु-वन्दामि ड्डत्वा नमस्कारं करोति। साधु श्रेण्यां प्रवेशं कुर्वन्त्या।
तां नवदीक्षिताऽर्यिकां कतिपयः दम्पतयः श्रीफलादिकं समप्र्य ‘वन्दामि’ इत्युच्चार्य नमस्कुर्वन्ति।
एतच्च विशेषरूपेण ज्ञातव्यमस्ति, यत् दीक्षायाः दिने तस्याः दीक्षार्थिन्याः महिलायाः उपवासो भवति। द्वितीयदिने आहाराय गणिन्याः आर्यिकायाः पृष्ठभागे श्रावकाणां गृहेषु आहारहेतवे गच्छति। तत्र च श्रावकाः विधिपूर्वकं आह्वानं ड्डत्वा नवधाभक्त्या आहारदानं प्रदाय स्वजन्म सफलं कुर्वन्ति।
येन प्रकारेण मूलं विना वृक्षो न तिष्ठिति, मूलभित्तिं विना भवनं न निर्माप्यते, तेनैव प्रकारेण मूलं-प्रधानाचरणं विना श्रावकसाध्व्योश्च द्वयोरेव सार्थकता न भवति। अत्र आर्यिकाणां चर्याणां प्रकरणमस्ति, अतस्तासामेव मूलगुणानां कथनं क्रियते।
मुख्यतया मुनीनां मूलगुणाः अष्टाविंशतिर्भवन्ति। यथा च प्रतिक्रमण पाठे स्थाने-स्थाने कथनं लभ्यते।
वदसमिदिंदिय रोधो, लोचो आवासयमचेलमण्हाणंं।
खिदिसयणमदंतवणं, ठिदिभोयणमेगभत्तं च।।
एदे खलु मूलगुणा, समणाणं जिणवरेहिं पण्णत्ता।।
एत्थ पमादकदादो, अइचारादो णियत्तो हं।।
प´च महाव्रतानि, पंच समितयः, पंचेन्द्रियनिरोधः, षट् आवश्यकक्रिया, लुंचनं, आचेलत्वं, अस्नानं, क्षितिशयनं, अदन्तधावनं, स्थितिभोजनं एकभक्तं च एतानि अष्टाविंशति मुलणुणानां नामानि सन्ति। एतान् तीर्थंकरादयोऽपि महापुरुषाः मुन्यवस्थायां पालयन्ति। यतो हि एतानि महान्ति सन्ति अतः तानि महाव्रतानि कथ्यन्ते।
एतेषां मूलगुणानां नामानि लक्षणानि चात्र प्रस्तुतानि सन्ति।
1 अहिंसामहाव्रतम्- पृथिवीजलअग्निवायुवनस्पतयः त्रसाश्च एते षट्कायाः सन्तिः। एतेषां षट्कायजीवानां हिंसायाः मनसा, वचसा, कर्मणा पूर्णतया परित्यागः अहिंसामहाव्रतमस्ति। एतस्य महाव्रतस्य धारिणः सम्पूर्णआरम्भपरिग्रहरहिताः दिगम्बरमुनयो भवन्ति, एकशाटिकामात्र परिग्रहवत्यः आर्यिकाः भवन्ति।
2 सत्यमहाव्रतम्-रागद्वेषमोहक्रोधादिदोषैः पूर्णानां वचनानां त्यागः। ईदृशं च सत्यमपि न वक्तव्यं येन प्राणिनां घातो भवति। तत् सत्यं महाव्रतमस्ति।
3 अचैर्यमहाव्रतम्-ग्रामनगरादिके कस्यापि विस्मृतस्य प्रक्षिप्तस्य पतितस्य वा वस्तुनः स्वयं न ग्रहणं, अन्येषां च संगृहीतशिष्यपुस्तकादीनि च न ग्रहणं अदत्तानि च योग्यवस्तू- नामचैर्यमहाव्रतमस्ति।
4 ब्रह्मचर्यमहाव्रतम्- रागभावं त्यक्त्वा पूर्णब्रह्मचर्येण सह स्थितिः, बालिकायुवतीवृ(सु स्वपुत्रीभगिनी माता वत् भावधारणं त्रेलोक्यपूज्यं ब्रह्मचर्यमहाव्रतमस्ति।
5 परिग्रहत्यागमहाव्रतम्-धनधान्यादिदशप्रकाराणां बहिरंगानां मिथ्यात्वादिकानां च चतुर्दशप्रकाराणां अन्तरंगपरिग्रहाणां त्यागः, वस्त्राभूषणालंकारादीनां च पूर्णतया त्यागः कौपीनमात्रमपि न धारणमपरिग्रह महाव्रतमस्ति। आर्यिकाभ्यः द्वे शाटिके रक्षणस्य विधानमेव तासां मूलगुणो भवति।
आगमे कथितानुसारेण गमनागमने भाषणादिकेषु च सम्यक् प्रवृत्तिः समितिरस्ति। समितेरपि पंचभेदा सन्ति। ईर्याभाषैषणादाननिक्षेपणमुत्सर्गाश्च।
6 ईर्यासमितिः-जन्तुरहितेन मार्गेण सूर्योदये प्राप्ते चतुरः हस्तान् भूमिं दृष्ट्वा एकाग्रचित्तेन तीर्थयात्रागुरुवन्दनादिधर्मकार्येभ्यः गमनं ईर्यासमितिरस्ति।
7 भाषासमितिः-पैशून्यहास्यपूर्णकर्कशपरनिन्दाआदिभि रहितानां हितमितप्रिय वचनानां भाषणं भाषासमितिरस्ति।
8 एषणा समितिः-षट्चत्वारिंशद्दोषरहितस्य द्वाविशंतिअन्तराय रहितस्य नवकोटि- शु(स्य श्रावकेण प्रदत्त आहारस्य ग्रहणं एषणासमितिरस्ति।
9 आदाननिक्षेपणसमितिः-पुस्तककमण्डल्वादीनांनिक्षेपणस्योत्थानस्य समये कोमलमयूरपिच्छिकया परिमार्जनं ड्डत्वा निक्षेपः उन्निक्षेपश्च तृणग्रासविस्तरणपट्टादिकानि वस्तूनि सावधानतया दृष्ट्वा पिच्छिकया परिमार्जनं ड्डत्वा ग्रहणं, निक्षेपणं च आदाननिक्षेपण समितिर्विद्यते।
10 उत्सर्गसमितिः-हरिततृणपिपीलिकादिरहिते प्रासुके स्थाने मलमूत्रादीनां विसर्जनं एषा उत्सर्गप्रतिष्ठापनसमितिरस्ति।
स्पर्शरसनादिपंचेन्द्रियाणां स्ववशीकरणं एतानि च शुभध्याने लग्नानि करणं पंचेन्द्रिय- निरोधोऽस्ति। तेषां पंचेन्द्रियापेक्षया पंचभेदाः सन्ति।
11 स्पर्शनेन्द्रियनिरोधः-सुखदायके कोमलस्पर्शादिके कठोरे भूम्यादीनां स्पर्शे च आनन्दस्य खेदस्यः प्रवृत्तिः न भवितव्या।
12 रसनेन्द्रियनिरोधः-रसे मधुरे च भोजने हर्षस्य नीरसशुष्के च भोजने विषादस्य त्यागः।
13 घ्राणेन्द्रियनिरोधः-सुगन्धिते पदार्थे दुर्गन्धिते वा रागद्वेषयोः परित्यागः।
14 चक्षुरिन्द्रियनिरोधः- स्त्रीणां सुन्दररूपे, विड्डतवेशे वा रागद्वेषभावस्य त्यागः।
15 कर्णेन्द्रियनिरोधः- सुन्दरे गीते, वाद्ये, असुन्दरे च निन्दापैशून्यादिषु हर्षविषादयोस्त्यागः। मधुरगीतेषु रागभावस्य त्यागः।
यत् अवश्यं जितेन्द्रिय मुनेः कर्तव्यमस्ति, तद् आवश्यक भवति। तस्य षड्भेदाः सन्ति। समता स्तुतिः वन्दना, प्रतिक्रमणं प्रत्याख्यानं कायोत्सर्गश्च।
16 समता-जीवनमरणयोः लाभअलाभयोः सुखदुःखयोः हर्ष विषादयोर्न करणं समानभावधारणं समतास्ति। अस्या एव नाम सामायिकमस्ति। त्रिकालेषु क्रियमाणा देववंदना एव सामायिक व्रतं स्यात्। प्रातः मध्याह्ने सायंकाले च न्यूनातिन्यूनं मुहूर्तमेकं मुहूर्तं 48 मिनट पर्यन्तं सामायिकं भवति।
17 स्तुतिः-वृषभादिचतुर्विंशतितीर्थंकराणां स्तुतिकरणं, स्तुतिनामकं आवश्यकं वर्तते।
18 वन्दना-अर्हतां, सि(ानां तेषां प्रतिमानां, जिनवाण्याः गुरुणां च कृतिकर्मपूर्वकं वन्दनाकरणं वन्दना नाम आवश्यकमस्ति।
19 प्रतिक्रमणं-अहिंसादिव्रतेषु येऽतिचाराः जायन्ते तेषां निन्दागर्हापूर्वकं शोधनं-दूरीकरणं प्रतिक्रमणमस्ति। एतेषां प्रतिक्रमणानामपि सप्तभेदाः सन्ति। ऐर्यापथिकः, दैवसिकः, रात्रिकः पाक्षिकः चातुर्मासिकः सांवत्सरिकः उत्तमार्थश्च।
गमनागमनेन समुद्भूतानां दोषाणां दूरीकर्तुं ‘पडिक्कामि भंते! इरियावहियाए विराहणाए’ इत्यादि दण्डकानामुच्चारणं ड्डत्वा कायोत्सर्गकरणं ऐर्यापथिकः अस्ति। दिवससम्बन्धिनः दोषान् दूरीकर्तंु सायंकाले ‘जीवे प्रमाद जनिता’ इत्यादिपाठकरणं दैवसिकोऽस्ति। रात्रिसम्बन्धिनः दोषान्निराकर्तुं रात्र्याः अन्ते प्रतिक्रमणकरणं रात्रिकः, प्रत्येक मासस्य चतुर्दश्यां पूर्णिमायां अमावस्यायां च पाक्षिकः, कार्तिकफाल्गुनमासस्यान्ते करणं चातुर्मासिकः, आषाढ़स्य अन्तिमचतुर्दश्यां पूर्णिमायां वा करणं सांवत्सरिकः मरणकाले च करणं उत्तमार्थं प्रतिक्रमणं विद्यते।
20 प्रत्याख्यानम्- मनसा वचसा कायेन च भविष्यदोषाणां परित्यागः प्रत्याख्यानमस्ति। आहारग्रहणानन्तरं गुरोः समीपे अग्रिमदिनस्य आहारग्रहणपर्यन्तं चतुराहारस्य त्यागः क्रियते, तत् प्रत्याख्यानं कथ्यते।
21 कायोत्सर्गः-दैवसिकरात्रिकादिक्रियासु प´चविंशतिः सप्तविंशतिर्वा उच्छ्वास प्रमाणेन चतुःपंचाशत् अष्टोपरिशतोच्छ्वासपूर्वकं णमोकारमंत्रस्य स्मरणम्। काय-शरीरात् उत्सर्गः-ममत्वत्यागः कायोत्सर्गो भवति।
अत्र पर्यन्तं एकविंशतिर्मूलगुणाः अभवन्, अधुना शेषान् सप्तगुणान् स्पष्टीक्रियते।
22 ;1 लंंुचनम्-स्वहस्ताभ्यां स्वशिरसः श्मश्रुकेशानामुत्खातनं केशलंुचनं मूलगुणोऽस्ति केशेषु यूकादिजीवोत्पादनेन हिंसा भविष्यति तान् वा संस्कारितान् कर्तुं तैलादीनां आवश्यकता भविष्यति यश्च साधुपदाय विरु(मस्ति अतः दीनतायाचनपरिग्रहअपमानादिदोषेभ्यः स्वात्मानं रक्षणार्थं इयं क्रिया विद्यते। लुंचनस्य दिने उपवासो भवति। लुंचन कर्तुं कारयितुं वा समये मौनमाश्रियते।
एतस्य उत्तममध्यमजघन्यरूपेण त्रयो भेदाः सन्ति। द्वयोर्मासयोः पूर्णतायां उत्तमं, त्रिसु मासेषु मध्यमं, चतुर्मासानां च पूर्णतायां जघन्यलुंचनं भवति। चतुर्मासादुपरिकाले साधुः प्रायश्चित्तस्य भागी भवति।
23 ;2 अचेलकत्वम्-सूत्रनिर्मितवस्त्राणां पत्राणां बल्कलानां च परित्यागः नग्न वेशधारणं अचेलकत्वमस्ति। एतच्च महापुरुषैरेव स्वीक्रियते। त्रिषु जगत्सु वन्दनीयं महत्पदमस्ति। वस्त्रणां ग्रहणकरणेन परिग्रहः आरम्भः क्षालनं शोषणं याचनं च आदिदोषाः भवन्ति। अतएव निष्परिग्रहिणः साधोरिदं व्रतं भवति।
24 ;3 अस्नानव्रतम्-स्नानं उद्वर्तनादिभिःरूपशरीरस्य संस्काराणां त्यागः अस्नानव्रतमस्ति। धूलिना धूसरितः मलिनशरीरधारी मुनिः कर्ममलं प्रक्षालयति। चाण्डालादिअस्पृश्यजन- अस्थिचर्मविष्टादीनां स्पर्शेनं ते मुनयः दण्डस्नानं ड्डत्वा गुरुणा प्रायश्चित्तं गृह्णान्ति।
25 ;4 भूमिशयनम्-जन्तुरहितायां भूमौ ग्रासे कटे पट्टे वा शयनं भूमिशयनव्रतमस्ति। ध्यानेन स्वाध्यायेन वा गमनागमनेन वा उत्पन्नां श्रान्तिं दूरीकर्तुं स्वल्पनिद्रायाः विधानमस्ति।
26 ;5 अदन्तधावनम्-निम्बस्य दण्डेन ‘ब्रश’आदिना दन्तधावन परित्यागः। दन्तानां अघर्षणेन इन्द्रियसंयमो भवति। शरीरात् विरागता च प्रकटीभवति। सर्वज्ञदेवस्य आज्ञापालनं च भवति।
27 ;6 स्थितिभोजनम्-अवस्थाय स्वहस्तयोरंजुलिं ड्डत्वा श्रावकेण दत्तस्य आहारस्य ग्रहणं स्थितिभोजनमस्ति। आर्यिका उपविश्य करपात्रे भोजनं गृह्णाति।
28 ;7 एकभक्तम्-सूर्योदयानन्तरं त्रिघटिकायाः पश्चात् सूर्यास्तस्य त्रिघटिकापूर्वं दिने सामायिककालस्य )ते कदापि एकाबारं आहारग्रहणं एकभक्तमस्ति। आधुनिककाले प्रायः नववादनतः एकादशवादनपर्यन्तं साधुजनाः आहारार्थ गच्छन्ति। कदाचित् एकवादनेऽपि गन्तुं शक्नुवन्ति। दिने एकदैव आहाराय गन्तव्यम्। अलाभे पुनः आहारार्थं न गन्तव्यम्।
आर्यिकाणामेतेऽष्टाविंशतिमूलगुणाः केन प्रकारेण भवन्ति? अस्य प्रश्नस्य उत्तरं परमपूज्यया गाणिन्या आर्यिकारत्नज्ञानमत्या मात्रा लिखितपुस्तके ‘आर्यिका’ नाम्न्यामस्ति। यथा-
प्रायश्चित्तग्रन्थे आर्यिकाभ्यः आज्ञा प्रदत्ताऽस्ति यत् आर्यिकाः धारणाय द्वे शाटिके गृण्हन्तु। एताभ्यां द्विवस्त्राभ्यां अतिरिक्तं तृतीयवस्त्रं ताभ्यः प्रायश्चित्तमस्ति।
एतयोद्र्वयोर्वस्त्रयोऽभिप्रायोऽस्ति यत् द्वे शाटिके षोडशहस्तानां भवतः। एकदा एकैव धारणीया विद्यते, द्वितीयां च क्षालयित्वा शोषयन्ति। या च द्वितीयदिवसे परिवर्तिता भवति। षोडशहस्तानां शाटिका विषये आगमे कुत्राापि वर्णनं न प्राप्यते। मात्रं गुरुपरम्परायैषा व्यवस्था संचाल्यते। आगमे तु द्विशाटिकामात्रस्योपदेशोऽस्ति।
चारित्रचक्रवर्तिनः आचार्यशान्तिसागरस्य प्रथमपट्टशिष्यो ;यः मातुः ज्ञानमत्यां दीक्षागुरुरस्तिद्ध आचार्यो वीरसागरो कथयति यत् द्वे शाटिके मात्र रक्षणेन आर्यिकायाः ‘‘अचेलकत्वनामको’’ मूलगुणो न्यूनं न भवति, किन्तु ताभ्यः आगमस्य आज्ञया एषः एव मूलगुणोऽस्ति। बाढं, तृतीया शाटिका यदि काचिदार्यिका रक्षति तु तस्याः मूलगुणे दोषोऽवश्यमेव जायते। एवमेव ‘स्थितिभोजन’ मुलगुणे मुनिस्तु भोजनं अवस्थाय एव गृह्णाति आर्यिकाश्च उपविश्य भोजनं गृह्णन्ति, अयमपि शास्त्रस्य आज्ञायाः विधानेन तासां मूलगुण एवास्ति। यदि कापि आर्यिका आगमाज्ञायाः उल्लंघनं ड्डत्वा अवस्थाय आहारं गृह्णाति तु अवश्यमेव तस्याः मुलगुणो भंगो भवति। अतएव ताभ्योऽपि अष्टाविंशतिमूलगुणमान्यतायां कापि बाधा नास्ति। एतदेव कारणमस्ति यत् आर्यिकाभ्यः उपचारात् महाव्रती संज्ञा दीयते।
आर्यिकाः शाटिकामात्रं परिग्रहधारणं ड्डत्वापि कौपीनअल्पपरिग्रहधारकेण ऐलकेन पूज्यास्ति।


