08. अपूर्वकरण गुणस्थान

ENCYCLOPEDIA से
Editor (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित २२:०२, ३० दिसम्बर २०१३ का अवतरण (८. अपूर्वकरण गुणस्थान)
(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


८. अपूर्वकरण गुणस्थान

8 va gunstan.jpg

अध:प्रवृत्तकरण में अंतर्मुहूर्त रहकर ये मुनि प्रतिसमय अनंतगुणी विशुद्धि को प्राप्त होते हुए एवं पूर्व में कभी भी नहीं प्राप्त हुए ऐसे अपूर्वकरण जाति के परिणामों को प्राप्त होते हैं । यहाँ पर एक समयवर्ती मुनियों के परिणामों में सदृशता और विसदृशता दोनों ही होती है । इसका काल भी अंतर्मुहूर्त है ।