13. सयोगकेवली गुणस्थान

ENCYCLOPEDIA से
Sadhna jain (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित १७:२८, २१ मार्च २०२१ का अवतरण (१३. सयोगकेवली गुणस्थान)
(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


१३. सयोगकेवली गुणस्थान

Bhi5007.jpg

यहाँ तेरहवें गुणस्थान में केवलज्ञान प्रगट हो जाता है और क्षायिक भावरूप नवकेवललब्धियाँप्रकट हो जाती हैं । ये परमात्मा अरिहंत परमेष्ठी कहलाते हैं। कुछ अधिक आठ वर्ष कम एक कोटिपूर्व वर्ष तक इस गुणस्थान में केवली भगवान रह सकते हैंं ।