हरिवंशपुराण पृष्ठ १८३ पर प्रकरण है-

ब्राह्मी च सुन्दरी चोभे कुमार्यौ धैर्य संगते।

प्रव्रज्य बहुनारीभिरार्याणां प्रभुतां गते।

अर्थात् ब्राह्मी-सुन्दरी दोनों कन्याओं ने प्रभु आदिनाथ के समवसरण में आर्यिका दीक्षा धारण की थी और ब्राह्मी आर्यिका समस्त आर्यिकाओं में गणिनी-स्वामिनी थीं।

इस युग की प्रथम आर्यिका ने भगवान के समवसरण में दीक्षा ली थी उसके पश्चात् महिलाओं के लिए गणिनी से दीक्षा प्राप्त करने के अनेकों उदाहरण देखे जाते हैं-आदिपुराण द्वितीय भाग में पृ. ५०३ पर आया है-

‘‘भरत के सेनापति जयकुमार की दीक्षा के बाद सुलोचना ने भी ब्राह्मी आर्यिका के पास दीक्षा धारण कर ली।’’ अन्यत्र हरिवंश पुराण में भी कहा है-

‘‘दुष्ट संसार के स्वभाव को जानने वाली सुलोचना ने अपनी सपत्नियों के साथ श्वेत साड़ी धारणकर ब्राह्मी तथा सुन्दरी के पास दीक्षा धारण कर ली।’’ इसके साथ हरिवंशपुराण में आर्यिका सुलोचना को ग्यारह अंग की धारिणी भी माना है। कुबेरमित्र की स्त्री धनवती ने संघ की स्वामिनी आर्यिका जिनमति के पास दीक्षा धारण कर ली और उन यशस्वती तथा गुणवती र्आियकाओं की माता कुबेरसेना ने भी अपनी पुत्री के समीप दीक्षा ले ली।

पद्मपुराण में भी वर्णन आता है-

‘‘रावण के मरने के बाद मंदोदरी ने शशिकांता आर्यिका के मनोहारी वचनों से प्रबोध को प्राप्त हो उत्कृष्ट संवेग और उत्तम गुणों को प्राप्त होती हुर्ई, गृहस्थ की वेशभूषा को छोड़कर, श्वेत साड़ी से आवृत हुई आर्यिका हो गई। उस समय अड़तालिस हजार स्त्रियों ने संयम धारण किया था, इन्हीं में रावण की बहन, जो कि खरदूषण की पत्नी थी, उस चन्द्रनखा (सूर्पणखा) ने भी दीक्षा ले ली थी।

माता कैकेयी भरत की दीक्षा के बाद विरक्तमना एक सफेद साड़ी से युक्त होकर तीन सौ स्त्रियों के साथ ‘पृथ्वीमती’ आर्यिका के पास दीक्षित हो गई थीं।

अग्नि परीक्षा के पश्चात् रामचन्द्र ने सीता से घर चलने को कहा, तब सीता ने कहा कि अब मैं ‘‘जैनेश्वरी आर्यिका दीक्षा धारण करूँगी’’, वहीं केशलोंच करके पुन: शीघ्र जाकर पृथ्वीमती आर्यिका के पास दीक्षित हो गर्इं।

उनके बारे में लिखा है कि सीताजी वस्त्रमात्र परिग्रहधारिणी महाव्रतों से पवित्र अंग वाली महासंवेग को प्राप्त थीं। इसी प्रकार से पद्मपुराण में श्री रविषेणाचार्य कहते हैं-

हनुमान जी की दीक्षा के पश्चात् उसी समय शीलरूपी आभूषणों को धारण करने वाली राजस्त्रियों ने ‘बंधुमती’ आर्यिका के पास दीक्षा ले ली।

श्री रामचन्द्र के मुनि बनने के बाद सत्ताईस हजार प्रमुख स्त्रियाँ ‘‘श्रीमती’’ नामकी आर्यिका के पास दीक्षित हुर्इं। हरिवंश पुराण में राजुल के विषय में बताया है-

षट्सहस्रनृपस्त्रीभि: सह राजीमती सदा।

प्रव्रज्याग्रेसरी जाता सार्यिकाणां गणस्य तु।।१४६।।

छह हजार रानियों के साथ राजीमती भगवान् नेमिनाथ के समवसरण में आर्यिका दीक्षा लेकर आर्यिकाओं में प्रधान गणिनी हो गर्इं।

हरिवंशपुराण में ही आगे-

राजा चेटक की पुत्री चंदना कुमारी, एक श्वेत साड़ी धारण कर भगवान महावीर के समवसरण में आर्यिकाओं में प्रमुख हो गर्इं। राजा श्रेणिक की मृत्यु के पश्चात् रानी चेलना गणिनी आर्यिका चंदना के पास दीक्षित हो गर्इं जो कि चंदना की बड़ी बहन थीं। ऐसा उत्तरपुराण में कथन आया है तथा-

गुणरूपी आभूषण को धारण करने वाली कुन्ती, सुभद्रा तथा द्रौपदी ने भी राजीमती गणिनी के पास उत्कृष्ट दीक्षा ले ली थी और भी पुराणों में कितने ही उदाहरण हैं जिनसे स्पष्ट होता है कि एक प्रमुख गणिनी आर्यिका समवसरण में तीर्थंकर की साक्षीपूर्वक दीक्षित होकर अन्य आर्यिकाओं को दीक्षा प्रदान करती थीं।

आज भी गणिनी आर्यिकाओं के द्वारा आर्यिका, क्षुल्लिका की दीक्षाएँ प्रदान की जाती हैं, यह प्रसन्नता की बात है। इसी शृँखला में वर्तमान की सर्वाधिक प्राचीन दीक्षित परमपूज्य गणिनी आर्यिकारत्न श्री ज्ञानमती माताजी के करकमलों द्वारा मुझे भी आर्यिका चन्दनामती बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है।

वर्तमान युग में आचार्य और गणिनी दोनों के द्वारा महिलाओं की आर्यिका, क्षुल्लिका दीक्षा की परम्परा चली आ रही है अत: स्वेच्छा से वैराग्यशालिनी महिला जिनके श्रीचरणों में दीक्षा की याचना करती है, वे जिम्मेदारीपूर्वक दीक्षा देकर अनुग्रह आदि करते हुए उसे नवजीवन में प्रवेश कराते हैं।

दीक्षा दिवस से पूर्व तक उसे श्राविका के समस्त कर्तव्य पालन करने होते हैं। जैसे-जिनेन्द्र पूजा-विधान, उत्तम आदि पात्रों को शक्ति अनुसार चतुर्विध दान देकर अपने मन को पवित्र बनाती है।

दीक्षा के शुभ मुहूर्त के अवसर पर दीक्षार्थी बहन की शोभायात्रा निकाली जाती है जिसमें उसके परिवार जनों को अपने अरमान पूरे करने का सौभाग्य प्राप्त होता है यदि दीक्षार्थिनी कुंआरी या सौभाग्यवती है, तो मेंहदी रचाना आदि भी होता है। यह भी एक मंगल अवसर होता है क्योंकि उसे तो पूर्णरूप से नवजीवन में प्रवेश करना होता है।

दीक्षा का दृश्य अपने आप में एक रोमांचक दृश्य होता है। आपकी पुत्री का विवाह अपने घर के छोटे से मंडप में हो जाता है और दीक्षा का महानकार्य विशाल मंडप में सम्पन्न होता है, जहाँ एक परिवार को छोड़कर ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ अर्थात् सारे संसार को अपना कुटुम्ब समझा जाता है परन्तु वास्तविकता तो यह है कि न एक परिवार अपना है और न ही समस्त संसार अपना हो सकता है, अपना तो केवल आत्मा है, उसे पाने के लिए ही दीक्षा धारण की जाती है। जैसा कि कुन्दकुन्द स्वामी ने कहा है-

आदहिदं कादव्वं जइ सक्कइ परहिदं च कादव्वं।........इत्यादि

आत्महित की प्रमुखता से ही दीक्षा लेना सर्वोत्तम कार्य है, परहित उसके साथ हो जावे तो ठीक है किन्तु मात्र परहित का ही लक्ष्य रखना आत्महित में बाधक हो सकता है।

शोभायात्रा के पश्चात् सभामंडप में पूर्वमुख या उत्तरमुख उसे बैठाकर गणिनी आर्यिका सर्वप्रथम केशलोंच प्रतिष्ठापन में सिद्ध भक्ति, योगभक्ति पढ़कर दीक्षार्थी बहन का केशलोंच प्रारंभ कर देती हैं।

देखते ही देखते सभामंडप में असीम वैराग्य का दृश्य उपस्थित हो जाता है। कई बार देखने में आता है कि वह बहन स्वयं भी वीरतापूर्वक अपना केशलोंच करती है।

वह ममता, जिसने बालिका को दुग्धपान के साथ अपने आंचल की छांव दी थी, वे कलाइयाँ, जिन्होंने सदा बहन के रक्षासूत्र को अंगीकार किया था, वह गोद, जिसने कन्या रत्न को झूले की भांति झुलाया था, वह स्नेहिल परिवार, जिसने सदैव उसके सुख-दुख में हाथ बंटाया था, सभी उस क्षण वैराग्य की मोहिनी मुद्रा के प्रति नतमस्तक हो जाते हैं तथा कोई-कोई चिरकालीन मोहवश अश्रुधारा से अपना मलिन हृदय भी निर्मल करते हैं।

दुल्हन को लिए बारात चली, बारात न वापस आती है।

जो प्रात गई सो प्रात गई, वह प्रात न वापस आती है।।

मानव जीवन का प्रत्येक क्षण अत्यन्त अमूल्य होता है अत: उन क्षणों का सदुपयोग करना उसका कर्तव्य है। देखते ही देखते बाल्यावस्था, युवावस्था और वृद्धावस्था तीनों समयों को बिताकर व्यक्ति कालकवलित हो जाता है और आत्मा की ओर उसकी दृष्टि ही नहीं जाती है।

आपने सुना होगा गजकुमार मुनिराज के बारे में।वे भी अपने यौवन को राग की ओर ले जा रहे थे। फलस्वरूप बारात लेकर दूल्हा बनकर चल पड़े थे। विवाह भी हो गया किन्तु बारात घर तक वापस नहीं आ पाती है, रास्ते में ही उनको एक दिगम्बर मुनिराज के दर्शन हो जाते हैं। वे मुनिराज अवधिज्ञानी थे अत: गजकुमार की अल्पायु जानकर उसे सम्बोधित किया, आत्मकल्याण हेतु प्रेरणा प्रदान की।

आत्मार्थी को तो इतना संबोधन ही काफी था। गजकुमार अपनी नई-नवेली दुल्हन को रास्ते में ही छोड़कर तपोवन में जाकर गुरुदेव से मुनि दीक्षा ग्रहण कर लेते हैं । बाराती अपने घर चले जाते हैं और दुल्हन की डोली अपने पिता के घर।

उस कन्या के पिता का क्रोध सातवें आसमान पर चढ़ जाता है। ओह! मेरी बेटी के साथ इतना बड़ा अन्याय! वे क्रोधावेश में ध्यानस्थ मुनिराज गजकुमार के पास पहुँचते हैं और कहते हैं-अरे ढोंंगी! यदि तुझे यही करना था, तो एक कन्या के साथ शादी का नाटक क्यों रचा था? अब तो तुझे घर चलना ही पड़ेगा। जब मुनिराज कुछ न बोले तो ससुर जी को और भी गुस्सा आया अत: उन्होंने गजकुमार मुनि के मस्तक पर अंगीठी जला दी।

भयंकर अग्नि का उपसर्ग जानकर वे मुनिराज संसार-शरीर-भोगों की असारता का चिंतवन करने लगे और शरीर से आत्मा को पृथक् करने के उपाय में एकाग्रचित्त हो गए। इधर मस्तक पर अंगीठी जल रही थी और उधर आत्मा के कर्म जल रहे थे। अन्त में उपसर्ग पर विजय प्राप्त कर वे अंतकृत केवली हो गये।

देखो! संसार की स्थिति, जहाँ एक व्यक्ति त्याग की चरम सीमा पर स्थित था, वहीं दूसरा राग-द्वेष की चरमसीमा पर खड़ा हिताहित का विवेक भी खो बैठा था। जीवन के अमूल्य क्षणों का सदुपयोग किया था-गजकुमार ने। जो घड़ी हाथ से निकल जाती है, वह लाख प्रयास के बावजूद भी वापस नहीं आती। जैसे हाथ से निकला बाण और मुंह से निकली बात वापस नहीं आती है, उसी प्रकार बीती हुई प्रात भी वापस नहीं लाई जा सकती है।

मानव जीवन की दुर्लभता का चिंतन करने पर ही संसार से वैराग्य होता है और दीक्षा के शुभ परिणाम उत्पन्न होते हैं। महान पुण्योदय से जब कोई महिला दीक्षा के लिए अग्रसर होती है, तब उसकी सर्वप्रथम परीक्षा केशलोंच की क्रिया से प्रारंभ होती है।

जब पांडाल में गणिनी आर्यिका एवं अन्य आर्यिकाओं के द्वारा केशलुंचन सम्पन्न कर दिया जाता है, तभी उसके आगे दीक्षा की क्रिया प्रारंभ होती है।

केशलोंच के पश्चात् उस श्राविका को सौभाग्यवती महिलाएँ मंगल स्नान के लिए ले जाती हैं जहाँ तेल, उबटन आदि लगाकर मंगल स्नान कराकर मात्र एक साड़ी, जैसा कि उन्हें अब जीवन भर एक साड़ी ही धारण करनी है, उसे पहनाकर पुन: मंगल गीत गाती हुर्इं महिलाएँ उस श्राविका को पुन: स्टेज पर लाती हैं।

चारित्रचक्रवर्ती आचार्य श्री शांतिसागर महाराज की संघ परम्परानुसार दीक्षा से पूर्व मंच पर वह श्राविका जिनेन्द्र भगवान का पंचामृत अभिषेक पूजन करती है पुन: श्रीफल लेकर गुरु चरणों में समस्त जनता की साक्षीपूर्वक दीक्षा के लिए निवेदन करती है। जिन्हें भाषण देने का अभ्यास होता है, वे मंच पर खड़ी होकर दीक्षा की प्रार्थना हेतु वैराग्य भावों से युक्त कुछ भाषण भी करती हैं और अपने परिवारजनों एवं प्राणिमात्र से क्षमायाचना करती हुई सभी के प्रति स्वयं का क्षमाभाव भी प्रगट करती हैं।

