"11. विश्व की प्राचीनतम लिपि: ब्राह्मी लिपि" के अवतरणों में अंतर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
[अनिरीक्षित अवतरण][अनिरीक्षित अवतरण]
('श्रेणी:जैन_धर्म_की_गौरव_गाथा ==<center><font color=#B22222>'''विश्व क...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
छो
 
(२ सदस्यों द्वारा किये गये बीच के २ अवतरण नहीं दर्शाए गए)
पंक्ति २: पंक्ति २:
  
  
==<center><font color=#B22222>'''विश्व की प्राचीनतम लिपि: ब्राह्मी लिपि'''</font color></center>==  
+
==<center><font color=#B22222>'''विश्व की प्राचीनतम लिपि: ब्राह्मी लिपि'''</font></center>==  
[[चित्र:Scan_Pic0010.jpg|center|300px|]]
+
[[चित्र:Scan_Pic0010.jpg|center|300px]]
  
 
ब्राह्मी लिपि भारतवर्ष की प्राचीनतम लिपि है।
 
ब्राह्मी लिपि भारतवर्ष की प्राचीनतम लिपि है।
तीर्थज्र्र ऋषभदेव की ब्राह्मी और सुन्दरी दो पुत्रियाँ थीं। बाल्यावस्था में वे ऋषभदेव की गोद में जाकर बैठ गई। ऋषभदेव ने उनके विद्याग्रहण का काल जानकर लिपि और अंकों का ज्ञान कराया।
+
तीर्थंकर ऋषभदेव की ब्राह्मी और सुन्दरी दो पुत्रियाँ थीं। बाल्यावस्था में वे ऋषभदेव की गोद में जाकर बैठ गईं। ऋषभदेव ने उनके विद्याग्रहण का काल जानकर लिपि और अंकों का ज्ञान कराया।
  
ब्राह्मी दायीं ओर और सुन्दरी बायीं ओर बैठी थी, ब्राह्मी को वर्णमाला का बोध कराने के कारण लिपि बायीं ओर दायीं ओर लिखी जाती है। सुन्दरी को अंक का बोध कराने के कारण अंक बायीं से दायीं ओर ओर इकाई, दहाई........के रूप में लिखे जाते हैं।
+
ब्राह्मी दायीं ओर और सुन्दरी बायीं ओर बैठी थी, ब्राह्मी को वर्णमाला का बोध कराने के कारण लिपि बायीं ओर से दायीं ओर लिखी जाती है। सुन्दरी को अंक का बोध कराने के कारण अंक बायीं से दायीं ओर इकाई, दहाई........के रूप में लिखे जाते हैं।
 
इस लिपि का अभ्यास करने से भारत की अधिकांश लिपियों का ज्ञान प्राप्त किया जा सकता है।
 
इस लिपि का अभ्यास करने से भारत की अधिकांश लिपियों का ज्ञान प्राप्त किया जा सकता है।
ब्राह्मी लिपि एक वैज्ञानिक लिपि है। इसका प्रयोग वर्ण ध्वन्यात्मक है। इसको लिखने और बोलने में एक रूपता है।
+
ब्राह्मी लिपि एक वैज्ञानिक लिपि है। इसका प्रयोग वर्ण ध्वन्यात्मक है। इसको लिखने और बोलने में एकरूपता है।
 
वर्तमान में भारतवर्ष में अंग्रेजी और उर्दू भाषाओं की लिपियों को छोड़कर समस्त लिपियाँ ब्राह्मी लिपि से विकसित हुई हैं।
 
वर्तमान में भारतवर्ष में अंग्रेजी और उर्दू भाषाओं की लिपियों को छोड़कर समस्त लिपियाँ ब्राह्मी लिपि से विकसित हुई हैं।

२२:४८, १९ मार्च २०१७ के समय का अवतरण


विश्व की प्राचीनतम लिपि: ब्राह्मी लिपि

Scan Pic0010.jpg

ब्राह्मी लिपि भारतवर्ष की प्राचीनतम लिपि है। तीर्थंकर ऋषभदेव की ब्राह्मी और सुन्दरी दो पुत्रियाँ थीं। बाल्यावस्था में वे ऋषभदेव की गोद में जाकर बैठ गईं। ऋषभदेव ने उनके विद्याग्रहण का काल जानकर लिपि और अंकों का ज्ञान कराया।

ब्राह्मी दायीं ओर और सुन्दरी बायीं ओर बैठी थी, ब्राह्मी को वर्णमाला का बोध कराने के कारण लिपि बायीं ओर से दायीं ओर लिखी जाती है। सुन्दरी को अंक का बोध कराने के कारण अंक बायीं से दायीं ओर इकाई, दहाई........के रूप में लिखे जाते हैं। इस लिपि का अभ्यास करने से भारत की अधिकांश लिपियों का ज्ञान प्राप्त किया जा सकता है। ब्राह्मी लिपि एक वैज्ञानिक लिपि है। इसका प्रयोग वर्ण ध्वन्यात्मक है। इसको लिखने और बोलने में एकरूपता है। वर्तमान में भारतवर्ष में अंग्रेजी और उर्दू भाषाओं की लिपियों को छोड़कर समस्त लिपियाँ ब्राह्मी लिपि से विकसित हुई हैं।