गुरु की पुन: पुन: स्वीकृति प्राप्त होने के पश्चात् वे आचार्य अथवा गणिनी सौभाग्यवती महिलाओं के द्वारा पूरे गए मंगल चौक पर दीक्षार्थी महिला को पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुख करके बैठा देते हैं। दीक्षा प्रदान करने वाली गणिनी आर्यिका अथवा आचार्य पहले उस दीक्षार्थी से कहते हैं कि तुम्हें हमारे संघ की मर्यादा और अनुशासन में रहना होगा, एकाकी विहार नहीं करना एवं ख्याति, लाभ, पूजा में पड़कर अपनी गुरु परम्परा को नहीं तोड़ना इत्यादि बातें मंजूर कराकर दीक्षा के संस्कार प्रारंभ कर दिये जाते हैं।

जब वह दीक्षार्थी महिला गुरु की सभी बातों को स्वीकार कर लेती है, तब गुरुवर्य अपने संघस्थ सभी साधुओं से, दीक्षार्थी के कुटुम्बियों से एवं वहाँ पर उपस्थित समस्त जनसमूह से पूछते हैं कि क्या इसे दीक्षा दी जावे? तब सभी साधुवर्ग भी धर्मवृद्धि से हर्षितमना होते हुए सहर्ष स्वीकृति देते हैं और श्रावकगण व दीक्षार्थी के कुटुम्बीवर्ग भी दु:खमिश्रित हर्षपूर्वक जय-जयकार की ध्वनि से सभा को गुंजायमान करते हुए स्वीकृति देते हैं।

बस फिर क्या है, शास्त्रों में वर्णित दीक्षा विधि के अनुसार गणिनी माताजी के द्वारा दीक्षार्थी का मस्तक गरम प्रासुक जल से प्रक्षालित किया जाता है पुन: मस्तक पर बीजाक्षर लिखकर पीले तंदुल और लवंग से मंत्रों का आरोपण किया जाता है। उसके हाथ में बीजाक्षर लिखकर तथा दोनों हाथों की अंजुलि में तंदुल भरकर उसमें श्रीफल आदि मंगल द्रव्य रखकर पुन: उन्हें अट्ठाईस मूलगुण प्रदान किये जाते हैं।

कहीं-कहीं व्यवस्थापकगण नवीन दीक्षिता को प्रदान करने हेतु पिच्छी, कमण्डलु, शास्त्र आदि की बोलियाँ करते हैं पुन: अपनी गुरु परम्परानुसार गुर्वावली को पढ़कर मंत्रों द्वारा गणिनी स्वयं संयम का उपकरण मयूर पंख की पिच्छिका, शौच के लिए उपकरण स्वरूप नारियल का कमंडलु और ज्ञान का उपकरण शास्त्र प्रदान करती हैं। शिष्या भी विनयपूर्वक दोनों हाथों से पिच्छिका को प्राप्त करती है, बाएँ हाथ से कमंडलु को और दोनों हाथों से शास्त्र को ग्रहण करती है।

इन्हीं संस्कारों के साथ ही गुरुद्वारा उस नवदीक्षिता का नवीन नामकरण भी किया जाता है, तभी नये नाम वाली आर्यिका माताजी की जयकारों से पंडाल गूंजने लगता है। सारी वेशभूषा और क्रियाओं के परिवर्तन के साथ ही नाम भी परिवर्तित हो जाने से अब वह पूर्ण रूप से नवजीवन में प्रवेश कर जाती है।

पुन: नवदीक्षिता आर्यिका सर्वप्रथम भक्तिपूर्वक दीक्षागुरु को नमोऽस्तु-वंदामि करके अन्य साधु-साध्वियों को नमोऽस्तु-वंदामि करके साधु श्रेणी में ही बैठ जाती है।

उस नवदीक्षिता आर्यिका को सर्वप्रथम कुछ दम्पत्ति श्रीफल आदि चढ़ाकर ‘‘वंदामि’’ कहकर नमस्कार करते हैं।

यह विशेष ज्ञातव्य है कि दीक्षा के दिन उस दीक्षार्थी महिला का उपवास रहता है। द्वितीय दिवस पारणा के लिए गणिनी आर्यिका के पीछे श्रावकों के घर में आहार हेतु जाती हैं। वहाँ पर श्रावक विधिवत् पड़गाहन करके नवधाभक्ति से आहारदान देकर अपना जन्म सफल समझते हैं।

जिस प्रकार से मूल-जड़ के बिना वृक्ष नहीं ठहरता, मूल-नींव के बिना मकान नहीं बनता, उसी प्रकार मूल-प्रधान आचरण के बिना श्रावक और साधु दोनों की सार्थकता नहीं होती है। यहाँ पर आर्यिकाओं की चर्या का प्रकरण चल रहा है अत: उनके मूलगुणों का ही कथन किया जा रहा है।

मुख्यरूप से मुनियों के मूलगुण २८ होते हैं। जैसा कि प्रतिक्रमण पाठ में स्थान-स्थान पर कथन आता है-

वदसमिदिंदिय रोधो, लोचो आवासयमचेलमण्हाणं।

खिदिसयणमदंतवणं, ठिदिभोयणमेगभत्तं च।।१।।
एदे खलु मूलगुणा, समणाणं जिणवरेहिं पण्णत्ता।
एत्थ पमादकदादो, अइचारादो णियत्तो हं।।२।।

पाँच महाव्रत, पाँच समिति, पाँच इन्द्रियनिरोध, षट् आवश्यकक्रिया, लोच, आचेलक्य, अस्नान, क्षितिशयन, अदन्तधावन, स्थितिभोजन और एकभक्त ये २८ मूलगुणों के नाम हैं। इन्हें तीर्थंकर आदि महापुरुष भी मुनि अवस्था में पालन करते हैं एवं ये स्वयं महान हैं अत: इन व्रतों को महाव्रत भी कहते हैं।

इन २८ मूलगुणों के अलग-अलग नाम और लक्षण यहाँ पर प्रस्तुत हैं।

१. अहिंसा महाव्रत-पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु, वनस्पति और त्रस ये छह काय हैं, इन छहकायिक जीवों की हिंसा का मन-वचन-काय से पूर्णतया त्याग कर देना अहिंसा महाव्रत है। इस महाव्रत वाले सम्पूर्ण आरंभ और परिग्रह से रहित दिगम्बर मुनि होते हैं और एक साड़ी मात्र परिग्रह वाली आर्यिकाएँ होती हैं।

२. सत्य महाव्रत-रागद्वेष, मोह, क्रोध आदि दोषों से भरे हुए वचनों का त्याग करना और ऐसा सत्य भी नहीं बोलना कि जिससे प्राणियों का घात होता है, सो सत्य महाव्रत है।

३. अचौर्य महाव्रत-ग्राम, शहर आदि में किसी की भूली, रखी या गिरी हुई वस्तु को स्वयं नहीं लेना, दूसरों के द्वारा संग्रहीत शिष्य, पुस्तक आदि को भी न लेना तथा दूसरों के दिए बिना योग्य वस्तु को भी नहीं लेना अचौर्य महाव्रत है।

४. ब्रह्मचर्य महाव्रत-रागभाव को छोड़कर पूर्ण ब्रह्मचर्य से रहना, बालिका, युवती और वृद्धा में पुत्री, बहन और माता के समान भाव रखना त्रैलोक्यपूज्य ब्रह्मचर्य व्रत है।

५. परिग्रह त्याग महाव्रत-धन, धान्य आदि दश प्रकार के बहिरंग तथा मिथ्यात्व आदि चौदह प्रकार के अंतरंग परिग्रह का त्याग करना, वस्त्राभूषण, अलंकार आदि का पूर्णतया त्याग कर देना, यहाँ तक कि लंगोटमात्र भी नहीं रखना अपरिग्रह महाव्रत है। आर्यिकाओं के लिए दो साड़ी रखने का विधान ही उनका मूलगुण होता है।

आगम में कहे अनुसार गमनागमन, भाषण आदि में सम्यक् प्रवृत्ति करना समिति है। इसके भी पाँच भेद हैं-ईर्या, भाषा, एषणा, आदान-निक्षेपण और उत्सर्ग।

६. ईर्यासमिति-निर्जंतुक मार्ग से सूर्योदय होने पर चार हाथ आगे जमीन देखकर एकाग्रचित्त करके तीर्थयात्रा, गुरुवंदना आदि धर्मकार्यों के लिए गमन करना ईर्यासमिति है।

७.भाषा समिति-चुगली, हँसी, कर्कश, परनिंदा आदि से रहित, हित, मित और असंदिग्ध वचन बोलना भाषा समिति है।

८. एषणा समिति-छ्यालिस दोष और बत्तीस अंतराय से रहित, नवकोटि से शुद्ध श्रावक के द्वारा तैयार किया गया ऐसा प्रासुक निर्दोष पवित्र आहार लेना एषणा समिति है।

९. आदान निक्षेपण समिति-पुस्तक, कमण्डलु आदि को रखते-उठाते समय कोमल मयूर पिच्छिका से परिमार्जन करके रखना, उठाना, तृण-घास, चटाई, पाटे आदि को भी सावधानी से देखकर पिच्छिका से परिमार्जन करके ग्रहण करना या रखना, आदान निक्षेपण समिति है।

१०. उत्सर्ग समिति-हरी घास, चिंवटी आदि जीवजन्तु से रहित प्रासुक, ऐसे एकांत स्थान में मलमूत्रादि विसर्जन करना यह उत्सर्ग या प्रतिष्ठापन समिति है।

स्पर्शन, रसना आदि पाँचों इन्द्रियों को वश में रखना, इनको शुभध्यान में लगा देना पंचेन्द्रिय निरोध होता है। इसके भी पाँच इन्द्रियों की अपेक्षा से पाँच भेद होते हैं।

११. स्पर्शन इन्द्रिय निरोध-सुखदायक, कोमल स्पर्शादि में या कठोर कंकरीली भूमि आदि के स्पर्श में आनन्द या खेद नहीं करना।

१२. रसनेंद्रिय निरोध-सरस, मधुर, भोजन में या नीरस, शुष्क भोजन में हर्ष-विषाद नहीं करना।

१३. घ्राणेंद्रिय निरोध-सुगंधित पदार्थ में या दुर्गन्धित वस्तु में रागद्वेष नहीं करना।

१४. चक्षुइंद्रिय निरोध-स्त्रियों के सुन्दर रूप या विकृतवेष आदि में रागभाव और द्वेष भाव नहीं करना।

१५. कर्णेन्द्रिय निरोध-सुन्दर-सुन्दर गीत, वाद्य तथा असुन्दर-निन्दा, गाली आदि के वचनों में हर्ष-विषाद नहीं करना। यदि कोई मधुर गीतों से गान करता हो, तो उसे रागभाव से नहीं सुनना।

जो अवश-जितेन्द्रिय मुनि का कर्तव्य है, वह आवश्यक कहलाता है। उसके छ: भेद हैं-समता, स्तुति, वंदना, प्रतिक्रमण, प्रत्याख्यान और कायोत्सर्ग।

१६. समता-जीवन-मरण, लाभ-अलाभ, सुख-दु:ख आदि में हर्ष- विषाद नहीं करना, समान भाव रखना समता है। इसी का नाम सामायिक है। त्रिकाल में देववंदना करना यही सामायिक व्रत है। प्रात:, मध्यान्ह और सायंकाल में विधिवत् कम से कम एक मुहूर्त-४८ मिनट तक सामायिक करना होता है।

१७. स्तुति-वृषभ आदि चौबीस तीर्थंकरों की स्तुति करना स्तुति नाम का आवश्यक है।

१८. वंदना-अरिहंतों को, सिद्धों को, उनकी प्रतिमा को, जिनवाणी को और गुरुओं को कृतिकर्म पूर्वक नमस्कार करना वंदना है।

१९. प्रतिक्रमण-अहिंसादि व्रतों में जो अतिचार आदि दोष उत्पन्न होते हैं, उनको निंदा-गर्हापूर्वक शोधन करना-दूर करना प्रतिक्रमण है। इसके भी सात भेद हैं-ऐर्यापथिक, दैवसिक, रात्रिक, पाक्षिक, चातुर्मासिक, सांवत्सरिक और उत्तमार्थ।

गमनागमन से हुए दोषों को दूर करने के लिए ‘पडिक्कमामि भंते! इरियावहियाए विराहणाए’ इत्यादि दण्डकों का उच्चारण करके कायोत्सर्ग करना ऐर्यापथिक है। दिवस संबंधी दोषों को दूर करने के लिए सायंकाल में ‘जीवे प्रमाद जनिता’ इत्यादि पाठ करना दैवसिक, रात्रि संंबंधी दोषों के निराकरण हेतु रात्री के अंत में प्रतिक्रमण करना रात्रिक, प्रत्येक मास की चतुर्दशी या पूर्णिमा या अमावस्या को करना पाक्षिक, कार्तिक और फाल्गुन मास के अंत में करना चातुर्मासिक, आषाढ़ की अंतिम चतुर्दशी या पूर्णिमा को करना सांवत्सरिक तथा मरणकाल में करना उत्तमार्थ प्रतिक्रमण है।

२०. प्रत्याख्यान-मन-वचन-काय से भविष्य के दोषों का त्याग करना प्रत्याख्यान है। आहार ग्रहण करने के अनन्तर गुरु के पास अगले दिन आहार ग्रहण करने तक के लिए जो चतुराहार का त्याग किया जाता है, वह प्रत्याख्यान कहलाता है।

२१. कायोत्सर्ग-दैवसिक, रात्रिक आदि क्रियाओं में पच्चीस या सत्ताईस उच्छ्वास प्रमाण से तथा चौवन, एक सौ आठ आदि श्वासोच्छ्वास पूर्वक णमोकार मंत्र का स्मरण करना। काय-शरीर से उत्सर्ग-ममत्व का त्याग करना कायोत्सर्ग है।

यहाँ तक इक्कीस मूलगुण हुए हैं, अब शेष सात गुण को भी स्पष्ट करते हैं।

२२. (१) लोंच-अपने हाथ से अपने सिर, दाढ़ी और मूंछ के बाल उखाड़ना केशलोंच मूलगुण है। केश में जूँ आदि जीव पड़ जाने से हिंसा होगी या उन्हें संस्कारित करने के लिए तेल, साबुन आदि की जरूरत होगी, जो कि साधु पद के विरुद्ध होगा अत: दीनता, याचना, परिग्रह, अपमान आदि दोषों से बचने के लिए यह क्रिया है। लोंच के दिन उपवास करना होता है और लोंच करते या कराते समय मौन रखना होता है।

इसके उत्तम, मध्यम और जघन्य ऐसे तीन भेद हैं-दो महीने पूर्ण होने पर उत्तम, तीन महीने में मध्यम और चार महीने पूर्ण होने पर जघन्य केशलोंच कहलाता है । चार महीने के ऊपर हो जाने पर साधु प्रायश्चित्त का भागी होता है।

२३. (२) अचेलकत्व-सूती, रेशमी आदि वस्त्र, पत्र, वल्कल आदि का त्याग कर देना, नग्न वेश धारण करना अचेलकत्व है। यह महापुरुषों द्वारा ही स्वीकार किया जाता है, तीनों जगत में वंदनीय महान पद है। वस्त्रों के ग्रहण करने से परिग्रह, आरंभ, धोना, सुखाना और याचना करना आदि दोष होते हैं, अत: निष्परिग्रही साधु के यह व्रत होता है।

२४. (३) अस्नानव्रत-स्नान, उबटन आदि रूप शरीर के संस्कारों का त्याग करना, अस्नान व्रत है। धूलि से धूसरित, मलिन शरीरधारी मुनि कर्ममल को धो डालते हैं। चांडालादि अस्पृश्यजन, हड्डी, चर्म, विष्ठा आदि का स्पर्श हो जाने से वे मुनि दंडस्नान करके गुरु से प्रायश्चित्त ग्रहण करते हैं।

२५. (४) भूमिशयन-निर्जंतुक भूमि में घास या पाटा अथवा चटाई पर शयन करना भूमिशयन व्रत है। ध्यान, स्वाध्याय आदि से या गमनागमन से आई शारीरिक थकान को दूर करने हेतु स्वल्प निद्रा का विधान है।

२६. (५) अदंतधावन-नीम की लकड़ी, ब्रुश आदि से दातौन नहीं करना। दाँतों को नहीं घिसने से इंद्रियसंयम होता है, शरीर से विरागता प्रगट होती है और सर्वज्ञ देव की आज्ञा का पालन होता है।

२७. (६) स्थिति भोजन-खड़े होकर अपने दोनों हाथों की अंजुलि बनाकर श्रावक के द्वारा दिया हुआ आहार ग्रहण करना स्थिति भोजन है। आर्यिकाएँ बैठकर करपात्र में आहार ग्रहण करती हैं।

२८. (७) एक भक्त-सूर्योदय के अनंतर तीन घड़ी के बाद और सूर्यास्त के तीन घड़ी पहले तक दिन में सामायिक काल के सिवाय कभी भी एक बार आहार ग्रहण करना एकभक्त है। आजकल प्राय: नौ बजे से ग्यारह बजे तक साधु जन आहार को जाते हैं। कदाचित् एक बजे से भी जा सकते हैं। दिन में एक बार ही आहार को निकलना चाहिए। कदाचित् लाभ न मिलने पर उस दिन पुन: आहारार्थ नहीं जाना चाहिए।

आर्यिकाओं के ये २८ मूलगुण कैसे होते हैं? इस बात का खुलासा परमपूज्य गणिनी आर्यिकारत्न श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा लिखित ‘आर्यिका’ नामक पुस्तक में है। यथा-

प्रायश्चित्त ग्रंथ में आर्यिकाओं के लिए आज्ञा प्रदान की है कि ‘‘आर्यिकाओं को अपने पहनने के लिए दो साड़ी रखना चाहिए। इन दो वस्त्रों के सिवाय तीसरा वस्त्र रखने पर उसके लिए प्रायश्चित्त होता है।’’

इन दो वस्त्रों का ऐसा मतलब है कि दो साड़ी लगभग १६-१६ हाथ की रहती हैं। एक बार में एक ही पहनना होता है, दूसरी धोकर सुखा देती हैं जो कि द्वितीय दिवस बदली जाती है। सोलह हाथ की साड़ी के विषय में आगम में कहीं वर्णन नहीं आता है, मात्र गुरु परम्परा से यह व्यवस्था चली आ रही है, आगम में तो केवल दो साड़ी मात्र का उपदेश है।

चारित्रचक्रवर्ती आचार्य श्री शांतिसागर महाराज के प्रथम पट्टशिष्य आचार्य श्री वीरसागर महाराज (ज्ञानमती माताजी के दीक्षा गुरु) कहते थे कि दो साड़ी रखने से आर्यिका का ‘आचेलक्य’ नामक मूलगुण कम नहीं होता है किन्तु उनके लिए आगम की आज्ञा होने से यही मूलगुण है। हाँ! तृतीय साड़ी यदि कोई आर्यिका रखती है, तो उसके मूलगुण में दोष अवश्य आता है। इसी प्रकार से ‘स्थितिभोजन’ मूलगुण में मुनिराज खड़े होकर आहार करते हैं और आर्यिकाओं को बैठकर आहार लेना होता है, यह भी शास्त्र की आज्ञा होने से उनका मूलगुण ही है। यदि कोई आर्यिका आगमाज्ञा उलंघन कर खड़ी होकर आहार ले लेवे तो अवश्य उसका मूलगुण भंग होता हैै। इसीलिए उनके भी अट्ठाईस मूलगुण मानने में कोई बाधा नहीं है। यही कारण है कि आर्यिकाओं को उपचार से महाव्रती संज्ञा दी गई है।

आर्यिकाएँ साड़ीमात्र परिग्रह धारण करते हुए भी लंगोटी मात्र अल्पपरिग्रह धारक ऐलक के द्वारा पूज्य हैं।


यथा सागारधर्मामृते प्रकरणं लभ्यते-

कौपीनेऽपि सम्मूर्छत्वान्नार्हत्यार्यो महाव्रतं।

अपि भाक्तममूच्र्छत्वात् शाटिकेऽप्यार्यिकार्हति।।
पण्डितः श्री आशाधरः कथयति- अहो! आश्चर्यमस्ति यत् ऐलकस्तु कौपीनस्य त्यागं कर्तुमर्हति। पुनरपि ममत्वादिकारणैः धारकोऽस्ति, किन्तु आर्यिकां शाटिका त्यक्तुमसमर्थैवास्ति। तासामियंं शटिकासीविता न भवितव्या। अर्थात् यत् वस्त्रं सीवितमस्ति तस्य ताभ्यस्त्यागोऽस्ति। आचारसार ग्रन्थेऽपि वर्णनमस्ति-
देशव्रतान्वितैस्तासामारोप्यैते बुधैस्ततः।
महाव्रतानि सज्जातिज्ञप्त्यर्थमुपचारतः।।
अर्थात् गणधरादिदेवाः तासामार्यिकाणां सज्जातित्वादिकं सूचयितुं तासु उपचारात् महाव्रतस्यारोपणमकुर्वन्। शाटिकाधारणेन आर्यिकासु देशव्रतान्येव भवन्ति परन्तु सज्जातित्वादि- कारणेभ्यः गणधरादयो देवाः तासां देशव्रतेषु उपचारात् महाव्रतानामारोपणमकुर्वन्।
प्रायश्चित्तग्रन्थेऽपि आर्यिकाणां मुनिभिः समं प्रायश्चित्तस्य विधानमस्ति। क्षुल्लकादीनां च ताभ्य अर्धमितिरूपेणास्ति।
साधूनां यद्वदुद्दिष्टमेवमार्यागणस्य च।
दिनस्थान त्रिकालोनं प्रायश्चित्तं समुच्यते।।
यथा प्रायश्चित्तं साधुभ्यः उक्तमस्ति तथैवार्यिकाणामप्युक्तम्। अत्र विशेषोऽयं यत् प्रतिमा त्रिकालयोगः, चकारशब्दात् अन्यग्रन्थानुसारेण वा पर्यायच्छेदः ;दीक्षाछेदःद्ध मूलस्थानं परिहारश्च एते प्रायश्चित्तान्यपि आर्यिकाभ्यो न सन्ति।
आर्यिकाभ्यश्च दीक्षाविधिरपि तत्र पृथक्, नास्ति। मुनीनां दीक्षाविधिना एव ताः अपि दीक्षिताः भवन्ति।
एतैः सर्वैः कारणैः स्पष्टमस्ति यत् आर्यिकाणां व्रतानि चर्यादयोऽपि मुनिसदृश्याः एव सन्ति।
उक्तं च- ‘‘सूत्राणां सुनियोजनेन, परिधानं भवति। ईष्टिकानां च सुयोजनेन भवनं निर्मीयते।। गुणानां धारणेन गुणवान् भवति। रत्नत्रये च रमणेन जनोः भगवान् भवितुमर्हति।।’’
एतेन सर्वेण निष्कर्षोऽयं प्रत्येकमूलगुणस्य अतिचाररहितपालनेन आर्यिका मुक्तिपथानु- सारिणी भवति। एषा च व्यवस्था अनादिकालात् प्रवर्तमाना अस्ति। वर्तमानेऽपि एषा व्यवस्था दृश्यते यत् एताः आर्यिकाः एकां शाटिकां धारयन्ति, यया तासां सम्पूर्णं शरीरमावृतं भवति। हस्ते च मयूरपक्षाणां पिच्छिकां धारयन्ति। तथा शौचस्योपकरणं काष्ठस्य नारिकेलस्य वा कमण्डलुं धारयन्ति।
आर्यिकायाः अष्टविंशतिः कायोत्सर्गाः-मुनीनामार्यिकाणां च दैनिकाः अष्टविंशतिः कायोत्सर्गाः भवन्ति। ये च प्रतिक्षणं प्रातःकालात् रात्रिविश्रामपर्यन्तं क्रियन्ते। तेषामेव स्पष्टीकरणं विधीयतेµ
सर्वप्रथमं प्रातःकालात् एतेषां कायोत्सर्गाणां शुभारम्भो भवति। वस्तुतस्तु साधुजीवने प्रतिक्षणं स्वाध्यायस्य अध्ययनस्य च प्रामुख्यत्वेन शुभोपयोगः एवं भवति। तथाप्याचार्य- कुन्दकुन्दः ड्डतिकर्मविधिपूर्वकं तेषामेव कर्तुमादेशं प्रादात् तेषु च कायोत्सर्गस्य गणना भवति। अत्रैकस्य कायोत्सर्गस्य अभिप्रायः सप्तविंशतिश्वासोच्छ्वासेसु नववारं णमोकारमंत्रस्य जाप्यमस्ति।
रात्रौ एकवादनस्य पश्चात् गृहीत्वा सूर्योदयात् द्विघटिकापूर्वपर्यन्त यथाशक्तिं स्वाध्यायः कर्तव्यः। एषश्चापरात्रिकः स्वाध्यायः कथ्यते। स्वाध्यायस्य प्रारम्भात् पूर्वं स्वाध्याय- प्रतिष्ठापनहेतवे लघुश्रुतभक्तेः आचार्यभक्तेश्च सम्बन्धिनौ द्वौ कायोत्सर्गौ भवतः। पुनः स्वाध्यायस्य पश्चात् स्वाध्यायस्य निष्ठापनहेतवे श्रुतभक्तिसम्बन्धी एकः कायोत्सर्गो भवति। अनेन प्रकारेण एकस्मिन् स्वाध्याये त्रयः कायोत्सर्गाः करणीयाः भवन्ति। यद्यपि एषः विधिः अधिकप्रचलने नास्ति, प्रायः जनाः नवबारं णमोकारमंत्रं पठित्वा स्वाध्यायस्य शुभारंभं समापनं च कुर्वन्ति, किन्तु आगमानुसारेण उपर्युक्तो विधिरावश्यकं भवति। पुनः रात्रिसम्बन्धिदोषान् अपहर्तुं गणिन्याः मातुः समक्षं रात्रिकप्रतिक्रमणं क्रियते। यस्मिन् सि(भक्तिः प्रतिक्रमणभक्तिः वीरभक्तिः चतुर्विंशतितीर्थंकरभक्तिश्च भवन्ति। एतासु चतुभक्तिसम्बन्धिताः चत्वारः कायोत्सर्गाः भवन्ति। पुनः रात्रियोगनिष्ठापनहेतवे योगभक्तिसम्बन्धी एकः कायोत्सर्गः भवति।
एतदनन्तरं सूर्योदयात् द्विघटिकापूर्वं द्विघटिकायाश्च पश्चात् पर्यन्तं सन्धिकाले पौर्वाण्हिक- सामायिकं क्रियते। एतस्मिन् सामायिके चैत्यभक्तिपंचगुरुभक्तिसम्बन्धिनौ द्वौ कायोत्सर्गौ भवतः। अनन्तरं पौर्वाण्हिक- स्वाध्यायः सूर्योदयस्य द्वयोर्घटिकयोः पश्चात् भवति। तस्मिन्नपि पूर्वोक्ताः त्रयः कायोत्सर्गाः भवन्ति।
पुनः आहारचर्या सम्पद्यते। तस्याः पश्चात् आर्यिकाः मध्याह्नस्य सामायिकं कुर्वन्ति। यस्मिन् द्वौ कायोत्सर्गौ भवतः। सामायिकस्य जघन्यकालः द्वेघटिके अर्थात् 48 मिनट भवति। अस्मात् अधिकं एकहोरापर्यन्तं द्विहोरापर्यन्तं च सामायिकं क्रियते। अनन्तरं मध्याह्नस्य चतसृणां घटिकानां समाप्तौ अपराण्हिकः स्वाध्यायः क्रियते। अस्मिन् त्रयः कायोत्सर्गाः भवन्ति। एतस्य पश्चात् दिवससम्बन्धिनां दोषाणां क्षालनाय सर्वाः आर्यिकाः सामूहिकरूपेण दैवसिकं प्रतिक्रमणं विदधति। यस्मिन् चत्वारः कायोत्सर्गाः भवन्ति। पुनः स्ववसतिकायामागत्य सामायिकात् पूर्वं रात्रियोगस्य प्रतिष्ठापनायै योगभक्तिं कुर्वन्ति च यस्मद् एकः कायोत्सर्गो भवति। रात्रियोगस्य अभिप्रायोऽस्ति ‘‘अहं अद्य रात्रौ यस्मात् वसतिकायां निवासं करिष्यामि।’’ यतो हि साधवः रात्रौ यत्र तत्र विचरणं न कुर्वन्ति। मलमूत्रादिकविसर्जनाय दिवा एव स्थानं पश्यन्ति यच्च वसतिकायाः समीपस्थमेव भवति।
अनन्तरं आर्यिकाः सायंकालीनं सामयिकं ;देववन्दनांद्ध कुर्वन्ति। तस्मिन् उपर्युक्तौ द्वावेव कायोत्सर्गौ भवतः। पुनः रात्रिकस्वाध्यायस्य त्रयान् कायोत्सर्गान् कुवन्ति। एतेन अहोरात्रस्य अष्टाविंशति कायोत्सर्गान् प्रतिदिनं पूर्णसावधानतया कुर्वन्ति। पुनः महामंत्रस्य स्मरणं कुर्वन्त्यः रात्रौ विश्रामं कुर्वन्ति।
इयमेव चर्या प्राचीनकालात् मुनीनांमार्यिकाणां च संचालिता भवति। अतः सर्वाः आर्यिकाः एतासामेव क्रियाणां पालनं कुर्युः। यदि कापि आर्यिका विदुष्यस्ति, दैनिककर्तव्यानां पालनं कुर्वन्ती तस्मात् समयं प्राप्य भव्यप्राणिनः धर्मप्रवचनं श्रावयित्वा लाभान्वितान् च कुर्वन्ति।
अनेन प्रकारेण संक्षिप्तरूपेण दिगम्बरजैनसम्प्रदायस्य दीक्षितानामार्यिकाणां अष्टाविंशति कार्योसर्गाणां वर्णनं ड्डतम्।
कानि कार्याणि आर्यिकाभिः न करणीयानि-आर्यिकाः मुनीनां वन्दनां कर्तुं एकाकिन्यः न गच्छेयुः। गणिनीभिरार्यिकाभिः सह द्वे-चतस्रः आर्यिकाः मिलित्वैव गच्छेयुः। एकाकिन्या स्थित्वा दिगम्बरमुनिभिः सह वार्तलापां न कर्तव्यः। मुनीनां च सेवां वैयावृत्तिः कदापि न कर्तव्या।
मुख्यतया स्त्रीलिंगछेदनं कर्तुमार्यिकादीक्षां गृह्यते। अतएव एतया पवित्रया दीक्षया सदैव जीवनं वैराग्यमयं कर्तव्यम्। गृहस्थानां रागजनितवार्तासु ताः रुचिं न दर्शयेयुः। यतो हि गृहसम्बन्धीनि समस्तकार्याणि ताभिस्त्यक्तानि सन्ति। रुग्णावस्थायां ताः कस्यापि प्रकारस्य औषधिं न निर्मान्ति। स्वजननीं गुर्वीमेव स्व दुःखवार्ता कथयितव्या। तदा ताः स्वयोग्यौषधान् श्रावकैः निर्माप्य आहारे गृह्णन्ति।
मुनयः इव आर्यिकाः श्रावकस्य गृहे करपात्रे आहारं गृह्णन्ति। तत्पश्चात् श्रावकस्तासां कमण्डुलानि उष्णजलेन पूर्णानि करोति। उष्णेन जलेन विना ताः अपरिपक्वं जलं न स्पृशन्ति। श्राविका उष्णेन जलेन शाटिकां क्षालयित्वा शोषयति अथवा ताः स्व कमंडलुजलेन शाटिकां क्षालयित्वा शोषयन्ति। आर्यिकाः ‘साबुन’ इत्यादीनां प्रयोगं न कुर्वन्ति। ताः द्वयोः त्रयाणां चतुर्णां वा मासे स्वशिरसः केशानां लुंचनं कुर्वन्ति। मुनीनां वसतिकासु आर्यिकाणां वसनं, उपवेशनं वा शयनं वर्जितमस्ति।
मासिकधर्मावस्थासु आर्यिकाः त्रीणि दिनानि मौनं साधयन्ति जिनमन्दिराच्च पृथक् वसतिकायां उषित्वा मानसिकरूपेण महामन्त्रस्य द्वादशभावनानां वा चिन्तनं विदधति। सामायिकं प्रतिक्रमणं च इत्यादीन् मनसा चिन्तनरूपेण कुर्वन्ति। जिह्वौष्ठचालनं विना मंत्रान् स्तोत्रादीन् च चिन्तयन्ति। ताः अस्यामवस्थायां कस्यचित् स्पर्शं न कुर्वन्ति।


जैसा कि सागारधर्मामृत में पृष्ठ ५१८ पर प्रकरण आया है-

कौपीनेऽपि समूच्र्छत्वान्नार्हत्यार्यो महाव्रतं।

अपिभाक्तममूच्र्छत्वात् साटिकेऽप्यार्यिकार्हति।।३६।।

पण्डित श्री आशाधर जी कहते हैं कि अहो! आश्चर्य है कि ऐलक लंगोटी में ममत्व परिणाम होने से उपचार से भी महाव्रती नहीं हो सकता है किन्तु आर्यिका साड़ी धारण करने पर भी ममत्व परिणाम रहित होने के कारण उपचार से महाव्रती कहलाती है क्योंकि ऐलक तो लंगोटी का त्याग कर सकता है फिर भी ममत्व आदि कारणों से धारण किए है किन्तु आर्यिका तो साड़ी त्याग करने में असमर्थ है। उनकी यह साड़ी बिना सिली हुई होनी चाहिए अर्थात् सिले हुए वस्त्र पहनने का उनके लिए निषेध है।

आचारसार ग्रंथ में भी वर्णन आया है-

देशव्रतान्वितैस्तासामारोप्यैते बुधैस्तत:।

महाव्रतानि सज्जातिज्ञप्त्यर्थमुपचारत:।।८९।।

अर्थात् गणधर आदि देवों ने उन आर्यिकाओं की सज्जाति आदि को सूचित करने के लिए उनमें उपचार से महाव्रत का आरोपण करना बतलाया है। साड़ी धारण करने से आर्यिकाओं में देशव्रत ही होते हैं परन्तु सज्जाति आदि कारणों से गणधर आदि देवों ने उनके देशव्रतों में उपचार से महाव्रतों का आरोपण किया है।

प्रायश्चित्त ग्रंथ में भी आर्यिकाओं को मुनियों के बराबर प्रायश्चित्त का विधान है तथा क्षुल्लक आदि को उनसे आधा इत्यादि रूप से है-

साधूनां यद्वदुद्दिष्टमेवमार्यागणस्य च।

दिनस्थान त्रिकालोनं प्रायश्चित्तं समुच्यते।।११४।।

जैसा प्रायश्चित्त साधुओं के लिए कहा गया है, वैसा ही आर्यिकाओं के लिए कहा गया है। विशेष इतना है कि दिन, प्रतिमा, त्रिकालयोग चकार शब्द से अथवा अन्य ग्रंथों के अनुसार पर्यायच्छेद (दीक्षा छेद) मूलस्थान तथा परिहार ये प्रायश्चित्त भी आर्यिकाओं के लिए नहीं हैं।

आर्यिकाओं के लिए दीक्षाविधि भी अलग से नहीं है। मुनिदीक्षा विधि से ही उन्हें दीक्षा दी जाती है। इन सभी कारणों से स्पष्ट है कि आर्यिकाओं के व्रत, चर्या आदि मुनियों के सदृश हैं। कहा भी है-

धागों को बुनने से परिधान बन जाता है।

र्इंटों को चुनने से मकान बन जाता है।।
गुणों को गुनने से गुणवान बन जाता है।
रत्नत्रय में रमने से मानव भगवान बन जाता है।।

कुल मिलाकर निष्कर्ष यह निकलता है कि एक-एक मूलगुण को अतिचार रहित पालन करने वाली आर्यिका मुक्तिपथ की अनुगामिनी होती है। यही व्यवस्था अनादिकाल से चली आ रही है। वर्तमान में भी यही व्यवस्था देखने में आती है कि ये आर्यिकाएँ एक साड़ी पहनती हैं, जिससे उनका सम्पूर्ण शरीर ढका रहता है, हाथ में मयूर पंख की पिच्छी रखती हैं तथा शौच का उपकरण काठ या नारियल का कमंडलु रखती हैं।

आर्यिकाओं के २८ कायोत्सर्ग-मुनि-आर्यिकाओं के दैनिक २८ कायोत्सर्ग होते हैं जो कि प्रात:काल से रात्रिविश्राम के पूर्व तक किये जाते हैंं। उन्हीं का स्पष्टीकरण किया जाता है-

सर्वप्रथम प्रात:काल से इन कायोत्सर्गों का शुभारंभ होता है। यूँ तो साधु जीवन में प्रतिक्षण स्वाध्याय, अध्ययन आदि की प्रमुखता होने से शुभोपयोग ही रहता है तथापि आचार्य श्री कुन्दकुन्द स्वामी ने कृतिकर्म विधिपूर्वक उन्हीं क्रियाओं को करने का आदेश दिया है, जिनमें कायोत्सर्गों की गणना हो जाती है। यहाँ एक कायोत्सर्ग का अभिप्राय २७ स्वासोच्छ्वास में ९ बार णमोकार मंत्र जपना है।

रात्रि एक बजे के पश्चात् से लेकर सूर्योदय से २ घड़ी पूर्व तक यथाशक्ति स्वाध्याय करना चाहिए, इसे अपररात्रिक स्वाध्याय कहते हैं। स्वाध्याय प्रारंभ करने से पूर्व स्वाध्याय प्रतिष्ठापन हेतु लघु श्रुतभक्ति और आचार्यभक्ति संबंधी दो कायोत्सर्ग होते हैं पुन: स्वाध्याय के पश्चात् स्वाध्याय निष्ठापन हेतु श्रुतभक्ति संबंधी एक कायोत्सर्ग होता है, ऐसे एक स्वाध्याय करने में ३ कायोत्सर्ग करने होते हैं। यद्यपि यह विधि अधिक प्रचलन में नहीं है, प्राय: ९ बार णमोकार मंत्र मात्र पढ़कर लोग स्वाध्याय प्रारंभ कर देते हैं और अन्त में भी ९ बार णमोकार मंत्र पढ़कर स्वाध्याय समापन कर देते हैं किन्तु आगमानुसार उपर्युक्त विधि आवश्यक होती है। पुन: रात्रि संबंधी दोषों का शोधन करने हेतु गणिनी माताजी के पास रात्रिक प्रतिक्रमण करना होता है, जिसमें सिद्धभक्ति, प्रतिक्रमणभक्ति, वीरभक्ति और चतुर्विंशति तीर्थंकर भक्ति इन चार भक्तिसंबंधी ४ कायोत्सर्ग होते हैं पुन: रात्रियोग निष्ठापन करने हेतु योगभक्ति संबंधी एक कायोत्सर्ग होता है।

इसके अनंतर सूर्योदय से दो घड़ी पूर्व और दो घड़ी पश्चात् तक के संधिकाल में पौर्वाण्हिक सामायिक की जाती है। इस सामायिक में चैत्यभक्ति और पंचगुरुभक्ति संंबंधी दो कायोत्सर्ग होते हैं। अनंतर पौर्वाण्हिक स्वाध्याय सूर्योदय के दो घड़ी बाद होता है, उसमें भी पूर्वोक्त ३ कायोत्सर्ग होते हैं।

पुन: आहारचर्या सम्पन्न होती है। उसके पश्चात् आर्यिकाएँ मध्यान्ह की सामायिक करती हैं जिसमें २ कायोत्सर्ग होते हैं। सामायिक का जघन्य काल २ घड़ी अर्थात् ४८ मिनट होता है। इससे अधिक घंटे,दो घंटे भी सामायिक की जा सकती है। अनंतर मध्यान्ह की चार घड़ी बीत जाने पर अपराण्हिक स्वाध्याय किया जाता है जिसमें ३ कायोत्सर्ग होते हैं। इसके पश्चात् दिवस संंबंधी दोषों के क्षालन हेतु सभी आर्यिकाएँ सामूहिक रूप से दैवसिक प्रतिक्रमण करती हैं, जिसमें ४ कायोत्सर्ग होते हैं पुन: अपनी वसतिका में आकर सामायिक से पूर्व रात्रियोग प्रतिष्ठापन के लिए योगभक्ति करती हैं जिसका एक कायोत्सर्ग होता है। रात्रियोग का मतलब यह है कि ‘मैं आज रात्रि में इस वसतिका में ही निवास करूँगी’ क्योंकि साधुजन रात्रि में यत्र-तत्र विचरण नहीं करते हैं। मल-मूत्रादि विसर्जन के लिए भी दिन में ही स्थान देख लेते हैं जो कि वसतिका के आसपास ही होता है।

अनंतर आर्यिकाएँ सायंकालिक सामायिक (देववंदना) करती हैं उसमें उपर्युक्त दो कायोत्सर्ग होते हैं, पुन: पूर्वरात्रिक स्वाध्याय के तीन कायोत्सर्ग करती हुई अपने अहोरात्रि के २८ कायोत्सर्ग प्रतिदिन पूर्ण सावधानी पूर्वक करती हैं पुन: महामंत्र का स्मरण करते हुए रात्रि विश्राम करती हैं।

यही चर्या मुनि-आर्यिकाओं की प्राचीनकाल से चली आ रही है अत: समस्त आर्यिकाओं को इन्हीं क्रियाओं का पालन करना चाहिए। यदि कोई आर्यिका विदुषी हैं तो दैनिक कर्तव्यों का पालन करते हुए उसमें से समय निकालकर भव्य प्राणियों को धर्म प्रवचन सुनाकर लाभान्वित भी करती हैं।

इस प्रकार संक्षेप में दिगम्बर जैन सम्प्रदाय में दीक्षित आर्यिकाओं के २८ कायोत्सर्ग का वर्णन मैंने किया है।

आर्यिकाओं के लिए न करने योग्य कार्य कौन से हैं-आर्यिकाओं को मुनियों की वंदना करने के लिए अकेले नहीं जाना चाहिए। गणिनी आर्यिका के साथ अथवा दो-चार आर्यिकाएं मिलकर जाना चाहिए। अकेले बैठकर दिगम्बर मुनियों से वार्तालाप नहीं करना चाहिए तथा मुनियों की सेवा, वैयावृत्ति कदापि नहीं करना चाहिए।

मुख्यरूप से स्त्रीलिंग का छेद करने हेतु ही आर्यिका दीक्षा धारण की जाती है अत: इस पवित्र दीक्षा को प्राप्त करके सदैव जीवन को वैराग्यमयी बनाना चाहिए। गृहस्थियों की किन्हीं रागजनित बातों में उन्हें रुचि नहीं लेनी चाहिए क्योंकि गृहसंबंधी समस्त कार्य उनके लिए त्याज्य हो जाते हैं। बीमार होने पर स्वयं अपने हाथ से किसी प्रकार की औषधि भी वे नहीं बनाती हैं। अपनी माता के समान गणिनी गुरु से ही अपना दु:ख बालकवत् बताना चाहिए, तब वे स्वयं उसके योग्य औषधि श्रावकों के द्वारा बनवाकर आहार में दिलवाती हैं।

मुनियों के समान ही ये आर्यिकाएं श्रावक के घर में करपात्र में आहार ग्रहण करती हैं उसके पश्चात् श्रावक इनके कमण्डलु में गरम जल भर देते हैं। बिना गरम किया हुआ कच्चा जल वे नहीं छूती हैं। श्राविकाएँ छने जल से इनकी साड़ी धोकर सुखा देती हैं अथवा ये स्वयं कमण्डलु के जल से साड़ी धोकर सुखा सकती हैं। आर्यिकाएं साबुन आदि का प्रयोग नहीं कर सकती हैं। वे दो, तीन या चार महीने में अपने सिर के बालों का लोंच करती हैं। मुनियों की वसतिका में आर्यिकाओं का रहना, लेटना, बैठना आदि वर्जित है।

मासिक धर्म की अवस्था में आर्यिकाएं तीन दिन तक मौन से रहती हैं तथा जिनमंदिर से अलग वसतिका में रहकर मानसिक रूप से महामंत्र का एवं बारह भावनाओं का चिंतन करती हैं। सामायिक, प्रतिक्रमण आदि भी केवल मन में चिन्तवन रूप से करती हैं। ओष्ठ, जिह्वा आदि न हिलने पाए, ऐसा मंत्र-स्तोत्रादि का चिंतन भी चलता है। वे इस अवस्था में किसी का स्पर्श भी नहीं करती हैं।

आचारसार ग्रन्थे वर्णनं प्राप्यते-

तौ स्नात्वा तु तुर्येन्हि, शु(त्यरसभुक्तयः। ड्डत्वा त्रिरात्रमेकान्तरं वा सज्जपसंयुताः।।

अर्थात् रजस्वलाऽवस्थायां त्रिदिनानि पर्यन्तं यदि उपवासस्य शक्तिर्नास्ति तु षड्रसानां त्यागं ड्डत्वा नीरसमाहारं गृह्णन्ति। चतुर्थदिने च काचित् श्राविका तां उष्णजलेन स्नानं कारयति, पुनश्च कस्याश्चित् गणिन्याः समीपं गत्वा प्रायश्चित्तं गृह्णन्ति।
इदं तु प्रथममेवोक्तं यत् आर्यिकाः उपविश्य करपात्रे आहारं गृह््णन्ति। आर्यिकाः उपचारेण महाव्रतिन्यः एव भवन्ति। ताश्च पंचमगुणस्थानात् ऊध्र्वं गन्तुं न शक्नुवन्ति। तथापि चतुर्विधसंघे मुनीनां पश्चात् आर्यिकाणां पदवी मान्यते। ऐलकक्षुल्लकाश्च दीक्षायां तासां ज्येष्ठाः अपि पुनरपि ते आर्यिकाः ‘‘वन्दामि’’ इत्युक्त्वा नमस्कारं कुर्वन्ति। आर्यिकाश्च ताभ्यः समाधिरस्तु इति आशीर्वादं प्रददति। गुणस्थानव्यवस्था त्रयाणां सदृशी अस्ति तथापि कर्मनिर्जरां ऐलकक्षुल्लकापेक्षयाऽऽर्यिकाणामधिका विद्यते। अतस्ताः एकां शाटिकां धृत्वापि मुनीन् इव अष्टाविंशतिमूलगुणान् परिपालयन्ति।
आहारविधिः-चतुर्विधसंघस्य क्रमपरम्परायां आहारचर्यापि आर्यिकाः मुनीनां पश्चात् जिनेन्द्रभगवतो दर्शनं कुर्वन्त्यः क्रमपूर्वकं निर्गच्छन्ति। श्रावकश्राविकाश्च स्वस्वभोजनालय- समक्ष ‘पडगाहनं’ कुर्वन्ति।
हे मातः। वन्दामि-वन्दामि, अत्र तिष्ठ तिष्ठ, आहारजलं शु(मस्ति। इत्युच्चार्यमाणे यदा एका द्वे आदिआर्यिका तत्र स्थिताः भवन्ति तदा दातारः तासां प्रदक्षिणां ड्डत्वा ताः भोजनस्थानं नयन्ति। स्वच्छे च पटटे उपवेष्टुं निवेदयन्ति। यत् मातः! उच्चासने विराजताम्। पुनः यदा ताः आसनं गृह्णन्ति तदा तासां चरणप्रक्षालनं ड्डत्वा गन्धोदकं मस्तके आरोपयन्ति अष्टद्रव्यैश्च पूजनं ड्डत्वा नमस्कारं कुर्वन्ति।
तत्पश्चाच्च स्थाल्यां भोजनं प्रस्तूय जलं दुग्धं च तत्समक्षं स्थापयित्वा दर्शयन्ति। आर्यिकायाः मातुः येषां त्यागो भवति सा तान् बहिष्करोति, तदा दातारः शु(मुच्चार्य आहारं प्रारब्धं कारयन्ति।
इयं नवधाभक्त्याः प्रक्रियाऽस्ति। यथा च आचार्यैरुक्तम्-
पडिगहमुच्चट्ठाणं पादोदयमच्चणं च पणमं च।
मणवयणकायसु( एसणसु(य णवविहं पुण्णं।।
आहारकाले श्रावकैरियं नवधाभक्तिः कार्या। यथा च चारित्रचक्रवर्तिनः आचार्यशान्तिसागरस्य संघपरम्परायां संचाल्यते। यदि इयं पूर्णा नवधाभक्तिः भोजनस्थाने न भवति तदा आर्यिकाः आहारग्रहणं विनैव भोजनस्थानात् निवर्तिताः भवन्ति। एतेन प्रकारेण नवधाभक्तेः पश्चात् आहारस्य प्रारम्भात् पूर्वं आर्यिकामाता हस्तौ प्रक्षाल्य प्रत्याख्याननिष्ठापनक्रियापूर्वकं सि(भक्तिं कुर्वन्ति। यथा-‘‘नमोऽस्तु आहार प्रत्याख्यान निष्ठापनक्रियायां सि(भक्तिः कायोत्सर्गं करोम्यहम्’’, इत्युच्चार्य नवबारं णमोकारमंत्रं पठित्वा लघुसि(भक्तिं अंचलिकां च पठित्वा हस्तस्य अंजुलिं विदधति यस्मिन् दाता सर्वप्रथमं उष्णं प्रासुकं च जलं ददाति पुनः भोजनं दुग्धं च क्रमपूर्वकं ददाति। यदि कस्यचित् रोगस्य निमित्तेन औषधादेरावश्यकता भवति श्रावकस्तस्मिन्नेव समये शु( प्रासुकं च औषधमपि ददाति। आहारस्य पूर्णताकालपश्चात् हस्तौ प्रक्षाल्य, गण्डूषं कृत्वा तत्रैव लघु सि(भक्तिपूर्वक प्रत्याख्यानं गृह्णन्ति। कमण्डलुं च जलेन पूर्णं ड्डत्वा तस्मात् स्थानात् निवर्तन्ते। एतेन सहैव श्रावकश्राविकाश्च तैः सह तासां स्थानं प्रति प्रापयितुं गच्छन्ति।
ताः आर्यिका आहारात् प्रतिनिवृत्य स्वगणिन्याः समीपे पुनः प्रत्याख्यानं-अग्रिमदिने आहारग्रहणपर्यन्तं चतुराहारंं त्यजन्ति।
भोजनस्थानं प्राप्य प्रत्याख्याननिष्ठापनं कर्तुं आहारस्य पश्चाच्च गुरुसमीपमागत्य प्रत्याख्यानग्रहणस्यायं समस्तो विधिः आचारसारे, अनगारधर्मामृते च अन्यग्रन्थेषु च वर्णितमस्ति। वर्तमानकाले यत्रकुत्रापि केचित् मुनयः आर्यिकाश्च आहारचर्यायाः पूर्वमेव जिनमंदिरे गुरुसन्निधावेव प्रत्याख्याननिष्ठापनां कुर्वन्ति, पुनश्च आहारार्थं गच्छन्ति, किन्तु इदं तु न सुष्ठु वर्तते। अस्मिन् विषये अनगारधर्मामृते आचारसारग्रंथे च स्पष्टरूपेण वर्णनमस्ति-

1द्ध ‘‘हेयं त्याज्यं साधुना। निष्ठाप्यमित्यर्थः। किं तत्? प्रत्याख्यानादि- प्रत्याख्यानमुपोषितं वा। क्व? अशनादौ-भोजनारंभे। कया? सि(भक्त्या। किं विशिष्ट्या? लघ्व्या’’।
अनगारधर्मामृत मूलप्रति पृष्ठ 649द्ध
2द्ध आत्मोचितासनासीनो दातृप्रक्षालितक्रमः।

ऊध्र्वाधः पाश्र्वदिक्कोण निक्षेपानिरीक्षणः।।
वर्णी पूर्णप्रतिज्ञोऽथ सि(भक्तिं विधाय तत्।
प्रत्याख्यानं विनिष्ठाप्य प्रेरितो भक्तदातृभिः।।

आचारसार पृष्ठ134द्ध

एतेनैव प्रकारेण एतेषु ग्रन्थेषु मुनिभ्यः आहारस्य पश्चात् भोजनस्थाने पुनश्च गुरोः समीपे आगत्य प्रत्याख्यानग्रहणकरणस्य अपि स्पष्टीकरणमस्ति। स एव सम्पूर्णो विधिः आर्यिकाभिश्च परिपालनीया भवति। यथा-
‘आदेयं च लघ्व्या सि(भक्त्या प्रतिष्ठाप्यं साधुना। किं तत्? प्रत्याख्यानादि। क्व? अंते प्रक्रमाद् भोजनस्यैव प्रान्ते। कथं? आशु-शीघ्रं भोजनांतरमेव। आचार्यसन्निधाने इदं विधेयं।
सूरौ-आचार्यसमीपे पुनग्र्राह्यं प्रतिष्ठाप्यं साधुना। किं तत्? प्रत्याख्यानादि कया? लघ्व्या सि(भक्त्या। ...... लघुयोगिभक्त्यधिकया। तथा वन्द्यः साधुना। कोऽसौ? सः सूरिः। कया? सूरिभक्त्या। किं विशिष्ट्या? लघ्व्या।;अनगार मूलप्रति पृष्ठ 649द्ध
अर्थात् अस्याभिप्रायोऽयं यत् भोजनस्थानानन्तरं शीघ्रमेव लघुसि(भक्ति पूर्वकं साधुरार्यिका प्रत्याख्यानं उपवासं गृह्णन्ति। एषः विधिस्तत्रैव भोजनप्रान्ते एव क्रियते। पुनः आचार्यसमीपमागत्य लघुसि(भक्तिं लघुयोगिभक्तिं चोच्चार्य पुनरपि गुरुसमीपे प्रत्याख्यानं उपवासं च गृहीत्वा लघुआचार्यभक्त्या आचार्यस्य वन्दना क्रियते।
शंका-यदा गुरोः समीपे प्रत्याख्यानमावश्यकमस्ति तु भोजनप्रान्ते साधवः किमर्थं प्रत्याख्यानं गृह्णन्ति?
समाधानम्-यदि भोजनप्रान्ताद् स्ववसतिकाऽऽगमनकाले गुरु समीपे मार्गे मरणं भवति तत् प्रत्याख्यानपूर्वकं भविष्यति। अतएव भोजनस्य प्रान्तेऽपि प्रत्याख्यानं गृह्यते।
अनेन प्रकारेणैव भोजनप्रान्ते नवधाभक्त्यादेः अनन्तरमेव सि(भक्तिपूर्वकं प्रत्याख्यानं निष्ठापनहेतवेऽपि अनगारधर्मामृते उल्लेखोऽस्ति यत्-
‘‘आहाराय साधुः यदि निष्क्रान्तोऽस्ति केनापि कारणवशात् केनापि प्रतिग्रहणं न ड्डतं अन्येन वा कारणेन सः स्व वसतिकां प्रतिनिवर्तते तु पुनः तस्मिन् दिने आहारार्थं न गच्छति- उपवासं करोति।’’ अतः इदं तात्पर्यमस्ति यत् आर्यिकाः अपि प्रत्याख्यानस्य निष्ठापनं भोजनप्रान्ते एव नवधाभक्त्या पश्चादेव कुर्युः।
आहारस्य षट्चत्वारिंशद्दोषातः-श्रावकस्य साधोश्च निमित्तादाहारे केषा´िचद् दोषाणां संभावना जायते। तान् दोषान् दूरीड्डत्य आहारोपभोगः आहारस्य शु(रुच्यते। उद्गमदोषः उत्पादन दोषः एषणा दोषः संयोजनादोषः प्रमाणदोषः इंगाल दोषः धूमदोषः कारणदोषाश्च, एतैः अष्टदोषरहितः आहारशु( भवति। दातुर्निमित्ताद उत्पन्नो दोषो उद्गमदोषः कथ्यते। साधुना भूताः आहारस्य दोषा उत्पादनसंज्ञकाः सन्ति। भोजनसम्बन्धिनो दोषाः एषणादोषाः कथ्यन्ते। संयोगाद् उत्पन्नो दोषः संयोजनादोषोऽस्ति। प्रमाणादधिकआहारस्य ग्रहणं प्रमाणदोषोऽस्ति। लंपटतापूर्वकं आहारस्य ग्रहणमिंगालदोषोऽस्ति। दातुर्भोजनस्य वा निन्दां ड्डत्वाऽऽहारग्रहणं धूमदोषः भवति। निषि( कारणैः निर्मितआहारः, तस्य ग्रहणं कारण- दोषोऽस्ति।
एतेभ्यः उद्गमस्य षोडश दोषाः, उत्पादनस्य षोडश, एषणायाः दश, संयोजनाप्रमाण- इंगालधूमस्य च एते षट्चत्वारिंशद् दोषाः भवन्ति। एतेषां विशेषवर्णनं चरणानुयोगस्य ग्रन्थेभ्यो मूलाचारादिभ्यः पठनीयं वर्तते।
एतदतिरिक्तमेकः अधःकर्म दोषोऽस्ति। यो महादोषः कथ्यते। अस्मिन् दोषे कुट्टनं चूर्णीकरणं भोजनालये पाककरणं जलपूर्णं प्रमार्जनं च एते पंचसूनाः दोषाः सन्ति। एतेषु षट्कायिकजीवानां विराधना भवति अयं दोषः गृहस्थैःड्डतोऽस्ति। एतान् दोषान् कुर्वन्ती आर्यिका वस्तुतः आर्यिका न मता। एषा वार्ता निश्चिताऽस्ति यत् गणिन्याः आर्यिकायाः संघे चतुर्विधसंघे वा स्थिताषु आर्यिकासु अस्य दोषस्य संभावना कथमपि नभवति। एकाकिनीसु आर्यिकासु साधुसु वा एते दोषाः कदाचित् संभवन्ति। अतः कुन्दकुन्दस्वामी आज्ञापितवान् यत्-
‘मा भूद मे सत्तुएगागी’ अर्थात् अस्मिन् पंचमकाले मम कोऽपि शत्रुः साधुरपि एकाकी न विचरतु। यतो हि एकाकीविहारे अन्येेऽपि केचिद् दोषा संलग्नाः भवितुं भयं भवति। स्त्रीपर्यायस्य कारणैः आर्यिकाः सदैव समूहं ड्डत्वैव तिष्ठन्तु। येन समस्ताः चर्याः निर्बाधरूपेण पालिताः स्युः।
आर्यिकाणां त्रयोदशक्रियाः काः सन्ति? षट् आवश्यकक्रियाः पंचपरमगुरोर्वन्दनां असही-निसही च एताः त्रयोदश क्रियाः आर्यिकाः प्रतिदिनमनुतिष्ठन्ति, एतासु आवश्यकक्रियाः पूर्वमेव वर्णिताः। अतएव पृथक् पृथक् एकस्मिन् समूहे वा पंचपरमेष्ठिनो वन्दना क्रियते। ‘असही-निसही, एतयोः तात्पर्यमिदं यत् वसतिकायाः बहिर्गमनसमये आर्यिकाः नवबारं ‘असही’ शब्दोच्चारणं कुर्वन्ति। तथा च वसतिकायां प्रवेशसमये नववारं ‘‘निसही’’ शब्दोच्चारणं कुर्वंति।
आर्यिका स्वावश्यकक्रियाणां पालनं कुर्वन्त्यः शेषं समयं निरन्तरं शास्त्रस्वाध्याये अध्ययनाध्यापने च व्यतीतं कुर्वन्ति। ताः सूत्रग्रन्थानामध्ययनं कर्तुं शक्नुवन्ति। यथा आचार्यः कुन्दकुन्दस्वामी मूलाचारग्रन्थे स्पष्टं ड्डतवान्-
‘‘अस्वाध्यायकाले मुनयः आर्यिकाश्च सूत्रग्रन्थानामध्ययनं न कुर्युः। परन्तु साधारणाः अन्ये ग्रन्थाः अस्वाध्यायकालेऽपि पठितंु शक्यन्ते।’’ एतेनैतेव सि(्यति यत् आर्यिका अपि स्वाध्यायकाले सि(ान्तग्रन्थान् पठितुं शक्नुवन्ति।
अन्यच्च आर्यिकाः द्वादशांगश्रुतस्यान्तर्गतानि एकादशांगान्यपि धारयितुं शक्नुवन्ति। यथा हरिवंशपुराणे कथनमस्ति-
द्वादशांगधरो जातः क्षिप्रं मेघेश्वरो गणी।
एकादशांगभृज्जाता सार्यिकापि सुलोचना।।
अर्थात् जयकुमारः शीघ्रमेव द्वादशांगानां पाठीभूत्वा भगवतो गणधरोऽभवत्। आर्यिका सुलोचना च एकादशांगानां धारिकाऽभवत्।
वर्तमानकाले दिगम्बरसंप्रदाये एकादशांगानां चतुर्दशपूर्वाणां चोपलब्धिर्नास्ति। ते चांशमात्रेणैवोपलब्धाः सन्ति। अतएव तेषामेवाध्ययनं कर्तव्यम्।
दिगम्बरजैनसम्प्रदायानुसारेण साध्वीनां द्वौ भेदौ स्तः। आर्यिका क्षुल्लिका च। धुनावधि संक्षेपेणार्यिकाणां स्वरूपं वर्णितम्। अधुनां श्राविकाणां आर्यिकादीक्षायाः पूर्वं क्षुल्लिकादीक्षामपि ग्रहीतुं परम्परास्ति। अतस्तासां क्रियाणामत्रसंक्षेपेण वर्णनमस्ति-क्षुल्लिकाः एकादशप्रतिमानां व्रतानि गृहीत्वा द्वयोः शाटिकयोः द्वयोश्च उत्तरीययोः परिग्रहं धारयन्ति। एतासां समस्ताः क्रियाः क्षुल्लकसदृश्यः भवन्ति। केशलुंचनं कुर्वन्ति कर्तर्या वा द्वयोस्त्रयोः चतुर्षु वा मासेसु शिरसः केशान् निष्कासयंति। एताः अपि आर्यिकाणां समीपे तिष्ठन्ति। तासां पश्चाच्च आहाराय निर्गच्छन्ति। पड़गाहनविधिना च श्रावकाणां गृहेषु भोजनं गृह््णन्ति अतः एतेन प्रकारेण स्त्रीषु साध्वीरूपेण आर्यिका क्षुल्लिका च एतौ द्वौ एव भेदौ स्तः। द्वयो पाश्र्वे मयूरपिच्छिका भवति। अभिप्रायोऽयं यत् क्षुल्लिकासमीपे उत्तरीयो भवति। पीतलधातोः स्टीलधातोः वा कमण्डलुर्भवति।
पूर्वग्रन्थानामवलोकनेन एतत् ज्ञायते यत् पूर्वस्मिन् अधिकांशरूपेण आर्यिका एव आर्यिकादीक्षां प्रदत्तवती। तीर्थंकराणां समवसरणेऽपि याः आर्यिकाः सर्वप्रथमं दीक्षिताः अभवन् ता एव गणिन्याः भारं निर्वाढंु प्रयतन्ते। तीर्थंकरदेवेभ्यः अतिरिक्तं कैश्चित् आचार्यैः आर्यिकादीक्षां प्रदातंु उदाहरणानि न्यूनतयैवोपलब्धानि सन्ति। एतासामार्यिकाणां दीक्षायै जैनेश्वरी दीक्षा शब्दोऽपि प्राप्यते। एताश्च ‘‘महाव्रतपवित्रांगा’’ अपि कथिताः। ‘‘संयमिनी, संयतिका’’ संज्ञाः अपि प्रदत्तास्ति।
यदाऽऽर्यिकाणां व्रतानि उपचारेण महाव्रतान्युक्तानि संल्लेखनाकाले च उपचारात् निग्र्रन्थतायाः उल्लेखोऽस्ति अतएव ताः मुनयः इव वन्दनीयाः भवन्ति। एतदेवावधार्य आगममर्यादायाः पालनं कुर्वन्तः आर्यिकाभ्यः नवधाभक्तिपूर्वंकं आहारं ददति। समयानुसारेणैव यथोचितां भक्तिं कुर्युः ताभ्यश्च पिच्छिकायाः कमण्डलोश्च दानं कर्तव्यम्।
वर्तमानकालस्य आर्यिकाः-प्राचीनकाले यथा आर्यिकाः, आचार्याणां संघे अतिष्ठन् पृथक् पृथक् च आर्यिका संघं ड्डत्वा विचरन्ति स्म, तथैव वर्तमानकालेऽपि आचार्यअभिनन्दनसागरस्य, आचार्यवर्धमानसागरस्य, आदीनामन्येषां च महतां साधूनां संघेषु च आर्यिकाः क्षुल्लिकाः तिष्ठन्ति तथैव गणिनी आर्यिका श्रीज्ञानमती माता, गणिनी आर्यिका श्री सुपाश्र्वमती माता, गणिनी आर्यिका श्रीविशु(मती आदयः अनेकविदुष्यः आर्यिकाः स्व पृथक् संघैः सहापि विचरन्त्यः धर्मस्य ध्वजां आन्दोलितां कुर्वन्ति।
गणिनीआर्यिका श्री ज्ञानमती माता संप्रति सर्वआर्यिकासु प्राचीना दीक्षिता सर्वप्रमुखा आर्यिका अस्ति। या चारित्रचक्रवर्तिनः आचार्यश्रीशान्तिसागरस्य दर्शनं ड्डत्वा तस्य आज्ञया तस्य प्रथमपट्टशिष्यआचार्यश्रीवीरसागरस्य करकमलाभ्यां आर्यिका दीक्षां गृहीत्वा ‘ज्ञानमती’ इति सार्थकं नाम अग्रह्णात्। शताब्द्याः प्रथमाचार्यात् प्रारभ्य अद्यावधि या समस्तैराचार्यैरनुभवं ज्ञानं च प्राप्नोत्।
संघस्य समस्ताः आर्यिकाः गणिन्याः आर्यिकायाः प्रमुखायाः च अन्यस्या आर्यिकायाः अनुशासने तिष्ठन्ति। प्रमुखाश्चार्यिकाः ताः धार्मिकाणां ग्रन्थान् अध्ययनमध्यापनं कारयन्ति तासां च स्वाध्यायायलेखनकार्याय च ग्रन्थानां मसीनां लेखिन्या कर्गलस्य च प्रबन्धं श्रावकाः श्राविकाश्च कुर्वन्ति। वस्त्राणां च स्फाटने भक्तिपूर्वकं ताभ्यः वस्त्राणिश्वेतशाटिके प्रददति। पिच्छिकायै मयूरपक्षान् आदाय प्रददति? आर्यिकाश्च स्वपदानुरूपेण सार्धुचर्यां पालयन्ति, पदविरु(ानि श्रावकोचितकार्याणि न विदधति। तदैव तासामात्मनः कल्याणं स्त्रीलिंगछेदनं भवति। ध्यानेनाध्ययनेन च सार्धमस्मिन् युगेऽपि मासपर्यन्तमुपवासं कुर्वन्त्यस्तपस्विन्यः आर्यिकाः अपि दृश्यन्ते। वर्षे 1971 वर्षस्य चतुर्मासे अजमेरनगर्यामाचार्यश्रीधर्मसागरस्य संघस्य आर्यिका श्रीशान्तिमती माता षोडशकारण उपवासस्य मध्ये तथा ज्ञानमतीमातुः शिष्या आर्यिका पद्मावती माता भाद्रपदमासे षोडशकारणस्य एकत्रिंशत् उपवासान् कुर्वन्त्यौ उत्ड्डष्टःसमाधि- मधिगते अभवताम्। ययोश्च दर्शनसौभाग्यं आर्यिका चन्दनामत्यपि प्राप्नोत्। अनेनैव प्रकारेण अष्ट-दश-षोडशादिउपवासान् कुर्वन्त्यः आर्यिकाः अद्यापि उपलब्धाः सन्ति। याः सम्यक्त्वसहितानि व्रतानि पालयन्त्यो याः निश्चितरूपेण स्त्रीपर्यायान्मुक्ता क्रमशः देवपर्यायं प्राप्य, तत्रतः समागत्य मनुष्यभवे निग्र्रन्थदीक्षां धृत्वा मोक्षं प्राप्स्यन्ति।
आर्यिकाणां उत्ड्डष्टचर्यां चतुर्थकाले ब्राह्मी चन्दनादि आर्यिकाः पालनं कुर्वन्त्यः अभवन्। पंचमकालस्य च अन्तपर्यन्तमेवं विधायाः चर्यायाः पालयन्त्यः आर्यिकाः भविष्यन्त्येव। यदा पंचमकालस्यान्ते वीरांगज नाम्नो मुनिराट् सर्वश्री नामिकाऽऽर्यिका अग्निदत्तः श्रावकः पंगुश्री श्राविका च एवं विधश्चतुर्विधः संघः भविष्यति। तदा कल्की मुनिराज्ञः आहारस्य प्रथमग्रासस्य कररूपेण याचनया अन्तरायं ड्डत्वा चतुर्विधः संघो सल्लेखनां धारयिष्यति। सर्वे धर्मा, अग्निः राज्ञां च अन्तो भविष्यति। अतः भगवतः महावीरस्य शासने अद्यावधि अक्षुण्ण जैनशासनं प्रवर्तते। मुनीनामार्यिकाणां च परम्पराप्यनेनैव प्रकारेण पंचमकालस्य अन्तपर्यन्तं संचालिता भविष्यति, नात्र मनाक् सन्देहः।
अत्रपर्यन्तं भवद्भिः आर्यिकाचर्याविषये ज्ञानं प्राप्तम्। अधुना भवतः समक्षं एवंविधायाः गणिन्याः महत्याः आर्यिकायाः परिचयः प्रस्तूयते या विंशत्यां शताब्द्यां कुमार्याः कन्यायाः रूपेण दीक्षां गृहीत्वा त्यागस्य मार्गं प्रशस्तमकरोत्। यतो हि अष्टपंचाशत् वर्षीयं दीर्घकालं जीवनवृत्तं कतिचिद् पृष्ठेषु निबन्धनं कठिनं प्रतीयते तथापि गुरुभक्तिवशात् एव तस्याः जीवनस्य महत्वपूर्णांशांत् लेखनीब(न् कर्तुं लघुप्रयासं करोमि।
।। इति प्रथमोऽध्यायः।।


आचारसार ग्रंथ में वर्णन आया है-

ऋतौ स्नात्वा तु तुर्येन्हि, शुद्धंत्यरसभुक्तय:।

कृत्वा त्रिरात्रमेकांतरं वा सज्जपसंयुता:।।९०।।

अर्थात् रजस्वला अवस्था में तीन दिनों तक यदि उपवास की शक्ति नहीं है तो छहों रस का त्याग कर नीरस आहार करती हैं तथा चौथे दिन कोई श्राविका इन्हें गरम जल से स्नान करा देती है, तब वह आर्यिका शुद्ध होकर अपनी गणिनी के पास जाकर प्रायश्चित्त ग्रहण करती हैं।

यह तो पहले बताया ही जा चुका है कि आर्यिकाएं बैठकर करपात्र में भोजन ग्रहण करती हैं। आर्यिकाएं उपचार से महाव्रती होती हैं और वे पंचम गुणस्थान से ऊपर नहीं जा सकती हैं तथापि चतुर्विध संघ में मुनियों के बाद आर्यिका की पदवी मानी जाती है। ऐलक और क्षुल्लक दीक्षा में उनसे प्राचीन भी क्यों न हों, फिर भी वे आर्यिकाओं को ‘‘वंदामि’’ कहकर नमस्कार करते हैं और आर्यिकाएँ उन्हें ‘‘समाधिरस्तु’’ आशीर्वाद प्रदान करती हैं। गुणस्थान व्यवस्था तीनों की एक सदृश है, फिर भी कर्मनिर्जरा क्षुल्लक-ऐलक की अपेक्षा आर्यिका की अधिक होती है चूँकि वे एक साड़ी धारण करती हुई भी मुनियों के समान अट्ठाईस मूलगुणों का पालन करती हैं।

आहार विधि-चतुर्विध संघ की क्रम परम्परा में आहारचर्या के लिए आर्यिकाएँ मुनियों के पश्चात् जिनेन्द्र भगवान के दर्शन करती हुई क्रमपूर्वक निकलती हैं। श्रावक-श्राविकाएँ अपने-अपने चौके के सामने उनका पड़गाहन करते हैं।

हे माताजी! वंदामि-वंदामि, अत्र तिष्ठ-तिष्ठ, आहार जल शुद्ध है। इतना बोलने पर जब एक-दो आदि आर्यिकाएँ वहाँ खड़ी हो जाती हैं, तब दातार उनकी प्रदक्षिणा लगाकर उन्हें चौके में ले जाते हैं और स्वच्छ पाटे पर बैठने के लिए निवेदन करते हैं कि माताजी! उच्चासन पर विराजिए। पुन: आसन ग्रहण कर लेने पर उनके चरण प्रक्षालन करके गंधोदक मस्तक पर चढ़ाते हैं और अष्टद्रव्य से पूजा करके नमस्कार करते हैं।

इसके पश्चात् थाली में भोजन परोसकर और जल, दूध आदि सामने लाकर दिखाती हैं। आर्यिका माताजी का जो कुछ त्याग होता है, वे उसे निकलवा देती हैं, तब दातार शुद्धि बोलकर आहार शुरू करवाते हैं।

यह नवधाभक्ति की प्रक्रिया है। जैसा कि आचार्यों ने कहा भी है-

पडिगहमुच्चट्ठाणं, पादोदयमच्चणं च पणमं च।

मणवयणकाय सुद्धी, एसणसुद्धी य णवविहं पुण्णं।।

आहार के काल में श्रावकों के द्वारा यह नवधाभक्ति करनी आवश्यक होती है। जैसा कि चारित्रचक्रवर्ती आचार्य श्री शांतिसागर महाराज की संघ परम्परा में चला आ रहा है। यदि यह पूरी नवधाभक्ति चौके में नहीं होती है तो आर्यिकाएँ बिना आहार किए ही चौके से वापस आ जाती हैं। इस प्रकार से नवधाभक्ति होने के बाद, आहार शुरू करने से पूर्व, आर्यिका माताजी हाथ धोकर प्रत्याख्यान निष्ठापन क्रियापूर्वक सिद्धभक्ति करती हैं। जैसे-‘नमोस्तु आहार प्रत्याख्यान निष्ठापन क्रियायां सिद्धभक्ति कायोत्सर्गं करोम्यहं’’ बोलकर ९ बार णमोकार मंत्र पढ़कर लघु सिद्धभक्ति और अंचलिका पढ़कर हाथ की अंजुलि बनाती हैं, जिसमें दातार सर्वप्रथम गरम प्रासुक जल देते हैं पुन: भोजन, दूध आदि क्रमपूर्वक देते हैं। यदि किसी रोग के निमित्त से औषधि आदि की आवश्यकता होती है तो श्रावक उसी समय शुद्ध प्रासुक दवा भी दे देते हैं। आहार पूरा होने के बाद हाथ धोकर, कुल्ला करके वहीं पर लघु सिद्धभक्तिपूर्वक प्रत्याख्यान ग्रहण कर लेती हैं और कमण्डलु में जल भराकर वहाँ से आ जाती हैं। साथ में श्रावक-श्राविका उनके स्थान तक पहुँचाने के लिए उनके साथ भी आते हैं।

वे आर्यिका जी आहार से वापस आकर अपनी गणिनी के पास पुन: प्रत्याख्यान-अगले दिन आहार ग्रहण करने तक चतुराहार का त्याग कर देती हैं। चौके में पहुँचकर प्रत्याख्यान निष्ठापन करने तथा आहार के बाद चौके में प्रत्याख्यान प्रतिष्ठापन एवं उसके पश्चात् गुरु के पास आकर प्रत्याख्यान ग्रहण करने की यह समस्त विधि आचारसार, अनगारधर्मामृत आदि ग्रंथों में वर्णित है। कोई-कोई साधु और आर्यिकाएँ आहारचर्या से पूर्व मंदिर में या गुरु के पास ही सिद्धभक्तिपूर्वक प्रत्याख्यान निष्ठापन कर लेते हैं पुन: आहार को जाते हैं, सो ठीक नहीं है क्योंकि अनगारधर्मामृत और आचारसार में स्पष्ट कहा है-

१.‘‘हेयं-त्याज्यं साधुना। निष्ठाप्यमित्यर्थ:। किं तत्? प्रत्याख्यानादि-प्रत्याख्यानमुपोषितं वा। क्व? अशनादौ-भोजनारंभे। कया? सिद्धभक्त्या। किं विशिष्ट्या? लघ्व्या।’’
(अनगारधर्मामृत मूलप्रति पृ. ६४९)
२. आत्मोचितासनासीनो दातृप्रक्षालितक्रम:।

ऊध्र्वाध:पाश्र्वदिक्कोणनिक्षेपानिरीक्षण:।।११८।।
वर्णी पूर्णप्रतिज्ञोऽथ सिद्धभत्तिं विधाय तत्।
प्रत्याख्यानं विनिष्ठाप्य प्रेरितो भक्तदातृभि:।।११९।।

(आचारसार पृ. १३४)

इसी प्रकार से इन ग्रंथों में मुनियों के लिए आहार के पश्चात् चौके में और पुन: गुरु के पास आकर प्रत्याख्यान ग्रहण करने का भी खुलासा है। वही सम्पूर्ण विधि आर्यिकाओं को भी सावधानीपूर्वक पालन करनी होती है। यथा-

‘‘आदेयं च-लघ्व्या सिद्धभक्त्या प्रतिष्ठाप्यं साधुना। किं तत्? प्रत्याख्यानादि। क्व? अंते प्रक्रमाद् भोजनस्यैव प्रान्ते। कथं? आशु-शीघ्रं भोजनांतरमेव। आचार्यासन्निधावेतद्विधेयं।’’

सूरौ-आचार्यसमीपे पुनग्र्राह्यं प्रतिष्ठाप्यं साधुना। किं तत्? प्रत्याख्यानादि। कया? लघ्व्या सिद्धभक्त्या.........लघुयोगिभक्त्यधिकया। तथा वंद्य: साधुना। कौऽसौ? स सूरि:। कया? सूरिभक्त्या। िंकविशिष्ट्या? लघ्व्या।

(अनगार मूलप्रति पृ. ६४९)


अर्थात् इसका अभिप्राय यह है कि भोजन के अनंतर शीघ्र ही लघु सिद्धभक्तिपूर्वक साधु या आर्यिका प्रत्याख्यान अथवा उपवास ग्रहण कर लेते हैं। यह विधि वहीं चौके में की जाती है पुन: आचार्य के पास आकर लघु सिद्धभक्ति और लघुयोगिभक्ति बोलकर पुनरपि गुरु के पास प्रत्याख्यान या उपवास ग्रहण करके लघु आचार्यभक्ति द्वारा आचार्य की वंदना की जाती है।

शंका-जब गुरु के पास प्रत्याख्यान आवश्यक है तो चौके में साधु प्रत्याख्यान क्यों ग्रहण कर लेते हैं?

समाधान-यदि चौके से अपनी वसतिका में गुरु के पास आते हुए मार्ग में मरण भी हो जाये तो वह प्रत्याख्यानपूर्वक होगा, इसलिए चौके में भी प्रत्याख्यान ग्रहण किया जाता है।

इसी प्रकार से चौके में नवधाभक्ति के बाद ही सिद्धभक्तिपूर्वक प्रत्याख्यान निष्ठापना करने का हेतु भी अनगारधर्मामृत में दिया है कि- ‘‘आहार के लिए साधु यदि निकल चुके हैं और किसी कारणवश किसी ने पड़गाहन नहीं किया या कुछ अन्य कारण से वे वापस अपनी वसतिका में आ जाते हैं तो पुन: उस दिन आहार के लिए नहीं जाते हैं-उपवास करते हैं। अत: तात्पर्य यह निकलता है कि आर्यिकाओं को भी प्रत्याख्यान की निष्ठापना चौके में नवधाभक्ति के बाद ही करनी चाहिए।

आहार के ४६ दोष-श्रावक और साधु दोनों के निमित्त से आहार में कुछ दोषों की संभावना होती है। उन दोषों को टालकर आहार करना आहारशुद्धि कहलाती है। उद्गम दोष, उत्पादन दोष, एषणा दोष, संयोजना दोष, प्रमाण दोष, इंगाल दोष, धूम दोष और कारण दोष इन आठ दोषों से रहित आहार शुद्धि होती है। दातार के निमित्त से हुए दोष उद्गम दोष हैं। साधु के द्वारा आहार में हुए दोष उत्पादन संज्ञक हैं। भोजन संबंधी दोष एषणा दोष हैंं। संयोग से होने वाला संयोजना दोष है। प्रमाण से अधिक आहार लेना प्रमाण दोष है। लंपटतापूर्वक आहार लेना इंगाल दोष है। दातार की या भोजन की निंदा करके आहार लेना धूम दोष है और विरुद्ध कारणों से बना हुआ आहार लेना कारण दोष है।

इनमें से उद्गम के १६, उत्पादन के १६, एषणा के १० तथा संयोजना, प्रमाण, इंगाल और धूम ये ४६ दोष होते हैं, जिनका विशेष वर्णन चरणानुयोग के ग्रंथ मूलाचार आदि से जानना चाहिए।

इन सबसे अतिरिक्त एक अध:कर्म दोष है, जो महादोष कहलाता है। इसमें कूटना, पीसना, रसोई करना, पानी भरना और झाडू लगाना ऐसे पंचसूना नाम के आरंभ से षट्कायिक जीवों की विराधना होने से यह दोष गृहस्थाश्रित है। इसको करने वाली आर्यिका वास्तव में आर्यिका नहीं मानी जाती है। यह बात निश्चित है कि गणिनी आर्यिका के संघ में या चतुर्विध संघ में रहने वाली आर्यिकाओं में इस दोष की संभावना कथमपि नहीं रहती है। हाँ! एकाकी विचरण करने वाली आर्यिका या साधु में यह दोष कदाचित् संभव हो सकते हैं। इसीलिए कुन्दकुन्द स्वामी ने आज्ञा दी है-

‘‘मा भूद मे सत्तु एगागी’’ अर्थात् इस पंचमकाल में मेरा कोई शत्रु साधु भी एकाकी विचरण न करे क्योंकि एकलविहार में और भी कई दोष लगने का भय रहता है। स्त्रीपर्याय होने के नाते आर्यिकाओं को हमेशा समूह बनाकर ही रहना चाहिए ताकि समस्तचर्या का निर्बाध रूप से पालन हो सके। आर्यिकाओं की १३ क्रियाएं कौन-कौन सी हैं? छह आवश्यक क्रियाएँ, पंचपरमगुरु की वंदना तथा असही-निसही ये तेरह क्रियाएँ आर्यिकाएँ प्रतिदिन करती हैंं। इनमें से आवश्यक क्रियाओं का वर्णन तो पहले किया जा चुका है, ऐसे ही पृथक-पृथक या एक साथ पंचपरमेष्ठी की वंदना भी की जाती है। असही और निसही का मतलब यह है कि वसतिका से बाहर जाते समय आर्यिकाएं नौ बार ‘असही’ शब्द का उच्चारण करती हैं तथा वसतिका में प्रवेश करते समय नौ बार ‘निसही’ शब्द का उच्चारण करती हैं।

आर्यिकाएँ अपनी आवश्यक क्रियाओं का पालन करते हुए शेष समय निरन्तर शास्त्र स्वाध्याय, अध्ययन-अध्यापन में लगाती हैं। वे सूत्र ग्रंथों का भी अध्ययन कर सकती हैं। जैसा कि आचार्य श्री कुन्दकुन्द स्वामी ने मूलाचार ग्रंथ में स्पष्ट किया है-

‘अस्वाध्याय काल में मुनि और आर्यिकाओं को सूत्रग्रंथों का अध्ययन नहीं करना चाहिए किन्तु साधारण अन्य ग्रंथ अस्वाध्याय काल में भी पढ़ सकते हैं।’ इससे यह बात सिद्ध हो जाती है कि आर्यिकाएँ भी स्वाध्यायकाल में सिद्धांत ग्रंथों को पढ़ सकती हैं।

दूसरी बात यह है कि आर्यिकाएँ द्वादशांग श्रुत के अन्तर्गत ग्यारह अंगों को भी धारण कर सकती हैं, जैसा कि हरिवंशपुराण में कथन आया है-

द्वादशांगधरो जात: क्षिप्रं मेघेश्वरो गणी।

एकादशांगभृज्जाता सार्यिकापि सुलोचना।।

अर्थात् मेघेश्वर जयकुमार शीघ्र ही द्वादशांग के पाठी होकर भगवान के गणधर हो गये और आर्यिका सुलोचना भी ग्यारह अंगों की धारक हो गर्इं। वर्तमान में दिगम्बर सम्प्रदाय में ग्यारह अंग और चौदह पूर्व की उपलब्धि नहीं है, उनका अंश मात्र उपलब्ध है अत: उन्हीं का अध्ययन करना चाहिए।

दिगम्बर जैन सम्प्रदाय के अनुसार साध्वियों के दो भेद हैं-आर्यिका और क्षुल्लिका। अभी तक संक्षेप में आर्यिका का स्वरूप बतलाया है, कुछ श्राविकाओं की आर्यिका दीक्षा के पूर्व क्षुल्लिका दीक्षा भी लेने की परम्परा रही है अत: उनकी क्रियाओं के बारे में भी संक्षेप में यहाँ वर्णन है-क्षुल्लिकाएँ ग्यारह प्रतिमा के व्रतों को धारण कर दो धोती और दो दुपट्टे का परिग्रह रखती हैं। इनकी समस्त चर्या क्षुल्लक के सदृश होती है। ये केशलोंच करती हैं अथवा कैची से दो, तीन या चार महीने में सिर के केश निकालती हैं। ये भी आर्यिकाओं के पास में रहती हैं, उनके पीछे आहार को निकलकर पड़गाहन विधि से श्रावकों के यहाँ पात्र में भोजन ग्रहण करती हैं। इस प्रकार से स्त्रियों में साध्वीरूप में आर्यिका और क्षुल्लिका ये दो भेद ही होते हैं। दोनों के पास मयूर पिच्छिका रहती है। पहचान के लिए क्षुल्लिका के पास चादर रहती है और पीतल या स्टील का कमण्डलु रहता है।

प्राचीन ग्रंथों का अवलोकन करने पर ज्ञात होता है कि पूर्व में अधिकतर आर्यिकाएँ ही आर्यिका दीक्षा प्रदान करती थीं। तीर्थंकरों के समवसरण में भी जो आर्यिका सबसे पहले दीक्षित होती थीं, वे ही गणिनी के भार को संभालती थीं। तीर्थंकर देव के अतिरिक्त किन्हीं आचार्यों द्वारा आर्यिका दीक्षा देने के उदाहरण प्राय: कम मिलते हैं। इन आर्यिकाओं की दीक्षा के लिए जैनेश्वरी दीक्षा शब्द भी आया है। इन्हें ‘‘महाव्रतपवित्रांगा’’ भी कहा है और ‘‘संयमिनी, संयतिका’’ संज्ञा भी दी है।

जब आर्यिकाओं के व्रत को उपचार से महाव्रत कहा है और सल्लेखनाकाल में उपचार से निग्र्रंथता का आरोपण किया है इसीलिए वे मुनियों के सदृश वंदनीय होती हैं, ऐसा समझकर आगम की मर्यादा को पालते हुए आर्यिकाओं की नवधाभक्ति करके उन्हें आहारदान देना चाहिए और समयानुसार यथोचित भक्ति करना, उन्हें पिच्छी-कमण्डलु, शास्त्र आदि दान भी देना चाहिए।

वर्तमान की आर्यिकाएँ-प्राचीनकाल में जैसे आर्यिकाएं, आचार्यों के संघ में भी रहती थीं और पृथक भी आर्यिका संघ बनाकर विचरण करती थीं, उसी प्रकार वर्तमान में भी आचार्य श्री अभिनंदनसागर महाराज, आचार्य श्री वर्धमानसागर जी महाराज आदि बड़े-बड़े संघों में भी आर्यिकाएँ-क्षुल्लिकाएँ रहती हैं तथा गणिनी आर्यिका श्री ज्ञानमती माताजी, गणिनी आर्यिका श्री सुपार्श्वमती माताजी, गणिनी आर्यिका श्री विशुद्धमती माताजी आदि अनेकों विदुषी आर्यिकाएँ अपने-अपने पृथक् संघों के साथ भी विचरण करती हुई धर्म की ध्वजा फहरा रही हैं।

गणिनी आर्यिका श्री ज्ञानमती माताजी वर्तमान में समस्त आर्यिकाओं में सर्वप्राचीन दीक्षित सबसे बड़ी आर्यिका हैं, जिन्होंने चारित्रचक्रवर्ती आचार्य श्री शांतिसागर महाराज के दर्शन कर उनकी आज्ञा से उनके प्रथम पट्टशिष्य आचार्य श्री वीरसागर महाराज के करकमलों से आर्यिका दीक्षा धारण कर ‘ज्ञानमती’ इस सार्थक नाम को प्राप्त किया है तथा शताब्दी के प्रथम आचार्य से लेकर अद्यावधि समस्त आचार्यों से अनुभव ज्ञान प्राप्त किया है।

संघ की सभी आर्यिकाएँ गणिनी आर्यिका के या किसी प्रमुख आर्यिका के अनुशासन में रहती हैं, प्रमुख आर्यिकाएँ उन्हें धर्म ग्रंथों का अध्ययन भी कराती हैं। इनके स्वाध्याय के लिए या लेखन कार्य के लिए ग्रंथ, स्याही, कलम, कागज आदि की व्यवस्था श्रावक-श्राविकाएँ करते हैं। वस्त्र फटने पर भक्तिपूर्वक उन्हें वस्त्र (सफेद साड़ी) प्रदान करते हैं। पिच्छी के लिए मयूर पंख लाकर देते हैं। आर्यिकाएँ भी अपने पद के अनुरूप साधुचर्या का पालन करती हैं, पद के विरुद्ध श्रावकोचित कार्यों को नहीं करती हैं, तभी उनकी आत्मा का कल्याण और स्त्रीलिंग का छेदन संभव हो पाता है। ध्यान, अध्ययन के साथ-साथ इस युग में भी महीने-महीने तक का उपवास करने वाली तपस्विनी आर्यिकाएं भी हो चुकी हैं। सन् १९७१ के चातुर्मास में अजमेर नगरी में आचार्य श्री धर्मसागर महाराज के संघ की आर्यिका श्री शांतिमती माताजी सोलहकारण के उपवास करते हुए मध्य में तथा आर्यिका श्री पद्मावती माताजी (ज्ञानमती माताजी की शिष्या) भादों के महीने में सोलहकारण के बत्तीस उपवास करते हुए ३१वें उपवास में उत्कृष्ट समाधि प्राप्त कर चुकी हैं, जिनके दर्शन करने का सौभाग्य मुझे भी (आर्यिका चंदनामती को) प्राप्त हो चुका है। इसी प्रकार से आठ-दस-सोलह आदि उपवास करने वाली आर्यिकाएँ आज भी विद्यमान हैं जो सम्यक्त्व सहित निर्दोष व्रतों का पालन करते हुए निश्चित ही स्त्रीपर्याय से छूटकर क्रम से देवपर्याय प्राप्त कर, वहाँ से आकर मनुष्य भव में निग्र्रन्थ दीक्षा धारण कर मोक्ष प्राप्त करेंगी।

आर्यिकाओं की उत्कृष्ट चर्या चतुर्थकाल में गणिनी माता ब्राह्मी, महासती चंदना आदि माताएँ पालन करती थीं तथा पंचमकाल के अंत तक भी ऐसी चर्या का पालन करने वाली आर्यिका होती रहेंगी। जब पंचमकाल के अन्त में वीरांगज नाम के मुनिराज, सर्वश्री नाम की आर्यिका, अग्निदत्त श्रावक और पंगुश्री श्राविका इस प्रकार चतुर्विध संघ होगा, तब कल्की द्वारा मुनिराज के आहार का प्रथम ग्रास टैक्स के रूप में मांगने पर अन्तराय करके चतुर्विध संघ सल्लेखना धारण कर लेगा, तभी धर्म, अग्नि और राजा तीनों का अन्त हो जायेगा। अत: भगवान महावीर के शासन में आज तक अक्षुण्ण जैनशासन चला आ रहा है। मुनि- आर्यिकाओं की परम्परा भी इसी प्रकार से पंचमकाल के अन्त तक चलती रहेगी, इसमें कोई संदेह नहीं है।

यहाँ तक तो आपने आर्यिकाओं की चर्या के बारे में जानकारी प्राप्त की। अब आपके समक्ष एक ऐसी महान ‘गणिनी आर्यिका श्री’ का परिचय प्रस्तुत किया जा रहा है, जिन्होंने बीसवीं सदी में कुंवारी कन्या के रूप में दीक्षा लेकर त्याग का मार्ग प्रशस्त किया। चूँकि उनके ५८ वर्षीय दीक्षा के दीर्घकाय जीवनवृत्त को कुछ पृष्ठों में निबद्ध करना कठिन प्रतीत होता है तथापि गुरुभक्तिवश ही उनके जीवन के महत्त्वपूर्ण अंशों को लेखनीबद्ध करने का लघुप्रयास कर रही हूँ।


उपसंहारः

अष्टाविंशति निर्गुणै र्विलसिताः मूलैर्जिनाः साधवः,

तस्मादेव पवित्र संयम धनैस्तेसन्ति सम्मानिताः।
सर्वैर्जैन समाज श्रावकगणैस्ते सर्वदा वन्दिताः,
तेषां पावन पादपद्मयुगलं भूयात् सदा मुक्तये।।1।।
साध्व्यो मूलगुणैर्भवन्ति सततं जैनार्यिकाः विश्रुताः,
तास्तुल्याः मुनिभिः सदैव निखिलैः पूज्याः शिरोभिर्वतैः।
तासामाचरणं कदापि शिथिलं न्यूनंनसाभोः पदात्,
तत् साधुद्वयसंगमस्तु सततं श्रेयस्करो नो भवेत्।।2।।
ते सर्वे शुत्म शोधन पराः संसार रागापहाः,
निर्ग्रन्थाः विष तुल्य भोगरहिताः स्वच्छात्म चिन्तारताः।
सर्वारम्भ त्यजंति शुहृदयाः मुक्तित्रयाराधकाः,
वन्द्यास्ते हि दिगम्बराः मुनिगणाः मोक्षार्थिनः सर्वदा।।3।।
माता ज्ञानमती वरिष्ठ गणिनी जैनार्यिकाणां मणिः,
तत्त्वज्ञानमये निजात्मसदने निश्चिन्तभावैः स्थिता।
ज्ञान-ध्यान-परायणा सितमते श्रमयी योगिनी,
तस्याः पादसरोज भक्तिरमला तिष्ठेन्मनो मन्दिरे।।4।।

उपसंहारः

अट्ठाईस मूलगुणों से सुशोभित जैन साधु हैं, इसीलिए पवित्र संयम के धन से ये सम्मानित हैं। सभी जैन समाज के श्रावकों के द्वारा वे वंदित हैं, उनके पवित्र दोनों चरण हमारी मुक्ति के लिए होंवे।।१।।

जैन साध्वी आर्यिकाएँ उन मूलगुणों के द्वारा ही प्रसिद्ध हैं, वे सभी मुनियों के समान ही सभी मस्तकों के द्वारा सदा पूज्य हैं। वे अपने आचरण में कभी शिथिलता नहीं लाती हैं। ऐसे उन दोनों प्रकार के साधुओं की-मुनि-आर्यिकाओं की संगति हमारे लिए सदैव कल्याणकारी होवे।।२।।

वे सभी सद्गुरु अपनी आत्मा को शुद्ध करने में लगे हुए हैं और संसार के राग को नष्ट करने वाले है। निग्र्रंथ हैं विष के समान भोगों से रहित अपनी शुद्ध आत्मा के चिन्तन में रत हैं। सभी आरंभ और परिग्रहों से रहित शुद्ध हृदय वाले हैं और तीनों गुप्तियों के आराधक हैं। वे सभी वंदनीय दिगम्बर जैन मुनि मोक्ष के अभिलाषी हैं।।३।।

माता ज्ञानमती वरिष्ठ गणिनी जैन आर्यिकाओं में मणि हैं। तत्त्वज्ञान से युक्त अपने हृदय मंदिर में निश्चितरूप से स्थिर हैं। ज्ञान-ध्यान में परायण हैं और जैन धर्म में सदा श्रद्धा रखने वाली हैं, योगिनी हैं। उनके चरण कमलों की निर्मल भक्ति हमेशा मेरे मनोमंदिर में स्थिर रहे।।४।।